बागपत में छात्रा से छेड़छाड़ के बाद जान से मारने की भी धमकी, दो समुदायों में तनाव

Molestation In Baghpat बागपत में कक्षा नौ की एक छात्रा के साथ छेड़छाड़ का मामला सामने आया है। यह मामला दो समुदायों के बीच जुड़ा है। जान से मारने की धमकी भी दी गई। पुलिस ने फिलहाल दोनों युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

Prem Dutt BhattPublish: Mon, 17 Jan 2022 02:20 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 02:20 PM (IST)
बागपत में छात्रा से छेड़छाड़ के बाद जान से मारने की भी धमकी, दो समुदायों में तनाव

बागपत,जागरण संवाददाता। बागपत में संप्रदाय विशेष के दो युवकों ने नौवीं की छात्रा से छेड़छाड़ की गई। विरोध पर जान से मारने की धमकी दी। आरोपित युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। मामला दो समुदाय से जुड़ा होने से उनके बीच तनाव बना है। वहीं इस संबंध में थाना प्रभारी का कहना है कि आरोपित युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। केस की विवेचना के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। गांव में पुलिस चौकी खोलने की मांग भी उठाई गई।

यह है मामला

यहां छपरौली थाना क्षेत्र के एक गांव के व्यक्ति ने बताया कि उनकी 16 वर्षीय बेटी नौवीं की छात्रा है। बेटी गोबर डालने के लिए घर से बाहर करीब 300 मीटर दूर एक स्थान पर जाती है। आरोप है कि रास्ते में संप्रदाय विशेष के दो युवक बेटी के साथ छेड़छाड़ करते हैं। बेटी के द्वारा घटना से अवगत कराने पर आरोपित युवकों को समझाया गया, लेकिन अपनी हरकतों से बाज नहीं आए। इतना ही नहीं आरोपित युवकों ने जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने पुलिस से आरोपित युवकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। थाना प्रभारी विनोद कुमार का कहना है कि आरोपित युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। केस की विवेचना के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

समझौते को हुई पंचायत, नहीं पहुंचे आरोपित युवक

पीड़ित छात्रा के पिता ने बताया कि उन पर केस में समझौते का दबाव बनाया जा रहा है। इस संबंध में सुबह से शाम तक घर पर व्यक्तियों आवागमन बना रहता है। गत 15 जनवरी को केस में समझौते के लिए गांव में पंचायत हुई। जिसमें आरोपित युवकों को कहने के बाद भी नही बुलाया गया, इसीलिए पंचायत में कोई निर्णय नहीं हुआ।

गांव में बने पुलिस चौकी

पीड़ित छात्रा के स्वजन का कहना है कि छात्रा के साथ हुई यह घटना पहली नहीं है। रास्ते से गुजरते समय अन्य महिलाओं और युवतियों पर भी छीटाकशी की जाती है। इस घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए गांव में पुलिस चौकी होनी जरूरी है।

Edited By Prem Dutt Bhatt

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept