This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

UP Panchayat Chunav: विदाई से पूर्व नई नवेली दुल्हन ने किया मतदान तो किसी ने अंतिम संस्कार के बाद डाला वोट

UP Panchayat Chunav Voting News त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में तीसरे चरण के लिए सोमवार को हुए मतदान में बाराबंकी जिले में एक नई नवेली दुल्हन ने विदाई से पहले बूथ पर जाकर मतदान किया। वहीं एक युवक ने मां के अंतिम संस्कार के बाद वोट डाला।

Divyansh RastogiTue, 27 Apr 2021 12:25 AM (IST)
UP Panchayat Chunav: विदाई से पूर्व नई नवेली दुल्हन ने किया मतदान तो किसी ने अंतिम संस्कार के बाद डाला वोट

लखनऊ, जेएनएन। UP Panchayat Chunav Voting News: त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में तीसरे चरण के लिए सोमवार को जिले में मतदान हुए। बेटी तो कहीं बहन के सहयोग से वोट डाला। शाम पांच बजे तक 72 फीसद मतदान हुए। दिव्यांगों में भी मतदान का जज्बा दिखा। किसी दिव्यांग का सहारा उसकी बहन, बेटी बने तो किसी का मां या अन्य रिश्तेदार। मतदान केंद्र पर पुलिस कर्मियों ने भी दिव्यांगों को सहारा देकर वोट डालने में सहायता की। वहीं, विदाई से पहले बूथ पर पहुंच कर नई नवेली दुल्हन ने भी वोट डाला।  

नई नवेली दुल्हन ने विदाई से पहले डाला वोट: रामसनेहीघाट स्थित दरियाबाद में तिवारीपुर की रहने वाली आराधना सिंह की शादी 25 अप्रैल को हुई। उनकी विदाई 26 की सुबह होनी थी। विदाई से पहले उन्होंने अपने मताधिकार का प्रयोग कर पंचायत के विकास में योगदान करने की बात कही। इसे परिवार व ससुराल पक्ष ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। उन्हें बूथ तक ले जाया गया और उन्होंने तिवारीपुर बूथ पर वोट दिया। उत्साह में आधी आबादी, बढ़ चढ़कर लिया मतदान में हिस्सादरियाबाद में मतदान को लेकर आधी आबादी ने अपनी पूरी जिम्मेदारी कोविड प्रोटोकाल के तहत सजगता से निभाई। कहीं बुर्का, तो कहीं घूंघट की ओट से नई नेवली दुल्हन ने लोकतंत्र का दीदार किया। मथुरानगर केंद्र पर कतार में लगी सलमा ने बताया कि वोट से गांव में स्वच्छ व स्वस्थ्य सरकार का चयन करना है। रंजना ने बताया कि विकास करने वाले प्रत्याशी को वोट दूंगी। मुरारपुर गांव में अर्चना और राधिका भी ने बताया कि पहला वोट है। इससे गांव में स्वस्थ लोकतंत्र होगा। 

 बेटी तो कहीं बहन के सहयोग से डाला वोट:  हरख ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय मचौची प्रथम स्थित मतदान केंद्र के बाहर अपनी पुत्री हेमा के साथ मिली नेत्रों से दिव्यांग किरन ने बताया कि पुत्री हेमा ने मतदान में सहयोग किया। प्राथमिक विद्यालय नानमऊ में पैरों से दिव्यांग सुशीला को उसकी बहन रोली पीठ पर लादकर वोट डलवाने लग गई। दरियाबाद में नेत्रों से दिव्यांग हयाराम का सहारा उसकी मां बनी। हैदरगढ़ के प्राथमिक विद्यालय गढ़ी में दिव्यांग राजकरन को वोट डलवाने में पुलिसकर्मियों ने मदद की।

अंतिम संस्कार के बाद डाली वोट:  रामसनेहीघाट स्थित रामपुर के मूल निवासी गिरीश तिवारी की मां राजश्री देवी का निधन हो गया। शाम को अंतिम संस्कार किया गया। इसके बाद गिरीश ने अपनी पत्नी के साथ बूथ पर पहुंचकर मतदान किया।

अमेठी में पहले मतदान फिर कन्यादान: उधर, अमेठी में सोमवार को संग्रामपुर के सरैया बड़गांव निवासी अधिवक्ता राजेश मिश्रा की बेटी की शादी होनी थी। घर से दूर तहसील मुख्यालय पर वैवाहिक आयोजन नियत था। इसी बीच मतदान की तिथि भी सोमवार को थी। राजेश, पत्नी कृष्णा मिश्रा के साथ बेटी आकांक्षा को लेकर गांव के बूथ पर पहुंचे और वहां पर मतदान करने के बाद उन्होंने कन्यादान करने की बात कही। कहा कि यह पर्व पांच वर्ष बाद आता है। गांव का जिम्मेदार जनप्रतिनिधि चुनना हम सबका दायित्व है। इसलिए मतदान की रश्म पूरी करने के बाद कन्यादान किया जाएगा। आकांक्षा ने कहा कि आज का दिन मेरे लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण हो गया है। जीवन की नई पारी की शुरुआत के साथ ही ग्राम पंचायत के नये मुखिया के चयन का दिन है।

लखनऊ में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!