This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Maulana Kaleem News: मौलाना कलीम पर देशद्रोह-मतांतरण कानून के तहत होगी कार्रवाई, बोले विधायक विक्रम सैनी

मुजफ्फरनगर के खतौली से विधायक विक्रम सैनी ने कहा कि मौलाना को अवैध रूप से मोटी रकम मिली है जिसका उसके पास कोई हिसाब नहीं मिल सका है। एटीएस इस पर चार माह से नजर रखे हुए थी। मौलाना पर देशद्रोह समेत मतांतरण कानून के तहत मुकदमा चलेगा।

Prem Dutt BhattSun, 26 Sep 2021 09:29 PM (IST)
Maulana Kaleem News: मौलाना कलीम पर देशद्रोह-मतांतरण कानून के तहत होगी कार्रवाई, बोले विधायक विक्रम सैनी

मुजफ्फरनगर, जागरण संवाददाता। मौलाना कलीम सिद्दीकी के मतांतरण का सिडिकेट चलाने का राजफाश होने पर खतौली विधायक विक्रम सैनी ने भी तीखी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि मामले में देशद्रोह, मतांतरण कानून के तहत कार्रवाई होगी। एटीएस ने चार माह तक मौलाना की जांच की थी, उसके बाद यह कार्रवाई हुई है।

बोले विधायक, कुछ कार्रवाई हिंदू समाज को स्वयं करनी होगी

विधायक विक्रम सैनी ने कहा कि मौलाना को अवैध रूप से मोटी रकम मिली है, जिसका उसके पास कोई हिसाब नहीं मिल सका है। एटीएस इस पर चार माह से नजर रखे हुए थी। मौलाना पर देशद्रोह समेत मतांतरण कानून के तहत मुकदमा चलेगा। उन्हें जानकारी नहीं थी कि उनकी विधानसभा में इतना गंदा आदमी भी रहता है। मतातंरण के सवाल पर वह कह रहे हैं कि सरकार और कानून सभी कार्य नहीं करेंगे। कुछ कार्रवाई हिंदू समाज को स्वयं करनी होगी। कई युवकों के हिंदू धर्म में वापसी करने के कारण यह राजफाश हुआ है। हिंदू समाज को जागरूक होना पड़ेगा, उसके खिलाफ कोई क्या साजिश रच रहा है, इसकी जानकारी करनी चाहिए। समाजवादी पार्टी के मौलाना को समर्थन पर बोले कि सपा मुस्लिम परस्त पार्टी है। इसे देश से कोई लेना-देना नहीं है।

एटीएस की रिमांड पर मौलाना कर सकता है कई राजफाश

मुजफ्फरनगर। मौलाना कलीम सिद्दीकी पर अवैध मतांतरण और विदेशी फंडिंग को लेकर शिकंजा कसा गया है। एटीएस की कस्टडी रिमांड में मौलाना कई राजफाश कर सकता है। एटीएस समेत स्थानीय खुफिया तंत्र मौलाना की संस्था, ट्रस्ट के साथ उसके करीबियों की गतिविधियों की भी पड़ताल कर रहा है। आशंका है कि मौलाना ने अकूत संपत्ति को परिचितों, सहयोगियों के बलबूते ही कागजों में समाहित कर रखी है। वहीं, हाफिज इदरीश से कारोबारी सहयोगी व साथी भी जांच एजेंसियों के रडार पर है। एटीएस ने मौलाना कलीम को अवैध मतांतरण और विदेशी फंडिंग का आरोपित मानते हुए कोर्ट के समक्ष पेश किया था। फिलहाल मौलाना कलीम एटीएस की कस्टडी रिमांड पर है। लखनऊ में एटीएस मौलाना से मतांतरण नेटवर्क, फंडिंग संबंधी पूछताछ कर रही है। बताया गया है कि पूछताछ में मौलाना कई राजफाश कर सकता है। सूत्रों के अनुसार खुफिया एजेंसी लगातार फुलत गांव पर निगाह रखे हुए है। मौलाना विदेश से आने वाले पैसे को ट्रस्ट, मदरसों पर खर्च करता था। इसके ट्रस्ट और मदरसों में गैरकानूनी रूप से मतांतरण का खेल चलाया गया। उधर, हाफिज इदरीश से जुड़े लोगों के खिलाफ भी एटीएस या खुफिया विभाग कानूनी कार्रवाई कर सकता है।

Edited By: Prem Dutt Bhatt

मेरठ में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!