हस्तिनापुर के मंच से योगी की नई चुनावी चौसर

हस्तिनापुर के चुनावी महाभारत में नई चौसर बिछाई जा रही हैं। आक्रामक तेवर में सीधी बात करने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हस्तिनापुर में राजनीतिक तरकश से चुन-चुनकर कई निशानों पर तीर छोड़ा।

JagranPublish: Sat, 29 Jan 2022 07:27 AM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 07:27 AM (IST)
हस्तिनापुर के मंच से योगी की नई चुनावी चौसर

संतोष शुक्ल, मेरठ : हस्तिनापुर के चुनावी महाभारत में नई चौसर बिछाई जा रही हैं। आक्रामक तेवर में सीधी बात करने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हस्तिनापुर में राजनीतिक तरकश से चुन-चुनकर कई निशानों पर तीर छोड़ा। उन्होंने गुर्जर और जाट वोटों को साधने के लिए भावनात्मक चौसर फेंका, वहीं औघड़नाथ मंदिर को क्रांति का मंदिर बताकर न सिर्फ राष्ट्रवाद का तार छेड़ा, बल्कि इसे कांवड़ यात्रा से जोड़कर आस्था का पारा भी चढ़ाया।

गंगा किनारे बसा हस्तिनापुर भले ही राज्य सरकारों की आंखों से ओझल रहा, लेकिन राजनीति का पुराना अखाड़ा माना जाता है। एक बार फिर हवा बदली हुई है। 2022 विस चुनाव से पश्चिम उप्र की राजनीति तेजी से करवट ले रही है। कैराना पलायन, मुजफ्फरनगर दंगे, कांवड़ यात्रा और जिन्ना-गन्ना जैसे मुद्दे हवा में तैर रहे हैं। हस्तिनापुर में सीएम योगी चुनाव प्रचार के लिए पहुंचे तो उनका होमवर्क साफ नजर आया। इस सीट पर गुर्जरों की बड़ी तादाद 2017 में भाजपा की जीत की बड़ी वजह थी। सीएम ने गुर्जर समाज के महान स्वतंत्रता सेनानी धनसिंह गुर्जर का जिक्र किया तो हाल तालियों से गूंज उठा। इसका राजनीतिक संदेश दूर तक गया। गत दिनों गुर्जरों के एक संगठन ने स्थानीय विधायक के प्रति नाराजगी जताई थी। राष्ट्रवाद के साथ आस्था का संगम

किसानों को 'अन्नदाता' की संज्ञा देते हुए पूर्व प्रधानमंत्री चौ. चरण सिंह को स्वतंत्र भारत में किसानों की सबसे बड़ी आवाज बताया। इस बहाने सीएम योगी ने जाटों एवं किसानों के दिल में उतरने का प्रयास किया। सीएम ने औघड़नाथ मंदिर को क्रांति का मंदिर बताकर राष्ट्रवाद का कार्ड खेला। गत दिनों पीएम नरेन्द्र मोदी औघड़नाथ एवं शहीद स्मारक पहुंचे थे, जिससे पश्चिम उप्र की राजनीति का रंग और गाढ़ा हो गया। सीएम योगी ने हस्तिनापुर में औघड़नाथ मंदिर के साथ ही कांवड़ यात्रा का जिक्र करते हुए साफ किया कि भक्तों पर पुष्पवर्षा जारी रहेगी। राष्ट्रवाद और आस्था की डोर एक साथ मजबूत करने का प्रयास किया। हस्तिनापुर में गंगा घाटों को विकसित करने की बात कहते हुए सीएम ने यहां की पौराणिक जड़ों को भी याद दिलाया। बाक्स

हस्तिनापुर से दिल्ली..सिर्फ 90 मिनट

सीएम योगी ने कहा कि पहले हस्तिनापुर से दिल्ली पहुंचने में पांच से छह घंटे, जबकि अब सिर्फ डेढ़ घंटे लगेंगे। मेरठ में 30 हजार करोड़ रुपये की लागत से देश की पहली रैपिड रेल व प्रदेश का पहला खेल विवि बन रहा है। सपा-बसपा ने चीनी मिलों को बेचा। भाजपा सरकार ने गन्ना किसानों को 1.56 लाख करोड़ रुपये भुगतान किया है। मेरठ में एक लाख किसानों का कर्ज माफ किया। 54 हजार किसानों को सम्मान निधि मिल रही है।

कोरोना काल में गायब थे, अब वोट मांगने निकल आए

मेरठ : सीएम योगी ने हस्तिनापुर में कहा कि विरोधी दलों ने कोरोना काल में भय और दहशत का माहौल बढ़ाया, लेकिन किसी मरीज की मदद के लिए आगे नहीं आए। अखिलेश समेत सभी नेता घरों में कैद रहे। ढाई-तीन साल बाद अब वोट मांगने निकले हैं, जिसे जनता याद रखेगी। सीएम योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने पहले दिन से कोरोना नियंत्रण की कमान संभाली। केंद्र एवं राज्य की भाजपा सरकार ने जीवन और जीविका को बचाया। चीनी मिलों से वसूली करते थे सपाई गुंडे

सीएम योगी ने कहा कि पिछली सरकार में सपाई गुंडे चीनी मिलों से वसूली करते थे। उनके कार्यकाल में कई मिलें बंद हुई। लेकिन भाजपा सरकार किसानों को 12 से 16 दिन के अंदर भुगतान कर रही है। पिछली सरकार का जितना प्रदेश का वार्षिक बजट था, उतना हम किसानों के खाते में डाल चुके हैं।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept