टर्म-टू बोर्ड परीक्षा में बचे तैयारी के 60 दिन

सीबीएसई की टर्म-वन परीक्षा के साथ ही 50 प्रतिशत बोर्ड परीक्षा दे चुके छात्र-छात्राएं अब शेष 50 प्रतिशत बोर्ड परीक्षा यानी टर्म-टू परीक्षा की तैयारियों में जुटे गए हैं। स्कूल व शिक्षक यह मानकर सिलेबस पूरा करा रहे हैं कि टर्म-टू परीक्षा 15 मार्च के बाद होगी।

JagranPublish: Fri, 21 Jan 2022 09:50 AM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 09:50 AM (IST)
टर्म-टू बोर्ड परीक्षा में बचे तैयारी के 60 दिन

मेरठ, जेएनएन। सीबीएसई की टर्म-वन परीक्षा के साथ ही 50 प्रतिशत बोर्ड परीक्षा दे चुके छात्र-छात्राएं अब शेष 50 प्रतिशत बोर्ड परीक्षा यानी टर्म-टू परीक्षा की तैयारियों में जुटे गए हैं। स्कूल व शिक्षक यह मानकर सिलेबस पूरा करा रहे हैं कि टर्म-टू परीक्षा 15 मार्च के बाद होगी। ऐसे में तैयारी के लिए करीब 60 दिन शेष हैं जिनमें टर्म-टू का सिलेबस पूरा कर उसका रिवीजन भी करना है। इसके बाद स्कूलों में फरवरी के दूसरे पखवाड़े में प्री-बोर्ड परीक्षाएं भी आयोजित कराई जाएंगी। अब सीबीएसई की ओर से टर्म-टू के लिए माडल पेपर जारी करने के बाद तैयारी के लिए जरूरी सुझाव दे रहे हैं विषयों के शिक्षक। फिजिक्स में 12 प्रश्न, दो घंटे, 35 अंक

कक्षा 12वीं टर्म-टू फिजिक्स के पेपर में कुल 12 प्रश्न होंगे। समय दो घंटे मिलेगा और अधिकतम 35 अंक होंगे। प्रश्नपत्र तीन सेक्शन में बंटा है। सेक्शन-ए में तीन प्रश्न दो-दो अंक के, सेक्शन-बी में आठ प्रश्न तीन-तीन और सेक्शन-सी में केस स्टडी होगी जिसका प्रश्न पांच अंक का होगा। टर्म-टू के लिए फिजिक्स के सात चैप्टर हैं। सबसे अधिक महत्व इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव्ज और आप्टिक्स का है जो 17 अंकों का है। नेचर आफ रेडिएशन, एटम और न्यूक्लियर के चैप्टर 11 अंक के हैं। इलेक्ट्रोनिक डिवाइसेस के चैप्टर को सात अंक का वेटेज है। आप्टिकल इंस्ट्रूमेंट्स, कंपाउंड माइक्रोस्कोप और स्ट्रोनोमिकल टेलिस्कोप वाले प्रश्नों को विस्तार से पढ़ें। एनसीईआरटी एक्सरसाइज ठीक से देखें। उदाहरण में दिए प्रश्न व न्यूमेरिकल प्रश्नों को ठीक से हल करने का अभ्यास करें। केस स्टडी वाले प्रश्नों को ध्यान से पढ़कर उत्तर दें।

-अमित कुमार, पीजीटी फिजिक्स, एमआइईटी पब्लिक स्कूल

एकाउंटेंसी में विस्तृत प्रश्नों का खूब करें अभ्यास

कामर्स छात्रों के लिए महत्वपूर्ण विषय एकाउंटेंसी का अभ्यास छात्र-छात्राओं को बेहद गंभीरता से करना चाहिए। पिछली टर्म में जहां बहुविकल्पीय प्रश्न थे वहीं टर्म-टू में सभी विस्तृत प्रश्न पूछे जाएंगे। एकाउंटेंसी के पेपर में कुल 12 प्रश्न पूछे जाएंगे। इनमें दो, तीन व पांच अंक के चार-चार प्रश्न होंगे। चार प्रश्नों में आंतरिक विकल्प प्रश्न भी होंगे। पेपर हल करने के लिए दो घंटे का समय मिलेगा जो पर्याप्त होगा। सीबीएसई के सैंपल पेपर का स्तर अच्छा है। इसमें औसत व तार्किक प्रश्नों का समावेश दिख रहा है। इन सैंपल पेपर में दिए गए प्रश्नों का छात्रों को विस्तार से हल करने का अभ्यास करना चाहिए। टर्म-टू में छात्रों को टर्म-वन की तुलना में अधिक मेहनत करनी होगी। इसमें विस्तृत प्रश्न पूछे जांएगे जिसके लिए बारीक जानकारी और अंकीय गणना का अच्छा अभ्यास जरूरी है।

-नितिन गांधी, पीजीटी एकाउंटेंसी, केएल इंटरनेशनल स्कूल

अंग्रेजी को अनदेखा न करें, यही अंक बढ़ाएगा

टर्म-टू में अंग्रेजी के पेपर में अति लघु उत्तरीय, लघु उत्तरीय और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे जांगे। पेपर के लिए दो घंटे का समय निर्धारित है। किसी भी तरह की असमंजस की स्थिति से बचने के लि परीक्षार्थियों को सीबीएसई एकेडमिक्स वेबसाइट पर सिलेबस व सैंपल पेपर जरूर डाउनलोड कर लें। 50 प्रतिशत सिलेबस में कुछ भी न छोड़ें और सभी चैप्टर्स को विस्तार से पढ़ लें। सब कुछ एक बार में भी पढ़ने की कोशिश न करें। क समय में एक बिंदु को पढ़ने के लिए चुनें। अंग्रेजी को कमतर समझ अनदेखा न करें। इससे रिजल्ट प्रतिशत बढ़ाने में मदद मिलेगी। अब समय कम है इसलिए आज से ही तैयारी शुरू कर दें। लिख कर पढ़ें इससे लेखन शैली सुधरेगी तभी दो घंटे लिख सकेंगे।

-रजनी खंडुजा, पीजीटी अंग्रेजी, केएल इंटरनेशनल स्कूल

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept