This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

चुनावी तैयारी तेज, अफसर बताएंगे बूथों का हाल

पंचायत चुनाव की तैयारी तेज हो गई है। अधिकारी बूथों का निरीक्षण कर रहे हैं। पोलिग पार्टी रवाना होने से पहले सभी जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेट बूथवार जिला निर्वाचन अधिकारी को रिपोर्ट देंगे। यदि कोई कमी है तो उसे दुरुस्त करने के उपाए भी बताएंगे। यह सभी कार्य 17 अप्रैल से पहले पूर्ण होने हैं।

JagranThu, 15 Apr 2021 11:16 PM (IST)
चुनावी तैयारी तेज, अफसर बताएंगे बूथों का हाल

मुजफ्फरनगर, जागरण टीम। पंचायत चुनाव की तैयारी तेज हो गई है। अधिकारी बूथों का निरीक्षण कर रहे हैं। पोलिग पार्टी रवाना होने से पहले सभी जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेट बूथवार जिला निर्वाचन अधिकारी को रिपोर्ट देंगे। यदि कोई कमी है तो उसे दुरुस्त करने के उपाए भी बताएंगे। यह सभी कार्य 17 अप्रैल से पहले पूर्ण होने हैं।

पंचायत चुनाव के लिए मतदान की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। जनपद में 19 अप्रैल को मतदान होना है। इसके लिए पुलिस-प्रशासन तैयारी में जुटा है। जिला निर्वाचन अधिकारी सेल्वा कुमारी जे और एसएसपी अभिषेक यादव प्रतिदिन गांवों का दौरा रहे हैं। इनके अलावा थानेदार से लेकर जोनल मजिस्ट्रेट और सेक्टर मजिस्ट्रेट बूथों पर तैयारियों का जायजा ले रहे हैं। बूथों पर बांस बल्लियां पहुंचाने की तैयारी भी शुरू हो गई है। डीएम ने सभी अधिकारियों से बूथवार आख्या मांगी है। इसमें बूथों पर शौचालय, बिजली, पंखा, पानी और पोलिग पार्टी के ठहरने की व्यवस्था पर रिपोर्ट देनी है। सभी बूथों पर महिला शौचालय अनिवार्य किया गया है। 17 से 19 अप्रैल तक शराब की दुकानें बंद

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि शासन की गाइडलाइन के तहत पंचायत चुनाव के चलते 17 अप्रैल की शाम छह बजे से 19 अप्रैल को मतदान संपन्न होने तक देशी मदिरा, विदेशी शराब, बीयर, माडल शाप और भांग की दुकानें बंद रहेंगी। यही व्यवस्था मतगणना के दिन अर्थात दो मई को भी रहेगी। वहीं मतदान के दिन सार्वजनिक अवकाश रहेगा। इस दिन समस्त दुकानें और वाणिज्य अधिष्ठान भी बंद रहेंगे। ड्यूटी कटवाने और बदलवाने की होड़

जनपद के करीब आठ हजार कर्मचारियों की मतदान के लिए ड्यूटी लगाई गई है। इस बार महिला कर्मचारियों को भी पीठासीन अधिकारी बनाया गया है। अधिकांश शिक्षिकाएं पीठासीन अधिकारी हैं, जिनका वह विरोध कर रही हैं। बड़ी संख्या में शिक्षिकाओं समेत कर्मचारियों ने ड्यूटी काटने को अर्जियां लगाई हैं। इतना ही नहीं शिक्षिकाओं ने पीठासीन अधिकारी से ड्यूटी हटाकर प्रथम मतदान अधिकारी या द्वितीय मतदान अधिकारी बनाने की मांग की है।

मुजफ्फरनगर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!