मुरादाबाद में गत्ता कारोबारी से डेढ़ लाख की ठगी करने का आरोपित गिरफ्तार, मां के खाते में ट्रांसफर कराए थे रुपये

Fraud in Moradabad गत्ता कारोबारी से एक लाख 40 हजार रुपये की ठगी करने के आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने ठगी की रकम 1.32 लाख रुपये भी बरामद कर लिए। चेकबुक तीन एटीएम कार्ड दो आधार कार्ड पांच सिम भी बरामद किए है।

Samanvay PandeyPublish: Mon, 17 Jan 2022 03:10 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 03:10 PM (IST)
मुरादाबाद में गत्ता कारोबारी से डेढ़ लाख की ठगी करने का आरोपित गिरफ्तार, मां के खाते में ट्रांसफर कराए थे रुपये

मुरादाबाद, जेएनएन। Fraud in Moradabad : गत्ता कारोबारी से एक लाख 40 हजार रुपये की ठगी करने के आरोपित को सिविल लाइंस थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपित के कब्जे से पुलिस ने ठगी की रकम 1.32 लाख रुपये बरामद किए गए। इसके साथ ही तीन चेकबुक, तीन एटीएम कार्ड, दो आधार कार्ड, पांच सिम और एक मोबाइल बरामद किया गया है। एसएसपी ने घटना का पर्दाफाश करने वाली टीम को दस हजार रुपये का पुरस्कार दिया।

रविवार को पुलिस लाइन में एसएसपी बबलू कुमार ने पत्रकार वार्ता में बताया कि सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के अगवानपुर निवासी इकराम ने ठगी की शिकायत दर्ज कराई थी। आरोप लगाए थे कि पेपर मिल के लिए गत्ता खरीदने के नाम पर 1.40 लाख रुपये की ठगी की गई है। मुकदमा दर्ज करते हुए जांच शुरू की गई। रविवार को पुलिस ने इस मामले में आरोपित मुहम्मद खालिद निवासी गली नंबर 11 मुहल्ला लद्दावाला थाना कोतवाली जनपद मुजफ्फरनगर को गिरफ्तार किया गया।

आरोपित मुहम्मद खालिद उत्तराखंड देहरादून के आइएसबीटी के पास पटेलनगर थाना क्षेत्र की आजाद कालोनी फात्मा मस्जिद पास स्थित किराए पर रह रहा है। वह पहले कबाड़ी का काम करता था। ठगी करने के लिए आरोपित ने अपनी मां की आइडी पर सिम खरीदा था। इसके बाद वेबसाइट से कबाड़ियों और पेपर फैक्ट्रियों के नंबर निकाल लिए। आरोपित ने अमित बनकर इकराम को फोन किया। बताया कि वह गत्ते की सप्लाई करता है।

इसके बाद उसने अंजलि ट्रेडर्स से अगवानपुर के जीनियस पेपर मिल के नाम गत्ते का ट्रक बुक करा लिया। पीड़ित इकराम तीन बार में आरोपित की मां संजीदा के खाते में एक लाख 40 हजार रुपये ट्रांसफर कर दिए। आरोपित ने पैसे एटीएम से निकाल लिए। आरोपित ने बताया कि उसने आठ हजार रुपये खर्च कर दिए। जबकि पुलिस ने एक लाख 32 हजार रुपये बरामद कर लिए।

Edited By Samanvay Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept