Covid-19 Omicron Variant : कोरोना के नए वेरिएंट पर च‍िक‍ित्‍सक की सलाह, ये लक्षण द‍िखें तो हो जाएं सतर्क

Covid-19 Omicron Variant कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर अभी से च‍िक‍ित्‍सकों के पास जानकारी के ल‍िए लोग फोन करने लगे हैं। डॉक्‍टर को लेकर घबराने के बजाय सचेत रहने की सलाह दे रहे हैं। वहीं स्‍वास्‍थ्‍य व‍िभाग भी अलर्ट मोड पर है।

Narendra KumarPublish: Mon, 29 Nov 2021 03:45 PM (IST)Updated: Mon, 29 Nov 2021 03:45 PM (IST)
Covid-19 Omicron Variant : कोरोना के नए वेरिएंट पर च‍िक‍ित्‍सक की सलाह, ये लक्षण द‍िखें तो हो जाएं सतर्क

मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। Covid-19 Omicron Variant : एक बार फ‍िर से कोरोना के नए वेरिएंट से लोग दहशत में आ गए हैं। स्‍वास्‍थ्‍य महकमे की ओर से बचाव के इंतजाम भी शुरू कर द‍िए गए हैं। इसके अलावा सैंपलिंग भी ज्‍यादा कर दी गई है। इन सबके बीच कोरोना के नए वेरिएंट के प्रभाव को लेकर कई सवाल पैदा हो रहे हैं, इनमें से कई के जवाब अभी नहीं म‍िल पाए हैं। दूसरी लहर में संक्रम‍ित हो चुके लोग भी एहत‍ियातन च‍िक‍ित्‍सकों से कई सवाल पूछ रहे हैं। डॉक्‍टर लोगों को दहशत में आने के बजाय ज्‍यादा सचेत रहने की सलाह दे रहे हैं।  

सिद्ध अस्‍पताल के हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ अनुराग मेहरोत्रा का कहना है क‍ि कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर अभी ज्‍यादा घबराने की जरूरत नहीं है, हालांक‍ि लोगों को पहले से ज्‍यादा सचेत रहना होगा। ज‍िस तरह से पहली और दूसरी लहर में सभी ने कोव‍िड-19 गाइड लाइन का पालन क‍िया, घर में भी मास्‍क लगाकर रखा, शारीरिक दूरी का भी ध्‍यान रखा, उसी तरह से इस बार भी करना होगा। सावधानी बरतने के ल‍िए संक्रमण फैलने का इंतजार करने के बजाय अभी से सचेत हो जाना चाह‍िए। नए वेरिएंट के प्रभाव पर च‍िक‍ित्‍सक का कहना है क‍ि अभी इसे लेकर कुछ कहना जल्‍दबाजी होगा। हां, सभी लोग स्‍वास्‍थ्‍य पर पूरा ध्‍यान दें, प्रत‍िरोधक क्षमता का व‍िकास करें, हेल्‍दी खाना खाएं, रोजाना एक घंटे व्‍यायाम भी करें।

ये हैं लक्षण : कोरोना के नए वेरिएंट के लक्षणों के बारे में अभी कुछ ज्‍यादा स्‍पष्‍ट नहीं हो पाया है। हालांक‍ि अत्यधिक थकान, मांसपेशियों में हल्‍का दर्द, गले में खराश और सूखी खांसी आदि की परेशानी हो तो सचेत हो जाना जरूरी हो जाता है।

स्‍वास्‍थ्‍य व‍िभाग अलर्ट : नए वेरिएंट ओमिक्रोन को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट है। हालांकि दूसरी लहर के बाद से ही स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को मजबूत कर लिया गया था, इससे किसी मरीज को दुश्वारी का सामना नहीं करना पड़ेगा। जिला महिला अस्पताल की 100 बेड की बिल्डिंग में सेंट्रल आक्सीजन लाइन बिछने के साथ ही आक्सीजन कैप्सूल, 1000 लीटर प्रति मिनट आक्सीजन की उपलब्धता का पुरुष अस्पताल में प्लांट शुरू हो चुका है।

Edited By Narendra Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept