This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

महंत नरेंद्र गिरि की नहीं हुई थी हत्या, CBI ने प्रयागराज कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में किया बड़ा राजफाश

महंत नरेंद्र गिरि की म़ृत्यु मामले में कोर्ट में दाखिल 19 पेज के आरोप पत्र में सीबीआइ ने दावा किया है कि महंत नरेंद्र गिरि की हत्या नहीं हुई थी। देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआइ की जांच में यह साफ हो चुका है।

Umesh TiwariSun, 21 Nov 2021 10:09 AM (IST)
महंत नरेंद्र गिरि की नहीं हुई थी हत्या, CBI ने प्रयागराज कोर्ट में दाखिल चार्जशीट में किया बड़ा राजफाश

लखनऊ, जेएनएन। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के पूर्व अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की म़ृत्यु मामले में शनिवार को केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआइ) ने प्रयागराज की सीजेएम कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी। जांच एजेंसी ने महंत के परम शिष्य रहे आनंद गिरि, लेटे हनुमान मंदिर के पूर्व पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी और उसके बेटे संदीप को आत्महत्या के लिए उकसाने व षडयंत्र की धारा में आरोप पत्र दाखिल किया। कोर्ट में दाखिल किए गए 19 पेज के आरोप पत्र में सीबीआइ ने बड़ा दावा किया है। आरोप पत्र में जांच एजेंसी ने कहा है कि महंत नरेंद्र गिरि की हत्या नहीं हुई थी। देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआइ की जांच में यह साफ हो चुका है।

महंत नरेंद्र गिरि की म़ृत्यु के बाद सीबीआइ की दिल्ली टीम पिछले दो माह से पूरे मामले की छानबीन कर रही थी, लेकिन इस दौरान महंत की हत्या के बिंदु पर कोई साक्ष्य नहीं मिल सका। अलबत्ता आत्महत्या से पूर्व महंत की ओर से बनाया गया वीडियो और उनके सुसाइड नोट को खुदकशी का सबसे बड़ा आधार बनाया गया है। सूत्रों का कहना है कि जांच के दौरान मठ, मंदिर और महंत से जुड़े तमाम लोगों के बयान दर्ज किए गए थे। इस दौरान उन्होंने महंत की किसी भी शख्स से दुश्मनी होने की जानकारी नहीं दी। शुरुआती जांच, पूछताछ में आत्महत्या से संबंधित साक्ष्य ही मिले।

20 सितंबर को श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी के प्रतीक्षा कक्ष में महंत की संदिग्ध दशा में मृत्यु हुई थी। तमाम संत से लेकर दूसरे लोगों ने महंत की हत्या किए जाने की आशंका जताई थी। साथ ही कमरे में चलता पंखा, रस्सी के तीन टुकड़े के मिलने का वीडियो वायरल होना भी हत्या के बिंदु पर बल दे रहा था। मुख्य आरोपित आनंद गिरि ने भी एक साजिश के तहत महंत की हत्या किए जाने का आरोप लगाते कहा था कि बड़ी जांच एजेंसी इसका पर्दाफाश करेगी। ऐसे और भी कई वजह रहीं, जिनके दृष्टिगत मामले की जांच सीबीआइ को ट्रांसफर की गई थी। सूत्रों के अनुसार, अभियुक्त आनंद गिरि समेत तीनों आरोपितों के विरुद्ध सीबीआइ को अहम साक्ष्य मिले हैं, जिसे वह कोर्ट में साबित करेगी।

25 नवंबर को सेशन कोर्ट में सिपुर्द करें पत्रावली : महंत नरेंद्र गिरि को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपित आनंद गिरि समेत तीनों आरोपितों के विरुद्ध आरोप पत्र पेश होने के बाद कोर्ट ने आदेश दिया है कि पत्रावली को सेशन कोर्ट में सिपुर्द करें। इसके लिए 25 नवंबर की तिथि तय की गई है। इससे पहले वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश हुए आनंद गिरि ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट से अनुरोध किया कि हमारी ओर से उपस्थित अधिवक्ताओं से बात करा दीजिए और मिलने की अनुमति दे दीजिए। ऐसी बहुत सी बाते हैं, जिनको अदालत के समक्ष रखना जरूरी है और वह हमें बेगुनाह करने में मददगार होंगी। उन्होंने अपने अधिवक्ता से जेल में मिलने की बात कही।

हाईकोर्ट में दाखिल करेंगे जमानत अर्जी : अधिवक्ता सुनील पांडेय का कहना है कि वह जेल में आनंद गिरि से मिलकर तथ्यों को समझने के बाद जमानत अर्जी हाईकोर्ट में दाखिल करेंगे। अधिवक्ता विजय द्विवेदी ने कहा कि इस मामले की जांच और बेहतर ढंग से होनी चाहिए थी। घटना से जुड़े कई ऐसे तथ्य प्रकाश में आए थे, जिन पर शायद गौर नहीं किया गया था।

यह भी पढ़ें : महंत नरेंद्र गिरि मौत मामले में CBI ने आनंद गिरि समेत तीन के खिलाफ दाखिल की चार्जशीट, लगाए गंभीर आरोप

Edited By: Umesh Tiwari

लखनऊ में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!