जिले में फिर मिले 494 कोरोना संक्रमित

कोरोना संक्रमण तेजी बढ़ रहा है। यही स्थिति रही तो जनवरी में ही कोरोना घर-घर में पहुंचकर लोगों को चपेट में ले लेगा। सोमवार को आई रिपोर्ट ने फिर से स्वास्थ्य विभाग की चिता बढ़ा दी है। एक दिन में ही 494 मिले कोरोना संक्रमित मरीजों में चार छोटे बच्चे भी शामिल हैं। बच्चों में कोरोना का असर बढ़ने से बड़ों की भी चिता बढ़ गई है।

JagranPublish: Mon, 17 Jan 2022 11:47 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 11:47 PM (IST)
जिले में फिर मिले 494 कोरोना संक्रमित

मुजफ्फरनगर, टीम जागरण। कोरोना संक्रमण तेजी बढ़ रहा है। यही स्थिति रही तो जनवरी में ही कोरोना घर-घर में पहुंचकर लोगों को चपेट में ले लेगा। सोमवार को आई रिपोर्ट ने फिर से स्वास्थ्य विभाग की चिता बढ़ा दी है। एक दिन में ही 494 मिले कोरोना संक्रमित मरीजों में चार छोटे बच्चे भी शामिल हैं। बच्चों में कोरोना का असर बढ़ने से बड़ों की भी चिता बढ़ गई है।

कोरोना संक्रमण जिले में तेजी से बढ़ रहा है। सोमवार को स्वास्थ्य विभाग के पास पहुंची जांच रिपोर्ट में 494 कोरोना संक्रमित मरीज निकले हैं। इतनी बड़ी संख्या में एक साथ ही कोरोना संक्रमित मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग की चिता बढ़ी जा रही है। सीएमओ डा. महावीर सिंह फौजदार ने बताया कि सोमवार को सामने आई कोरोना संदिग्धों की जांच रिपोर्ट में 494 कोरोना संक्रमित नए मरीज मिले हैं। इसमें पांच वर्ष से कम आयु के चार बच्चों में भी कोरोना के लक्षण हैं, जिन्हें माता-पिता की निगरानी में होम आइसोलेट किया गया है। इतनी बड़ी संख्या में मिले कोरोना संक्रमित मरीजों में 380 मरीज ऐसे हैं, जो पहले कोरोना संक्रमित मिले मरीजों के संपर्क में आए थे। वहीं 114 मरीज अचानक हुई जांच में सामने आए हैं। कोरोना के नए मरीजों को होम आइसोलेट किया गया है। कोरोना सक्रिय मरीज 2500, पाबंदियां बेअसर

जिले में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 2500 तक पहुंच गई है, लेकिन स्थानीय प्रशासन चुनावी कार्य में व्यस्त होकर रह गया है। शासन ने जिले में 1000 से अधिक सक्रिय मरीज होने पर जिम, सैलून सहित कई प्रकार की गतिविधियां बंद रखने के आदेश दिए थे। 2500 कोरोना सक्रिय मामले होने के बाद भी प्रशासन शासन के निर्देश अमल में नही ला पा रहा है। यही कारण कोरोना के मामले बढ़ने की समस्या बन रहा है।

पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर शुरू हुआ टीकाकरण अभियान

मुजफ्फरनगर, टीम जागरण। जिले में स्वास्थ्य विभाग ने घर-घर जाकर टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया है। इसके तहत स्वास्थ्य विभाग की 52 टीमें फ्रंटलाइन वर्कर को बूस्टर डोज देने के साथ किशोर-किशोरियों को पहली डोज लगा रही है। इसके साथ टीकाकरण का रिकार्ड भी तैयार किया जा रहा है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. प्रशांत कुमार ने बताया जिले में कोविड टीकाकरण के शत-प्रतिशत लक्ष्य को हासिल करने के लिए स्वास्थ्य विभाग कृत संकल्पित है। ऐसे में टीकाकरण को लेकर नए-नए तरीके अपनाए जा रहे हैं। इसी कड़ी में पल्स पोलियो अभियान की तर्ज पर हर घर-घर दस्तक अभियान शुरू किया है। इसके तहत स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जाकर लाभार्थियों को कोविड से बचाव का टीका लगा रहे हैं। जिले में सोमवार को बड़ी संख्या में टीकाकरण हुआ, जिनमें 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग में बच्चों का टीकाकरण हुआ। 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में अलग से प्रथम डोज और दूसरी डोज लगाई गई। उन्होंने बताया हर घर दस्तक अभियान में 52 टीम जुटी हैं, जिनमें 16 एएनएम व 36 आशा कार्यकर्ता शामिल हैं। पुरकाजी इलाके में प्रथम डोज का 100 प्रतिशत तथा दूसरी डोज का 80 प्रतिशत टारगेट पूरा कर लिया गया। उन्होंने कहा आम जनता को इसमें सहयोग करना चाहिए। कोरोना को जड़ से खत्म करने के लिए टीका लगवाना बहुत जरूरी है। लोगों को टीके से नहीं कोविड से सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने सभी से टीका लगवाने की अपील की। 836 फ्रंटलाइन वर्कर को लगी बूस्टर डोज

जिले में मतदान से पूर्व फ्रंटलाइन वर्कर को बूस्टर डोज दी जा रही है। सोमवार को 836 फ्रंटलाइन वर्कर को कोरोना की बूस्टर डोज दी गई। वहीं 15 से 18 वर्ष के 11,230 किशोर-किशोरियों को पहली डोज देकर सुरक्षित किया गया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept