लखनऊ में ट्र‍िपल मर्डर : बेटे सरफराज ने बताई अपनी घ‍िनौनी करतूत, कहानी पूरी फ‍िल्‍मी है

Triple Murder in Lucknow एक लाख 80 हजार रुपये देकर साथी युवक को किया था शामिल दाल में मिलाई थी नशे की 90 गोलियां। रिश्तेदारों को शक न हो इसके लिए फ्लाइट से श्रीनगर जाकर बहन को भेजी थी तस्वीरें हाईवे किनारे फेंक दिया था तीनों के फोन।

Anurag GuptaPublish: Wed, 19 Jan 2022 06:47 PM (IST)Updated: Thu, 20 Jan 2022 07:33 AM (IST)
लखनऊ में ट्र‍िपल मर्डर : बेटे सरफराज ने बताई अपनी घ‍िनौनी करतूत, कहानी पूरी फ‍िल्‍मी है

लखनऊ, जागरण संवाददाता। माता पिता और भाई की हत्या करने के आरोपित सरफराज नवाज खां को इटौंजा पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आरोपित ने पुलिस के सामने गुनाह कबूल किया। सरफराज ने बताया कि हत्याकांड की साजिश में उसने अपने परिचित अनिल को एक लाख 80 हजार रुपये देकर शामिल किया था। पुलिस ने अनिल को भी गिरफ्तार कर लिया है। अनिल के पास से 78 हजार रुपये भी बरामद किए गए हैं।

एएसपी लखनऊ ग्रामीण हिरदश कुमार कठेरिया के मुताबिक सरफराज का साथी अनिल भैसा कुंड पर लकड़ी पहुंचाने का काम करता है सरफराज की अनिल से कुछ समय पहले मुलाकात हुई थी सरफराज ने हत्या की साजिश रचने के बाद अनिल से संपर्क किया और उसे रुपयों का लालच दिया अनिल ने रुपए लेने के बाद उसके साथ हत्याकांड में शामिल होने की बात मान ली साजिश के तहत अनिल ने सरफराज को नशे की गोलियां लाकर दी थी। पांच जनवरी की रात में सरफराज ने दाल में नशे की 90 गोलियां पीसकर मिला दी थी। इसके बाद उसने पिता महमूद खां, मां दरख्शां और छोटे भाई शावेज को खाना परोसा।

खाना खाने के बाद तीनों बेसुध हो गए तो उन्हें उनके बेडरूम में लेकर गया। इसके बाद अनिल को घर के भीतर बुला लिया। कमरे के भीतर सरफराज और अनिल ने बांके से तीनों की बारी बारी गला रेतकर हत्या कर दी थी। इसके बाद कार में शवों को लादकर घर से रवाना हुए थे। इटौंजा में शावेज, मलिहाबाद में महमूद और माल में दरख्शां का शव फेंकने के बाद वापस आ गए थे। सरफराज ने कमरे की साफ सफाई करने के बाद जिन गद्दों पर हत्या की थी, उन्हें अनिल को दे दिया।

संपर्क न होने पर मौसी ने किया था आरोपित को फोन : बहन से फोन पर संपर्क नहीं होने पर संडीला निवासी सरफराज की मौसी ने उसे फोन किया था। तब आरोपित ने उन्हें कश्मीर जाने की झूठी कहानी बताई थी। कई दिन बीतने के बाद सरफराज की बहन अनम को उसकी मौसी ने फोन किया। इसके बाद रिश्तेदारों ने खोजबीन शुरू कर दी। पकड़े जाने के डर से 13 जनवरी को सरफराज फ्लाइट पकड़कर श्रीनगर पहुँचा। वहां से उसने जम्मू श्रीनगर हाइवे से कुछ फोटो खींचकर अनम को वाट्सएप किया था। इसके बाद माता पिता व भाई के फोन हाइवे किनारे झाड़ियों में फेंक दिया था और फ्लाइट से वापस लखनऊ आ गया था।

यह भी देखें : लखनऊ में ट्र‍िपल मर्डर : मां-बाप और भाई की हत्‍या कर ठ‍िकाने लगाया शव, श्रीनगर तक खोजती रही पुल‍िस

दो माह पहले कोलकाता से आया था, प्रेम विवाह से संतुष्ट नहीं थे घरवाले : हत्यारोपित सरफराज कोलकाता में रहता था। एलएलबी करने के बाद वह प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था। आरोपित ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसने प्रेम विवाह किया था। इस शादी से उसके माता पिता और खुश नहीं थे। 27 नवंबर 2021 को अनम की शादी थी। शादी में वह शामिल होने आया था और तब से यहीं था। अनम की शादी मल्टीनेशनल कंपनी में काम करने वाले नदीम से हुई है। आरोपित ने बताया कि उसे डर था कि उसके माता पिता उसको संपत्ति से बेदखल कर देंगे। इसी वजह से उसने हत्या की साजिश रची थी। आरोपितों के पास से तीन गड्ढे, दो मोबाइल फोन, बांका, कार न नकदी बरामद की गई है।

पुलिस को दैनिक जागरण ने दिखाई राह : अलग अलग इलाकों में तीन लोगों के शव मिलने और उनकी हत्या का तरीका एक जैसा होने पर पुलिस पड़ताल कर रही थी, लेकिन उन्हें कोई सुराग नहीं मिल रहा था। इस बीच दैनिक जागरण ने महमूद, दरख्शां और शावेज की तस्वीर के साथ खबर प्रकाशित की। फ़ोटो समेत खबर देखकर पुलिस को समझने में देर नहीं लगी कि हत्याकांड में कोई करीबी ही शामिल है, जो तीनों के कश्मीर जाने की झूठी कहानी बना रहा है। इसके बाद पुलिस ने सरफराज और उसके साथी अनिल को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

Edited By Anurag Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept