This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

अब पैसे के लिए नहीं होगी दिक्कत, हॉटस्पॉट में पहुंचेगा मोबाइल एटीएम Moradabad News

लॉकडाउन अवधि में फीस ज्यादा लेने के संबंध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी को अवगत कराने के लिए इंडियन मेडीकल एसोसिएशन को जानकारी दी जाएगी।

Ravi SinghFri, 15 May 2020 07:12 AM (IST)
अब पैसे के लिए नहीं होगी दिक्कत, हॉटस्पॉट में पहुंचेगा मोबाइल एटीएम  Moradabad News

मुरादाबाद, जेएनएन। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए देश में लॉकडाउन का तृतीय चरण चल रहा है। हॉटस्पॉट और कंटेंनमेंट जोन में डोर टू डोर सप्लाई के माध्यम से आवश्यक सामानों की आपूर्ति की जा रही है। इस दौरान जनपद में दूसरे शहरों और राज्यों के लोग फंसे हुए हैं, वह अपने घरों को लौटना चाहते हैं। हॉटस्पॉट के अंदर और बाहर किस तरह की अभी पाबंदियां लागू हैं, इन सभी सवालों का जवाब देने के लिए दैनिक जागरण संवाद में जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह व एसएसपी अमित पाठक पहुंचे। दोनों वरिष्ठ अधिकारियों ने फोन पर जनता की समस्याओं को सुनकर उनका निस्तारण किया। पेश है उनसे और पाठकों बीच हुए संवाद के प्रमुख अंश।

समस्या : मैं राजकीय सिविल पेंशनर्स परिषद से जुड़ा हूं। मेरा आवास हॉटस्पॉट क्षेत्र हैं, एटीएम में पैसे नहीं हैं।

मोहन मेहरोत्रा, बर्तन बाजार, कोतवाली

समाधान-हॉटस्पॉट में मोबाइल बैकिंग का प्रयोग किया जा सकता है। लेकिन अगर कैश की परेशानी हो रही है, तो मोबाइल एटीएम वैन भेजने की व्यवस्था की जाएगी। बैंक मित्रों के माध्यम से समस्या का निस्तारण किया जाएगा। हॉटस्पॉट में किसी को कोई परेशानी न हो इसका पूरा ध्यान पुलिस और प्रशासन के अफसर रख रहे हैं।

समस्या: हमारी कॉलोनी को हॉटस्पॉट घोषित कर दिया गया है। जबकि हमारा घर कोरोना मरीज के घर से दूर है। ऐसे में हमें छूट मिलनी चाहिए।

दिलगीर आलम, हिमगिरी कॉलोनी

समाधान-जिस मुहल्ले में एक भी कोरोना संक्रमित मिलता है, वहां पर एक किलोमीटर के क्षेत्र को पुलिस और प्रशासन की निगरानी में सील कर दिया जाता है। अगर मरीज मिलने के बाद 14 दिनों कोई दूसरा मरीज नहीं मिलता तो उस स्थिति में पहले ऑरेंज और फिर ग्रीन जोन किया जाता है।

समस्या- हॉटस्पॉट इलाकों में मेडिकल इमरजेंसी में भी नहीं निकलने दे रहे हैं। मेरी पत्नी गर्भवती है, पुलिस हमें अस्पताल जाने से रोकती है।

मनीष कुमार, पीरगैब

समाधान : मेडिकल इमरजेंसी में पुलिस आवश्कता अनुसार छूट देती है। अस्पताल ले जाने के लिए ई-पास के लिए एक दिन पहले डॉक्टर के पर्चे के साथ आवेदन कर सकते हैं। कुछ लोग ई-पास आवेदन में संबंधित दस्तावेज नहीं अपलोड करते हैं। इससे उनका आवेदन रिजेक्ट हो जाता है। इमरजेंसी में अस्पताल पहुंचाने के लिए प्रत्येक थाने में दो-दो एंबुलेंस मौजूद हैं।

समस्या-मैं साठ साल का हो चुका हूं। मेरी एक दिव्यांग बेटी है। लॉकडाउन में राशन तो मुझे मिल रहा है, लेकिन कुछ काम मिल जाता तो बेहतर होता।

विपिन रस्तोगी, बर्तन बाजार, कोतवाली

समाधान : लॉकडाउन अवधि तक राशन सामग्री की व्यवस्था होती रहेगी। लॉकडाउन खत्म होने के बाद मुद्रा लोन लेकर आप कोई भी छोटा व्यापार कर सकते हैं। आप लीड बैंक मैनेजर से मिलकर बातचीत कर सकते हैं। प्रशासन की ओर से आपकी पूरी मदद की जाएगी।

समस्या : तीन माह से मुझे कोटेदार ने राशन नहीं दिया है। बार-बार मुझे सूची अपडेट होने की बात कहकर वापस कर देते हैं।

फरमान अली, दौलत बाग, नागफनी

समाधान-राशन कार्ड आपने नया बनवाया है। ऐसे में सूची अपडेट न होने के पीछे आधार कार्ड नंबर का अपडेट नहीं होना होगा। आप आधार कार्ड नंबर अपडेट कराएं। इसके बाद सूची अपडेट होने पर ही राशन मिलना शुरू हो जाएगा।

समस्या : मेरी बेटी की शादी तय हो चुकी है। अगले माह मुझे कुछ लोगों के साथ रामपुर जाने की अनुमति दें। जिससे मेरी बेटी की शादी हो जाएगी।

प्रदीप कुमार अग्रवाल, नागफनी

समाधान-अभी आप का क्षेत्र हॉटस्पॉट में है। फिलहाल अभी कोई अनुमति नहीं दी जा सकती है। 17 मई के बाद अगर कोई नई गाइड लाइन आती है, तो आपको मदद प्रदान की जाएगी। अभी सभी सार्वजनिक कार्यक्रम प्रतिबंधित हैं।

समस्या : मैं मध्य प्रदेश से आई हूं। बीते डेढ़ माह से यहीं पर फंसी हुई है। मेरी दिव्यांग बेटी भी है। मुझे घर भेजने की व्यवस्था कर दीजिए।

आदर्श सक्सेना, लाइनपार मझोला

समाधान : प्रवासियों को अपने गृह राज्य भेजने के लिए जन सुनवाई पोर्टल में रजिस्ट्रेशन कराए जा रहे हैं। इसके साथ ही हेल्पलाइन नंबर 1070 में फोन करके भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। जब भी स्थानीय स्तर से बस या ट्रेन भेजी जाएगी, आपको सूचना दी जाएगी। अगर आप स्वयं के वाहन जाना चाहते हैं, तो इस परिस्थिति में आप को इजाजत मिल जाएगी।

समस्या : मेरी बच्ची जिस स्कूल में पढ़ती है, वहां से लगातार फीस देने के मैसेज भेजे जा रहे हैं। जबकि सरकार ने फीस न लिए जाने के निर्देश दिए हैं।

विजय कुमार, कांशीराम नगर

समाधान : लॉकडाउन के दौरान स्कूल संचालकों को फीस न लेने के निर्देश दिए गए हैं। फीस माफ करने का अभी तक कोई शासनादेश नहीं आया है। मैसेज को लेकर ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है।

समस्या : मुझे घर से निकलने पर पुलिस रोकती है। जबकि पैसे निकालने के लिए बैंक जाना जरूरी है।

नफीस अहमद, रामपुर दोराहा

समाधान : कोई भी व्यक्ति वाहन के साथ बिना अनुमति के नहीं निकल सकता है। अगर बैंक शाखा पास में है,तो आप पैदल जा सकते हैं। वाहन के साथ जाने की अनुमति नहीं है।

मुरादाबाद में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!