अमित शाह बोले-यूपी में योगी आदित्यनाथ के राज में माफिया मुर्गा बनकर समर्पण करने को मजबूर

गृह तथा सहकारिता मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को सहारनपुर में उत्तर प्रदेश को शिक्षा के क्षेत्र में बड़ी सौगात दी। उन्होंने मां शाकुंभरी राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया। पश्चिमी उत्तर प्रदेश तथा ब्रज क्षेत्र के बूथ प्रभारी के रूप में शाह की पश्चिमी उत्तर प्रदेश की पहली यात्रा थी।

Dharmendra PandeyPublish: Thu, 02 Dec 2021 09:29 AM (IST)Updated: Thu, 02 Dec 2021 10:24 PM (IST)
अमित शाह बोले-यूपी में योगी आदित्यनाथ के राज में माफिया मुर्गा बनकर समर्पण करने को मजबूर

सहारनपुर, जेएनएन। शिक्षा से प्रगति, देश की उन्नति के नारे के साथ गुरुवार को सहारनपुर के पुंवारका में मां शाकुम्भरी विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया गया। इस मौके पर जनसभा में गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार के एक-एक काम गिनाकर यह दावा किया कि पांच वर्ष पूर्व अपराध के लिए पहचाने जाने वाले पश्चिमी उप्र में अब विकास का बोलबाला है। उन्होंने याद दिलाया कि इस क्षेत्र की जनता ने पौने पांच वर्ष पहले परिवर्तन कर दिखाया तो भाजपा ने भी पलायन रोककर वादा पूरा किया। योगीराज का सुशासन ही है कि कभी पुलिस को डराने वाले माफिया आज मुर्गा बनकर पुलिस के सामने सरेंडर कर रहे हैं। 

भीड़ के बीच योगी-मोदी के गूंजते नारों से आह्लादित शाह ने भी जनता से कनेक्ट करने में देर नहीं की। विजय संकल्प की मुट्ठी बंधाकर तीन बार भारत माता की जय का घोष कराया। हाथोंहाथ संकल्प लिया कि इस बार भी विस चुनावों में भाजपा 300 पार जाएगी। युवाओं की ताकत शाह जानते हैं लिहाजा उन्होंने युवाओं को जिगर का टुकड़ा कहकर पुकारा।

कानून-व्यवस्था पर योगी सरकार पर लगातार हमलावर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर अमित शाह बरसे। गृहमंत्री बोले-पता नहीं अखिलेश कौन से चश्मे से देख रहे हैं। मैं आंकड़े लेकर आया हूं। बताने लगे, योगीराज में अखिलेश की सरकार की तुलना में डकैती में 70 फीसद, लूट में 69, हत्या में 30, बलवा में 31, दहेज मृत्यु में 22.5 फीसद की कमी आयी है। एकतरफा केस की प्रवृत्ति खत्म हुई है। दंगाइयों को प्रदेश से बाहर खदेड़ माफियाराज को खत्म कर कानून का राज कायम किया गया है। इसके साथ ही उन्होंने 90 फीसद गन्ना भुगतान, गोहत्या पर कड़ाई, बहन-बेटियों की सुरक्षा जैसी योगी सरकार की कई और उपलब्धियां गिनाईं।

दिल्ली से सहारनपुर की दूरी अब सात की बजाय ढाई-तीन घंटे हो जाने पर शाह ने कहा, मोदी ने केवल सड़क नहीं बल्कि दिल की दूरियों को भी कम किया है। सात साल के शासन में दलित, पिछड़े, गरीब हर किसी का कल्याण हुआ है। घर-घर तक बिजली पहुंचाई, शौचालय बनाया। कोरोनाकाल में देशभर में 60 करोड़ और उप्र में 15 करोड़ लोगों को हर माह पांच किलो राशन दे रहे हैं।

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में गृहमंत्री ने 50.43 एकड़ में बनने वाले मां शाकुम्भरी विवि का शिलान्यास किया। इस विवि में 2022 से शिक्षण सत्र शुरू होगा। पहले चरण का काम जून, 2023 तक पूरा कर लिया जाएगा। मौके पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा, केंद्रीय राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान भी मौजूद थे।

वंशवाद-जातिवाद नहीं, हमने पकड़ी राष्ट्रवाद-विकासवाद की राह : विश्वविद्यालय के शिलान्यास कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी विपक्ष पर हमलावर रहे। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने केवल वंशवाद और जातिवाद की बुनियाद पर शासन किया और इससे राष्ट्रवाद-विकासवाद को नहीं साधा जा सकता है। यही वजह है कि वर्ष 2017 तक उप्र एक बीमारू राज्य हो गया था। दंगों के दंश और माफियाराज ने प्रदेश की तस्वीर बदरंग कर दी थी। हमने पिछले पांच वर्ष में उप्र को संपन्न राज्य की श्रेणी में खड़ा किया। कानून-व्यवस्था, महिला सुरक्षा और विकास का एजेंडा सेट किया। इसी कालखंड में कांवड़, होली-दिवाली, जन्माष्टमी शांतिपूर्ण ढंग से मनाया। 500 वर्ष का इंतजार खत्म कर अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण शुरू कर दिया है। गन्ना किसानों को अब तक 1.42 लाख करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है। हाईवे, एक्सप्रेसवे, मेट्रो, उड़ान, विवि बनाकर नव सृजन कर रहे हैं। सोच ईमानदार, काम दमदार का यही प्रमाण है।

विवि का नाम मां शाकुम्भरी देवी के नाम पर क्यों : मां शाकुम्भरी देवी सहारनपुर की अधिष्ठात्री देवी हैं। उप्र के सहारनपुर के उत्तर में जिला मुख्यालय से 42 किमी की दूरी पर जसमौर गांव में मां शाकुम्भरी देवी का मंदिर है। शिवालिक पर्वतमाला पर विराजमान मां शाकुम्भरी देवी की गणना 51 शक्तिपीठों में होती है। मान्यता है कि यहां सती का शीश गिरा था। पुराणों में इस देवी पीठ को शक्तिपीठ और सिद्धपीठ कहा गया है। माता की महिमा का उल्लेख राक्षसों से युद्ध में शुंभ-निशुंभ, महिषासुर, चंड, मुंड व रक्तबीज का संहार करने के लिए भी किया गया है।

उत्तर प्रदेश में बंद हो गया विकास के नाम पर बंदरबांट: सीएम योगी आदित्यनाथ

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैं मां शाकुंभरी देवी की धरती पर गृह मंत्री अमित शाह अमित शाह का स्वागत करता हूं। सहारनपुर हस्तकला के लिए विख्यात है। यहां के लिए तो पहले की सरकारों के पास कोई एजेंडा नही था। शिक्षा के कोई इंतजाम नही था। दंगे होते थे। राज्य पूरी तरह पिछड़ गया था आज उत्तर प्रदेश देश मे आगे है। यह वही यूपी है जहां विकास के नाम पर बन्दरबांट होता था। गन्ने के दाम का भुगतान नही होता था। सभी गन्ना किसानों को समय पर भुगतान भुगतान हो रहा है। अभी तक एक लाख 42 हजार करोड़ भुगतान दे दिया। चीनी मिल चल रही है। दंगे में सहारनपुर को झोंक दिया जाता था। कहा जाता था कि यहां से कांवड़ यात्रा नहीं निकलेगी। मुजफ्फरनगर दंगे के मुख्य आरोपित को सम्मानित किया जाता था। लखनऊ में सम्मानित किया जाता था। उन्होंने कहा कि अब उत्तर प्रदेश में सभी पर्व बेहतर ढंग से मनाए जा रहे हैं। होली दीपावली या कावड़ यात्रा सभी शांति से मनाए जा रहे है। अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर बन रहा है। आज देश सुरक्षित हाथों में है। विकास हो रहा है। 2017 से पहले दिल्ली की दूरी सात घंटे की थी, अब दो घंटे की है। केन्द्र सरकार ने सड़कों का जाल बिछा दिया। सहारनपुर में मां शाकुंभरी के नाम से विश्व विधले खुल रहा है तो 2022 में शुरू हो जाएगा। हर डिग्री पर मां शाकुभरी की फोटो होगी। यहां के लोगों ने गृह मंत्री अमित शाह का अच्छा स्वागत किया है। सभी को बधाई। अमित शाह जी का स्वागत करता हूं वाणी को देता हूं विराम।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश में विश्वविद्यालय खुल रहे हैं। महाविद्यालय खुल रहे हैं। यहां पर अच्छे रास्ते बन रहे हैं और किसानों के बैंक खाते में पैसा आ रहा है। 

गरीबों के घर बन रहे हैं, अमन के लिए कानून का राज स्थापित हुआ है। यही सुशासन है। सरकार ने अपना वादा पूरा किया है।उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि यहां की यूनिवर्सिटी में दंगाइयों की जरूरत नहीं, पढ़ाई के लिए स्टूडेंट्स आएंगे। उत्तर प्रदेश में हाथी, न साइकिल न हाथ एक बार फिर से योगी आदित्यनाथ।

जनसभा में कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि आप लोगों को मुजफ्फरनगर का दंगा तो याद होगा। अब योगी आदित्यनाथ सरकार में किसी की हिम्मत नहीं है कि यहां पर दंगा करा दे। अब तो किसी की हिम्मत नहीं छेड़छाड़ कर दे। उन्होंने कहा कि नेताओं के नाम नहीं लूंगा जो थाने में आग लगाने की बात करते थे, लेकिन अब तो उत्तर प्रदेश की फिजा बदल गई है। सूबे में साढ़े चार साल वर्ष पहले 300 दंगे हुए थे, लेकिन अब किसी को हिम्मत नहीं। सपा शासन में कहा जाता था कि कांवड़ यात्रा में डीजे नहीं बजेगा, लेकिन सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि डीजे अगर अगर कांवड़ में नहीं बजेगा तो कहां बजेगा। राणा ने कहा कि सरकार अपने काम के आधार पर लगातार आगे बढ़ रही है। इस सरकार में कानून-व्यवस्था शीर्ष वरीयता पर है। जिन लोगों ने काली कमाई से मकान बनाए हैं, उनको जमींदोज किया गया है। अब अखिलेश यादव कह रहे हैं कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनने पर इन सभी माफिया के मकान फिर बनाएंगे।

पुलिस हिरासत में आजाद समाज पार्टी के नेता

सहारनपुर के छुटमलपुर में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री को अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन देने से रोकने पर काले झंडे दिखाने की चेतावनी देने वाले आजाद समाज पार्टी के नेताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। फतेहपुर पुलिस सुबह के समय आसपा विधिक सलाहकार संदीप कांबोज एडवोकेट, विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष विनोद पेंगवाल व नितिन बसंल को घर से उठाकर थाने ले गई और थाने में ही नजरबंद कर दिया। तीनों नेताओं ने पुलिस कार्रवाई के विरोध में थाने में ही भूख हड़ताल शुरु कर दी है।

Edited By Dharmendra Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept