निवेश और रोजगार देने में एमएसएमई का रिकार्ड, पांच लाख करोड़ का निवेश, तीन करोड़ को रोजगार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में एमएसएमई सेक्टर में बीते चार वर्ष में पांच लाख करोड़ से अधिक का निवेश हुआ है। इसके साथ ही करीब तीन करोड़ लोगों को रोजगार मिला है। सरकार ने वित्त वर्ष में नवंबर तक 28 हजार करोड़ से अधिक का लोन दिया है।

Dharmendra PandeyPublish: Thu, 02 Dec 2021 05:44 PM (IST)Updated: Thu, 02 Dec 2021 08:37 PM (IST)
निवेश और रोजगार देने में एमएसएमई का रिकार्ड, पांच लाख करोड़ का निवेश, तीन करोड़ को रोजगार

लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के कार्यकाल में एमएसएमई ने भी बना रिकार्ड बनाया है। प्रदेश में एमएसएमई सेक्टर को पहले हाशिए पर रखा गया था, लेकिन सीएम योगी आदित्यनाथ ने दम तोड़ रहे एमएसएमई सेक्टर को नया जीवन दिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशन में एमएसएमई सेक्टर में बीते चार वर्ष में पांच लाख करोड़ से अधिक का निवेश हुआ है। इसके साथ ही करीब तीन करोड़ लोगों को रोजगार मिला है। सरकार ने प्रदेश के करीब साढ़े 21 लाख एमएसएमई को वर्तमान वित्त वर्ष में नवंबर तक 28 हजार करोड़ से अधिक का लोन दिया गया है। प्रदेश सरकार की इंवेस्टमेंट फ्रेंडली नीतियों के कारण उत्तर प्रदेश का एमएसएमई देश में पहले पायदान पर है। इस दौरान यहां पर बड़े पैमाने पर नई इकाईयां लगी हैं।

प्रदेश में पिछली सरकारों में सूबे का एमएसएमई सेक्टर हाशिए पर था। जिस कारण तमाम उद्योग दूसरे राज्यों में पलायन कर गए थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एमएसएमई सेक्टर को पुनर्जीवित करने के लिए कई अहम कदम उठाए। इसमें सबसे बड़ी पहल के रूप में सरकार के इस आदेश को भी माना जा रहा है, जिसमें पिछले साल मार्च में कहा गया था कि हर विभाग अपने सालाना बजट का 25 फीसदी खरीदारी एमएसएमई से करेगा। इसका नतीजा यह हुआ है कि मौजूदा वित्त वर्ष में 10 नवंबर तक एमएसई से सरकारी खरीद जेम पोर्टल के माध्यम से 69.6 फीसदी यानि 3855 करोड़ की हुई है और साढ़े चार साल में यह खरीदारी 15 हजार करोड़ से अधिक की है।

योगी आदित्यनाथ सरकार में एमएसएमई सेक्टर को रिकार्ड तोड़ लोन उद्योगों को दिया गया है। यहां पर साढ़े चार साल में 2,70,611 करोड़ का लोन दिया गया है। इस बारे में एमएसएमई के अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि जितनी धनराशि बैंकों की ओर से दी गई है, उतनी ही और धनराशि का निवेश उद्यमियों ने किया है। इन उद्योगों में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से तीन करोड़ लोगों को रोजगार के अवसर मिले हैं।

करीब 92 लाख इकाइयों को मिला विभिन्न योजनाओं में लोन

सरकार के समन्वय से प्रदेश में 91,83,833 इकाइयों को विभिन्न योजनाओं के तहत लोन मिला है। इसमें वित्त वर्ष 2017-18 में 7,87,572 इकाइयों को 41,193 करोड़ का लोन दिया गया। वित्त वर्ष 2018-19 में 10,24,265 उद्यमियों को 47,764 करोड़ और 2019-20 में 17,45,472 उद्यमियों को 62,831 करोड़ के लोन दिए गए हैं। वित्त वर्ष 2020-21 में 34 लाख 80 हजार 596 उद्यमियों को 63,038 करोड़ के लोन दिए गए हैं। वित्त वर्ष 2021-22 में 30 नवंबर तक 21 लाख 45 हजार 928 उद्यमियों को कुल 28,583 करोड़ का लोन दिया गया है। 

Edited By Dharmendra Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept