Dengue in Moradabad : ज‍िले में लगातार ब‍िगड़ रहे हालात, 22 और लोगों में हुई डेंगू की पुष्टि

Dengue in Moradabad शहर के 70 वार्डों में एंटी लार्वा का छिड़काव और फागिंग किए जाने का दावा पूरी तरह हवा-हवाई साबित हो चुका है। शहर की घनी आबादी के साथ ही गांवों में डेंगू के मरीज हैं। सभी क्लीनिक मरीजों से फुल हैं।

Narendra KumarPublish: Thu, 11 Nov 2021 07:43 AM (IST)Updated: Thu, 11 Nov 2021 07:43 AM (IST)
Dengue in Moradabad : ज‍िले में लगातार ब‍िगड़ रहे हालात, 22 और लोगों में हुई डेंगू की पुष्टि

मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। Dengue in Moradabad : डेंगू को लेकर इस बार जिले के हालात पूरी तरह बेकाबू हैं। बुखार आने पर ही लोग डेंगू की दहशत से जूझ रहे हैं। हर दिन डेंगू के मरीजों की पुष्टि होने से लोग परेशान हैं। बुधवार को 22 लोगों में डेंगू की पुष्टि हुई है। हालात ये हैं कि मलेरिया विभाग न जाने कहां एंटी लार्वा का छिड़काव करा रहा है। संक्रामक रोग के लिए चलाए गए अभियान का रिजल्ट पूरी तरह शून्य नजर आ रहा है।

शहर के 70 वार्डों में एंटी लार्वा का छिड़काव और फागिंग किए जाने का दावा पूरी तरह हवा-हवाई साबित हो चुका है। शहर की घनी आबादी के साथ ही गांवों में डेंगू के मरीज हैं। आलम ये है कि झोलाछाप, बीयूएमएस और एमबीबीएस के क्लीनिक मरीजों से फुल हैं। सरकारी अस्पताल में भी मरीजों की संख्या अधिक है। लेकिन, तंत्र स्थिति को समझने के लिए तैयार नहीं है। बुधवार को भी जिला अस्पताल की पैथलैब से दौलतबाग की इकरा, जयंतीपुर के जहांगीर, रामगंगा विहार के कौशल, नवाबपुरा के मुहम्मद उबैद, तौलत, लता, करूला के अजीम, शहरोज, असालतपुरा के उवैस, अलीशा, हरथला के कांत, अगवानपुर के मुहम्मद हनीफ, लालबाग के कमरुल, चंद्रनगर के शिवा, लाइनपार मंडी समिति के तेजपाल सिंह, गंज की वंदना शर्मा, फरीदपुर उमरी के मुहम्मद अहिल, लाकड़ी फाजलपुर के सोमपाल सिंह चौहान, पाकबड़ा के नितिन कुमार, चौधरपुर के कमलेश, कुंदरकी के शाहजहां, मैनाठेर के नदीम में डेंगू की पुष्टि हुई है।

आखिर कहां छिड़क डाली दवा : मलेरिया विभाग और नगर निगम के संयुक्त अभियान के बाद भी शहर में डेंगू के मरीजों की भरमार है। हालात पूरी तरह बेकाबू हो चुके हैं। आखिर दोनों विभागों ने संयुक्त अभियान चलाकर दवा का छिड़काव कहां कर दिया। सफाई पर किसी का कोई ध्यान नहीं है।

बुखार के मरीजों की जांच कराने पर डेंगू की पुष्टि हो रही है। उन सभी मरीजों से संपर्क करने के बाद उन्हें दवा और खानपान को लेकर जानकारी दी जा रही है। इमरजेंसी के लिए कंट्रोल रूम का नंबर भी दिया जा रहा है। जिला अस्पताल में भर्ती करने की पूरी सुविधा मरीजों को दी जा रही है।

डाॅ. एमसी गर्ग, मुख्य चिकित्सा अधिकारी

Edited By Narendra Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept