UP Board के 255 स्कूलों की खत्म होगी मान्यता, माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जारी क‍िया नोटिस

10 साल से ज्यादा समय बीतने के बाद भी नहीं पूरे किए मानक। विधान सभा के आश्वासन समिति में मुद्दा उठने के बाद माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिस। इन सभी स्कूलों को नोटिस जारी कर एक महीने का आखिरी मौका दिया गया है।

Anurag GuptaPublish: Sun, 21 Feb 2021 07:05 AM (IST)Updated: Sun, 21 Feb 2021 10:42 AM (IST)
UP Board के 255 स्कूलों की खत्म होगी मान्यता, माध्यमिक शिक्षा विभाग ने जारी क‍िया नोटिस

लखनऊ, जेएनएन। माध्यमिक शिक्षा परिषद से सशर्त मान्यता लेने के बाद भी अब तक मानक न पूरे करने वाले लखनऊ के 255 स्कूलों की मान्यता खतरे में पड़ गई है। इन स्कूलों को 10-12 साल पहले इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम की धारा 9/4 के तहत इस शर्त के साथ मान्यता दी गई थी कि निर्धारित समय में मानक पूरे कर लेंगे। लेकिन किसी ने अब तक मानक नहीं पूरे गए। अफसर भी हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे। अब जब विधान सभा की आश्वासन समिति में इस प्रकरण पर जवाब मांगा गया तो विभाग के अफसर सक्रिय हो गए। इन सभी स्कूलों को नोटिस जारी कर एक महीने का आखिरी मौका दिया है। इसके बाद मान्यता खत्म करने की संस्तुति की जाएगी।

वर्ष 2007 में शासन के आदेश पर करीब 299 स्कूलों को सशर्त मान्यता दी गई थी। यह कहा गया था कि जल्द से जल्द भूमि और भवन सहित सभी मानक पूरे कर लिए जाएं। कुछ समय बीत गया। जब मानक नहीं पूरे किए तो मामला विधान सभा की आश्वासन समिति में आया। उस समय स्कूलों को नोटिस जारी करके विभाग के अधिकारी शांत बैठ गए।

13 साल में 44 ने पूरे किए मानक

13 साल के लंबे अंतराल के बीच 299 में से सिर्फ 44 स्कूलों ने ही मानक पूरे किए। शेष ऐसे ही स्कूल चला रहे हैं। अब फिर से शासन ने इस पर रिपोर्ट तलब की तो अफसर भी सक्रीय हो गए। माध्यमिक शिक्षा परिषद के आदेश पर संयुक्त शिक्षा निदेशक सुरेंद्र तिवारी ने शनिवार को नोटिस भेजनी शुरू कर दी।

23 तक आखिरी मौका

जारी नोटिस में साफ कहा है कि 23 मार्च तक मान्यता के लिए गए प्रतिबंधों की पूर्ति नहीं की गई तो मान्यता प्रत्याहरण की संस्तुति बोर्ड से कर दी जाएगी। इसकी जिम्मेदारी विद्यालय प्रबंधन की होगी। वहीं, जिन्होंने लिखित रूप से बताया कि मानक पूरे कर लिए हैं तो टीम भेजकर उसकी जांच कराई जाएगी। 

Edited By Anurag Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept