रामपुर पहुंचकर अब्दुल्ला आजम बोले, सीतापुर जेल में आजम खां की जान को है खतरा, चित्रकूट जेल की घटना याद दिलाई

Abdullah released from jail सांसद आजम खां के बेटे अब्दुल्ला आजम ने सीतापुर जेल से रिहा होने के बाद भाजपा पर निशाना साधा। कहा उनके पिता की जान को खतरा है। अगर उन्हें कुछ होता है तो इसके लिए शासन और जेल प्रशासन जिम्मेदार होगा।

Samanvay PandeyPublish: Sun, 16 Jan 2022 04:03 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 07:02 AM (IST)
रामपुर पहुंचकर अब्दुल्ला आजम बोले, सीतापुर जेल में आजम खां की जान को है खतरा, चित्रकूट जेल की घटना याद दिलाई

रामपुर, जेएनएन। Abdullah released from jail : सांसद आजम खां के बेटे अब्दुल्ला आजम ने जेल से रिहा होने के बाद भाजपा सरकार पर निशाना साधा।कहा कि उनके पिता की जान को खतरा है। अगर उन्हें कुछ होता है तो इसके लिए शासन और जेल प्रशासन जिम्मेदार होगा। सब जानते हैं चित्रकूट की जेल में क्या हुआ और यूपी की बाकी जिलों में क्या हो रहा है। सीतापुर जेल से 688 दिन बाद रिहा होकर शनिवार देर रात घर पहुंचे अब्दुल्ला आजम ने सुबह मीडिया से वार्ता की।

कहा कि भाजपा के शासन में जुल्म की इंतेेहा हो गई है। रामपुर के लोगों को बहुत परेशान किया गया है। फर्जी मुकदमों में जेल भेजा गया है। आज भी उनके घर के आसपास पुलिस लगा दी गई है। कोविड प्रोटोकाल के नाम पर शोषण कर रहे हैं। घर तक पर लोग नहीं आ सकते हैं। कमिश्नर साहब ने मना कर दिया होगा। हमारे साथ जितनी ज्यादती हो सकती थी वह हुई।भैंस चोर, बकरी चोर बता दिया और जो रह गई है वह भी कर लो।

अब्दुल्ला ने कहा कि जेल में भी आजम खां पर जुल्म किया गया। उनकी हालत गंभीर थी सरकार ने उनके इलाज में भी नौ दिन की देरी कराई। उन्हें आठ बाई 10 की कोठरी में रखा गया, जिसमें दो फीट का टॉयलेट है। आज भी उनके वालिद बेगुनाह होते हुए जेल में बंद हैं।एक ऐसे मुकदमे में, जिसमें सात लोग जमानत पर बाहर हैं।एक अकेले आजम खां जेल में है। उन्होंने कहा कि भाजपा डूबता जहाज है।

नेता भी इसे छोड़ कर जा रहे हैं। लेकिन, मंडल में कुछ उच्च अधिकारी ऐसे हैं जिनके रहते निष्पक्ष चुनाव की उम्मीद नहीं की जा सकती, इसलिए चुनाव आयोग को इसका संज्ञान लेना चाहिए। सरकार की ज्यादतियों से जनता तंग आ चुकी है और यह चुनाव सरकार बनाम अवाम होगा। रामपुर वालों की हड्डियां तोड़ने, भैंस और बकरी चोरी में जेल भेजने के लिए पुलिस है। यहां पुलिस के इंस्पेक्टर सामूहिक दुष्कर्म में पकड़े जाते है।

Edited By Samanvay Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept