यूपी टीईटी पेपर लीक मामला: नोएडा के एक पांच सितारा होटल में हुई थी डील, जांच में मिले अहम सुराग

..क्या आप राय अनूप प्रसाद काे पहले से जानते थे? एसटीएफ के इस सवाल पर पहले निलंबित सचिव संजय उपाध्याय साफ मुकर गए थे। फिर एसटीएफ ने जब दोनों के बीच मुलाकातों व जान-पहचान की कड़ियां खोलनी शुरू की तो संजय उपाध्याय चुप्पी साध गए।

Vikas MishraPublish: Wed, 01 Dec 2021 09:37 PM (IST)Updated: Thu, 02 Dec 2021 08:13 AM (IST)
यूपी टीईटी पेपर लीक मामला: नोएडा के एक पांच सितारा होटल में हुई थी डील, जांच में मिले अहम सुराग

लखनऊ, राज्य ब्यूरो। ...क्या आप राय अनूप प्रसाद काे पहले से जानते थे? एसटीएफ के इस सवाल पर पहले निलंबित सचिव संजय उपाध्याय साफ मुकर गए थे। फिर एसटीएफ ने जब दोनों के बीच मुलाकातों व जान-पहचान की कड़ियां खोलनी शुरू की तो संजय उपाध्याय चुप्पी साध गए। इसके बाद नोएडा के एक पांच सितारा होटल में दोनों के बीच मुलाकात की तारीख व समय बताया गया तो संजय उपाध्याय ज्यादा देर एसटीएफ अधिकारियों को गुमराह नहीं कर सके।

सूत्रों का कहना है कि राय अनूप की कंपनी काे वर्क आर्डर दिए जाने के तीन दिन पूर्व होटल में राय अनूप व संजय उपाध्याय मिले थे। जिसके बाद ही प्रश्नपत्र मुद्रण का लगभग 13 करोड़ रुपये का काम राय अनूप की कंपनी के हिस्से आ गया था। संजय व राय अनूप की मुलाकात नोएडा के जिस होटल में हुई थी, उसकी वीडियो फुटेज भी हासिल कर ली गई है। यह भी सामने आया है कि करीब छह माह पूर्व प्रयागराज में तैनाती पाने से पहले संजय उपाध्याय नोएडा में नियुक्त रह चुके थे। नोएडा में नियुक्ति के दाैरान ही संजय व राय अनूप प्रसाद की जान-पहचान हुई थी।

एसटीएफ की छानबीन में एक और चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है। संजय उपाध्याय ने 26 अक्टूबर, 2021 को प्रश्नपत्र मुद्रण का वक आर्डर दिल्ली की कंपनी आरएसएम फिनसर्व लिमिटेड के निदेशक राय अनूप प्रसाद को दिया था और इसके ठीक बाद से ही पेपर लीक कराने वाला गिरोह सक्रिय हो गया था। यानी लगभग एक माह पहले से ही कई शातिर यह समझ चुके थे कि परीक्षा से पहले प्रश्नपत्र उनके हाथ में होगा। एसटीएफ की जांच में ऐसे तथ्यों के सामने आने के बाद कई संदिग्धों की भूमिका की जांच चल रही है। अब तक पकड़े गए आरोपितों के संपर्क में रहे कई लोगों की भूमिका की भी गहनता से छानबीन की जा रही है।

यही वजह है कि पूरे खेल में अभी कई और बड़े चेहरों के बेनकाब होने की आशंका को नकारा नहीं जा सकता। संजय उपाध्याय के बीते दिनों संपर्क में रहे कुछ लोगों की भी पड़ताल की जा रही है। एसटीएफ खासकर मथुरा व प्रयागराज में पेपर लीक कराने वाले गिराेहों की जांच कर रही है। इन दोनों के आपसी कनेक्शन होने की आशंका भी है। हालांकि अभी यह पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो सका है कि पेपर सबसे पहले किस गिरोह के हाथ लगा था। इसे लेकर कई बिंदुओं पर छानबीन के कदम तेजी से बढ़ रहे हैं। साथ ही साल्वर गिरोह की भी पड़ताल चल रही है।

विवाह के कार्ड छापने वाले प्रेस को दे दिया था कामः आरएसएम फिनसर्व लिमिटेड के निदेशक राय अनूप प्रसाद ने प्रश्नपत्र मुद्रण का वर्क आर्डर मिलने के बाद सबसे पहले दिल्ली की पीएस प्रेस के संचालक कुंवर विक्रम जीत से संपर्क कर उसे काम दिया था। एसटीएफ ने इस प्रिंटिंग प्रेस का निरीक्षण किया तो पता चला कि वहां विवाह व अन्य समारोह के कार्ड छपते हैं और ग्राफिक डिजाइनिंग का काम होता है। राय अनूप ने इसी तरह दिल्ली की एक अन्य साधारण प्रेस तथा नोएडा व कोलकाता की एक-एक साधारण प्रिंटिंग प्रेस को प्रश्नपत्र छापने का काम सौंप दिया था।

Edited By Vikas Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept