This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

अयोध्या को प्रमुख धर्मनगरियों से जोडऩे की तैयारी, उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक ने बताई योजना

अयोध्या रेलवे स्टेशन को अंतरराष्ट्रीय मानकों पर विकसित किया जा रहा है। पहले चरण का कार्य संपन्न होने की ओर है। 104 करोड़ का रुपये का बजट इसके लिए निर्धारित किया गया है। अगले वर्ष तक इसे पूरा कर लिया जाएगा।

Anurag GuptaMon, 07 Dec 2020 05:23 PM (IST)
अयोध्या को प्रमुख धर्मनगरियों से जोडऩे की तैयारी, उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक ने बताई योजना

अयोध्या, जेएनएन। रामनगरी को देश के प्रमुख धार्मिक स्थलों से जोडऩे की तैयारी रेलवे कर रहा है। कोरोना बाधा बन कर न आता तो अब तक इस दिशा में रेलवे का कोई निर्णय भी सामने आ जाता। कोरोना से निपटने के बाद उत्तर रेलवे जल्द ही अपनी इस मंशा को फलीभूत करने के लिए रेलवे बोर्ड के समक्ष प्रस्ताव प्रस्तुत करेगा। सोमवार को अयोध्या पहुंचे उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने रेलवे की इस महत्वाकांक्षी योजना के बारे में अपनी बात पत्रकारों के सामने रखी।

उन्होंने सांसद लल्लू सि‍ंह के उस प्रस्ताव का भी उल्लेख किया, जिसमें चित्रकूट, वैष्णोदेवी, जगन्नाथपुरी सहित अन्य धर्मस्थलों को ट्रेन के जरिये अयोध्या से जोडऩे की मांग की गई है। गंगल ने कहा कि अयोध्या जंक्शन की तरह ही फैजाबाद जंक्शन का पुनर्विकास किया जाएगा। फैजाबाद जंक्शन भी मंदिर मॉडल पर पुनर्विकसित होगा। इसके लिए सलाहकार का चयन हो चुका है, जिसने अपनी रिपोर्ट भी मंडल रेल प्रबंधक को सौंप दी है। रेलवे की मंशा अयोध्या में सभी छोटे-बड़े रेलवे स्टेशनों का विकास करने की है।

उन्होंने कहा कि अयोध्या रेलवे स्टेशन को अंतरराष्ट्रीय मानकों पर विकसित किया जा रहा है। पहले चरण का कार्य संपन्न होने की ओर है। 104 करोड़ का रुपये का बजट इसके लिए निर्धारित किया गया है। अगले वर्ष तक इसे पूरा कर लिया जाएगा। अयोध्या रेलवे स्टेशन उच्चकोटि की यात्री सुविधाओं से लैस होगा, जिसमें एक दिन में 15 से 16 हजार यात्री ठहर सकते हैं। पूर्वोत्तर रेलवे के अधिकार क्षेत्र में आने वाले रामघाट हाल्ट को उत्तर रेलवे में शामिल किए जाने का प्रस्ताव बना कर भेजा जा रहा है। दोहरीकरण के सवाल पर जीएम ने कहा कि 2023 तक दोहरीकरण का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। जीएम ने इससे पूर्व फैजाबाद जंक्शन पर दुर्घटना राहत यान का निरीक्षण किया और उसके बाद अयोध्या जंक्शन के पुनर्विकास कार्य व स्टेशन मॉडल का निरीक्षण किया। उनके साथ डीआरएम संजय त्रिपाठी सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

सांसद और डीएम के साथ की बैठक

सांसद लल्लू सि‍ंह व जिलाधिकारी अनुज कुमार झा के साथ अयोध्या जंक्शन पर महाप्रबंधक ने अयोध्या जंक्शन के पुनर्विकास में भूमि संबंधी आ रही अड़चन को दूर करने के लिए बैठक की। अयोध्या जंक्शन के पुनर्विकास के लिए रेलवे स्टेशन के सामने की भूमि का अधिग्रहण किया जाना है। जमीन अधिग्रहण को लेकर कुछ स्थानीय लोग विरोध भी कर रहे हैं। कुछ लोग जीएम से मिलने भी पहुंचे थे। जीएम ने कहाकि प्रशासन के साथ समन्वय बना कर इस अड़चन को भी दूर कर लिया जाएगा।

जल्द होगा फैजाबाद-दिल्ली एक्स. का पुन: संचालन

सांसद लल्लू स‍िंंह ने कहा कि फैजाबाद-दिल्ली एक्सप्रेस का संचालन जल्द होगा। सांसद ने जीएम से अयोध्या को लेकर चल रही रेल परियोजनाओं की प्रगति के बारे में जानकारी ली। सांसद ने अयोध्या को प्रमुख धर्मनगरी से जोडऩे के साथ ही साकेत एक्सप्रेस के प्रतिदिन करने की मांग भी रखी गई। सांसद ने कहाकि फैजाबाद जंक्शन का नाम बदल कर अयोध्या कैंट करने की योजना है। मालगोदाम के सालारपुर स्थानांतरण व रामघाट हाल्ट की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने संबंधी कई ङ्क्षबदुओं पर जीएम से वार्ता हुई है।

 

Edited By: Anurag Gupta

लखनऊ में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!