This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

UP: विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में पठन-पाठन शुरू, शैक्षिक कैलेंडर में छमाही व सेमेस्टर परीक्षाएं अनिवार्य

Universities and Colleges of UP माध्यमिक व प्राथमिक स्कूलों के बाद विश्वविद्यालय व महाविद्यालयों में सोमवार से शिक्षण कार्य शुरू हो गया। सीबीएसई व उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद सहित अन्य बोर्डों का परिणाम आने के बाद कालेजों में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हुई।

Vikas MishraWed, 15 Sep 2021 08:03 AM (IST)
UP: विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में पठन-पाठन शुरू, शैक्षिक कैलेंडर में छमाही व सेमेस्टर परीक्षाएं अनिवार्य

लखनऊ, राज्य ब्यूरो। माध्यमिक व प्राथमिक स्कूलों के बाद विश्वविद्यालय व महाविद्यालयों में सोमवार से शिक्षण कार्य शुरू हो गया। सीबीएसई व उप्र माध्यमिक शिक्षा परिषद सहित अन्य बोर्डों का परिणाम आने के बाद कालेजों में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हुई। उच्च शिक्षा संस्थानों में मेरिट के आधार पर पहली सितंबर तक और प्रवेश परीक्षा के आधार पर 13 सितंबर तक दाखिला लेने के निर्देश दिए गए थे। उच्च शिक्षा विभाग के राज्य विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों में वैसे तो पढ़ाई अगस्त में ही शुरू करने के निर्देश दिए गए थे। स्नातक प्रथम वर्ष में दो तरह से दाखिला होने के कारण शासन ने इसके लिए अलग-अलग तारीखें घोषित कीं।

नौ सितंबर को शैक्षिक कैलेंडर जारी किया गया और उसी के अनुरूप पढ़ाई कराने का निर्देश दिया गया। इसके अनुसार विधिवत पढ़ाई सोमवार से ही शुरू हुई है। हालांकि कई कालेजों में दिन भर दाखिला प्रक्रिया चलती रही। इस बार पठन-पाठन पर विशेष जोर है और हर हाल में तय शिक्षण दिवस पूरा किया जाना है। इसके लिए कक्षाओं के अलावा आनलाइन पढ़ाई का भी विकल्प दिया गया है। शिक्षकों के अवकाश में भी कटौती की जाएगी। ज्ञात हो कि कोरोना की दूसरी लहर में स्कूल-कालेज लंबे समय तक बंद रहे हैं। इस बार कालेजों में सेमेस्टर के अलावा अद्र्ध वार्षिक परीक्षाओं को अनिवार्य किया गया है, ताकि विद्यार्थियों को प्रोन्नत करने में परेशानी न हो। प्रोन्नत पाने वालों के अंक-सहप्रमाणपत्र में अंक दर्ज नहीं हैं। 

कालेजों की मांग पर मिलेंगी सीटेंः उपमुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा का कहना है कि यूपी बोर्ड का रिजल्ट सर्वाधिक होने से कालेजों में प्रवेश में परेशानी नहीं होगी। यदि कालेज सीटें बढ़ाने की मांग करेंगे तो उस पर विचार करके निर्णय लिया जाएगा। साथ ही प्रोन्नति पाने वालों का दाखिला भी आसानी से हुआ है। छात्र-छात्राओं को किसी तरह की परेशानी नहीं होने दी जाएगी। हर पहलू का पूरा ध्यान रखा जाएगा। 

Edited By Vikas Mishra

लखनऊ में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
Jagran Play

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

  • game banner
  • game banner
  • game banner
  • game banner