स्वर्णिम विजय वर्ष: मेरठ छावनी में पाइन डिवीजन ने विजय ज्योति का किया स्वागत

देशभर में विभिन्न आयोजनों के साथ ही भारतीय सेना भी हर जगह स्वर्णिम विजय वर्ष के आयोजन कर रही है। इस कड़ी में एक साल पहले 16 दिसंबर 2020 को देश के अलग-अलग हिस्सों में स्वर्णिम विजय ज्योति से हर क्षेत्र को जोड़ने के लिए विजय ज्योति दिल्ली से रवाना।

Taruna TayalPublish: Wed, 01 Dec 2021 02:50 PM (IST)Updated: Wed, 01 Dec 2021 02:50 PM (IST)
स्वर्णिम विजय वर्ष: मेरठ छावनी में पाइन डिवीजन ने विजय ज्योति का किया स्वागत

मेरठ, जेएनएन। वर्ष 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में मिली विजय के उपलक्ष्य में इस पूरे साल स्वर्णिम विजय वर्ष मनाया जा रहा है। देशभर में विभिन्न आयोजनों के साथ ही भारतीय सेना भी हर जगह स्वर्णिम विजय वर्ष के आयोजन कर रही है। इस कड़ी में एक साल पहले 16 दिसंबर 2020 को देश के अलग-अलग हिस्सों में स्वर्णिम विजय ज्योति से हर क्षेत्र को जोड़ने के लिए विजय ज्योति दिल्ली से रवाना हुई थी। उत्तर भारत की विजय ज्योति 17 दिसंबर 2020 को मेरठ आ कर आगे बढ़ी थी और अब एक दिसंबर को पुनः मेरठ छावनी में पाइन डिवीजन ने विजय ज्योति का स्वागत किया। पाइन डिव के जनरल ऑफिसर कमांडिंग मेजर जनरल संजय हुड्डा ने विजय ज्योति का स्वागत करते हुए देश के उन वीर सपूतों और शहीदों को नमन किया, जिन्होंने बांग्लादेश की आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी और पाकिस्तानी सेना को घुटने पर ला खड़ा किया था। मेरठ छावनी से यह विजय ज्योति दिल्ली के लिए रवाना होगी। देश के अलग-अलग हिस्सों में गई विजय ज्योति 16 दिसंबर को विजय दिवस के मौके पर एक साथ दिल्ली में आयोजित भव्य समारोह की शोभा बढ़ाएंगे।

आजादी की रक्षा करने वालों को हौसला देगी ज्योति

पाइन डिव के जीओसी मेजर जनरल संजय हुड्डा ने कहा कि वर्ष 1971 का विजय हमारे लिए गौरव का प्रतीक है। यह स्वर्ण जयंती हमें उसी गौरव का एहसास दिलाती है। 16 दिसंबर 2020 को शाम 4:00 बजे निकली विजय ज्योति उत्तर भारत में परमवीर चक्र और महावीर चक्र से सम्मानित शहीदों व सैनिकों के गांव-गांव घूमते हुए वापस मेरठ छावनी पहुंची है। उन्होंने कहा कि यह विजय ज्योति हमारी विजय और बलिदान का प्रतीक है। उस युद्ध में पाइन डिव ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, जिसमें पाइन डिव को 5 महावीर चक्र और 23 वीर चक्र से नवाजा गया था। इस मौके पर उन सभी शहीदों व वीरों को नमन है जिन्होंने देश का मान सम्मान ऊंचा रखा और मानवता के लिए हंसते-हंसते न्योछावर हो गए। मेजर जनरल हुड्डा ने कहा कि यह विजय ज्योति आजादी की रक्षा करने वालों को हौसला देगी और जरूरत पड़ने पर हम दुश्मन को सबक सिखाने के लिए तैयार रहेंगे।

भव्य आयोजन में गूंजा भारत माता की जय

पाइन डिव की ओर से विजय ज्योति का भव्य स्वागत किया गया। डोगरा मंदिर से पाइन आरटी ब्रिगेड तक रास्ते के दोनों किनारे खड़े सैनिकों ने विजय ज्योति का स्वागत भारत माता के जयकारे के साथ किया। आरवीसी के सुसज्जित घुड़सवारों ने विजय ज्योति की अगुवाई की। कार्यक्रमों में पंजाब रेजिमेन्ट के जवानों ने सुंदर प्रस्तुति के साथ आगाज किया जिससे मौके पर उपस्थित सैनिक, सैनिक परिवार, बच्चे, एनसीसी कैडेट्स देश भक्ति के माहौल में रम गए। गढ़वाल रेजीमेंट के पाइप बैंड की अगुवाई हवलदार योगेंद्र ने की। उनके साथ ही सूबेदार बलबीर सिंह की अगुवाई में 14वीं गढ़वाल रेजीमेंट के 15 सैनिकों ने खुकरी नित्य प्रस्तुत किया। नायक सूबेदार गुरविंदर सिंह की अगुवाई में पंजाब रेजीमेंट के जवानों ने मनमोहक भांगड़ा की प्रस्तुति दी। इसके बाद आरवीसी सेंटर एंड कॉलेज में प्रशिक्षित फौजी श्वानों ने अपने अनुशासन, वीरता व साहस का प्रदर्शन किया। फौजी श्वान कोरा ने अगुवाई करते हुए गुलदस्ते के साथ सभी का अभिनंदन किया और उसके बाद अनुशासन की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम के अंत में पाइन डिव के अंतर्गत मेरठ छावनी में तैनात 223 फील्ड रेजीमेंट के ऑफिसर मेजर ऋषि कुमार की अगुवाई में सैनिक विजय ज्योति को मेरठ छावनी से दिल्ली के लिए लेकर रवाना हो गए। 

Edited By Taruna Tayal

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept