यूपी चुनाव 2022: सीएम की कुर्सी के लिए जरूरी नहीं विधानसभा चुनाव लड़ना, ऐसे कई उदाहरण; जानें- कौन हैं ये दिग्गज नेता

UP Vidhan Sabha Chunav 2022 उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री का पद बिना चुनाव लड़े भी पाया जा सकता है। पिछले एक दशक से ज्यादा समय से यूपी का कोई भी सीएम जनता द्वारा नहीं चुना गया है। इसकी शुरुआत 2007 में मायावती ने की थी।

Umesh TiwariPublish: Tue, 25 Jan 2022 05:13 PM (IST)Updated: Tue, 25 Jan 2022 05:15 PM (IST)
यूपी चुनाव 2022: सीएम की कुर्सी के लिए जरूरी नहीं विधानसभा चुनाव लड़ना, ऐसे कई उदाहरण; जानें- कौन हैं ये दिग्गज नेता

लखनऊ, जेएनएन। देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में इन दिनों लोकतंत्र का महापर्व मनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए हो रही इस रेस में कई दिग्गज अपने को उत्तर प्रदेश का भावी सीएम होने का दावा कर रहे हैं और चुनाव मैदान में डटे हैं। हालांकि ऐसे कई उदाहरण भी हैं कि बिना विधानसभा चुनाव लड़े भी मुख्यमंत्री की कुर्सी तक पहुंचा जा सकता है। उत्तर प्रदेश में पिछले 15 वर्षों की बात करें तो मुख्यमंत्री विधानसभा की जगह विधान परिषद के सदस्य रहे हैं। आइए एक नजर डालते हैं बिना सीधा चुनाव लड़े उत्तर प्रदेश की सत्ता के शिखर पर वाले नेताओं पर...

बसपा सुप्रीमों मायावती : उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री का पद बिना चुनाव लड़े भी पाया जा सकता है। पिछले एक दशक से ज्यादा समय से यूपी का कोई भी सीएम जनता द्वारा नहीं चुना गया है। इसकी शुरुआत 2007 में मायावती ने की थी। तब से लेकर वर्तमान सरकारों के मुखिया विधायक नहीं बल्कि एमएलसी बन कर ही मुख्यमंत्री की कुर्सी पर आसीन हुई थीं। वर्ष 2007 में बहुजन समाज पार्टी को विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा सीटें मिली थी। ऐसे में बसपा सुप्रीमो मायावती का मुख्यमंत्री बनना तय था। मायावती ने भी उस वक्त चुनाव नहीं लड़ा था। तब उन्होंने विधान परिषद के जरिए एमएलसी बनकर सदन का रास्ता तय किया। जिसके बाद से ही यह रीति बन गई। बतौर मुख्यमंत्री मायावती यह चौथा कार्यकाल था। इससे पहले वह वर्ष 2002 और वर्ष 1997 में विधान सभा की सदस्य रहीं। वर्ष 2022 के चुनाव में भी वह मुख्यमंत्री पद की दावेदार हैं, लेकिन अभी तक उन्होंने चुनाव लड़ने की घोषणा नहीं की है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव : समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने वर्ष 2012 में समाजवादी पार्टी की ओर चुनाव प्रचार की कमान अखिलेश यादव सौंपी थी। उन्हें प्रदेश सत्ता के शिखर तक पहुंचाने के लिए युवा चेहरे के रूप में पेश किया था। प्रदेश की जनता को भी अखिलेश यादव के रूप में युवा चेहरा दिखा। जो साइकिल पर घूम कर लोगों को अपनी पार्टी के मुद्दों से रूबरू करा रहा था। पहली बार एक युवक उत्तर प्रदेश के लोगों के बीच आया तो जनता ने भी अपना विश्वास दिखाया और जिसका रिजल्ट सबके सामने था। उस चुनाव में सपा को सबसे ज्यादा सीटें मिली। बहुमत मिलने के बाद तय था कि अखिलेश या मुलायम में से ही कोई एक मुख्यमंत्री बनेगा। पार्टी ने सर्वसम्मति से अखिलेश का नाम बढ़ाया और मुख्यमंत्री की कुर्सी सौपी गई। उस वक्त भी वहीं पेंच था, क्योंकि अखिलेश सांसद थे। उन्होंने भी विधानसभा चुनाव नहीं लड़ा था। ऐसे में अखिलेश यादव ने भी मायावती की तरह विधान परिषद के जरिये सदन का रास्ता चुना था। वह मार्च 2012 से मार्च 2017 के बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे। वर्ष 2022 के चुनाव में भी वह मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं। हालांकि उन्होंने चुनाव लड़ने की घोषणा की है। वह मैनपुरी की करहल विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे।  

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ : अब बात वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की। भाजपा के फायरब्रंड नेता योगी आदित्यनाथ मार्च 2017 से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। भारतीय जनता पार्टी ने जब 2017 में विधानसभा चुनाव जीता उस वक्त किसी को नहीं पता था कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा। उत्तर प्रदेश के चुनावों में प्रचंड जीत हासिल करने के बाद जब भारतीय जनता पार्टी ने उन्हें मुख्यमंत्री पद के लिए चुना था तब वह गोरखपुर से लोक सभा के सदस्य थे। मुख्यमंत्री बनने के लिए उन्हें लोक सभा से इस्तीफा देना पड़ा। उसके बाद वह विधान सभा की किसी सीट से उपचुनाव लड़ने के बजाए विधान परिषद के सदस्य बन गए। सीएम के साथ उनके चार मंत्री भी ऐसे थे जिन्होंने विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ा था। ऐसे में उन्हें मंत्री पद पर बने रहने के लिए छह महीने के अंदर यूपी के किसी एक सदन का सदस्य होना जारूरी था। इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य व डॉ. दिनेश शर्मा और परिवहन राज्य मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह व राज्यमंत्री मोहसिन रजा को विधान परिषद का सदस्य निर्वाचित किया गया था। वर्ष 2022 के चुनाव में योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं। उन्होंने भी इस बार चुनाव लड़ने की घोषणा की है। वह गोरखपुर शहर विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में हैं।

Edited By Umesh Tiwari

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept