अहिरौलीदान की ग्राम प्रधान पर धोखाधड़ी का मुकदमा

कुशीनगर के अहिरौली दान की ग्राम प्रधान पर है तीन वर्ष में दो अलग-अलग जाति प्रमाण-पत्र लगाने का आरोप प्रधान के चुनाव से पूर्व उन्हें पंचायत सदस्य के उपचुनाव में दूसरी जाति का प्रमाणपत्र लगाया था।

JagranPublish: Sat, 22 Jan 2022 11:34 PM (IST)Updated: Sat, 22 Jan 2022 11:34 PM (IST)
अहिरौलीदान की ग्राम प्रधान पर धोखाधड़ी का मुकदमा

कुशीनगर: न्यायालय के आदेश पर तरयासुजान पुलिस ने क्षेत्र के गांव अहिरौलीदान की महिला प्रधान मीना के विरुद्ध शनिवार को धोखाधड़ी का मुकदमा पंजीकृत किया है। महिला प्रधान पर राजनीतिक लाभ के लिए तीन वर्ष में दो अलग-अगल जाति प्रमाण-पत्र लगाने का आरोप है।

वर्ष 2021 में हुए पंचायत चुनाव में गांव अहिरौली दान के प्रधान का पद अनुसूचित जन जाति के लिए आरक्षित था। गांव के प्रदीप गोड़ की पत्नी मीना अनुसूचित जन जाति का प्रमाण-पत्र लगाकर चुनाव लड़ीं और विजयी हुईं। उनके द्वारा लगाए गए जाति प्रमाण-पत्र को चुनौती देते हुए गांव के ही मिथिलेश कुमार ने एसीजेएम न्यायालय कसया में वाद दाखिल किया। न्यायालय के समक्ष उन्होंने साक्ष्य प्रस्तुत करते हुए बताया कि वर्ष 2019 में मीना अनुसूचित जाति का प्रमाण-पत्र लगाकर ग्राम पंचायत सदस्य का उप चुनाव लड़ चुकीं हैं। वर्ष 2021 में हुए पंचायत चुनाव में गांव का प्रधान पद अनुसूचित जन जाति के लिए आरक्षित हुआ तो वह अपने मायके गांव महुअवां बुजुर्ग तहसील व जिला देवरिया का बना अनुसूचित जन जाति का प्रमाण-पत्र लगाकर चुनाव लड़ीं और जीत हासिल कीं। न्यायालय ने दाखिल पत्रावलियों तथा पेश सबूतों को देखते हुए आरोपित प्रधान द्वारा लगाए गए जाति प्रमाण पत्र को गलत माना और उनके विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कर विवेचना का आदेश दिया। एसएचओ कपिलदेव चौधरी ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर महिला प्रधान के विरुद्ध कूट रचित दस्तावेज तैयार कराने तथा धोखाधड़ी का मुकदमा पंजीकृत कर पुलिस विवेचना कर रही है।

डग्गामार बसों को चालकों व परिचालकों ने लौटाया

शनिवार को थाना क्षेत्र के पटहेरिया चौराहे पर उस समय अपरा-तफरी मच गई, जब तमकुही से यात्रियों को लेकर आ रही डग्गामार बसों को दूसरी बसों के चालकों व परिचालकों ने लौटा दिया। यात्रियों को उतार दूसरे वाहनों में बैठा दिया। इनका आरोप है कि कुछ व्यक्तियों द्वारा उनकी बसों में यात्रियों नहीं बैठाने दिया जा रहा है।

तमकुही से गोरखपुर तक करीब दो दर्जन से अधिक डग्गामार बसें चलती हैं। जिसमें एक गुट ने आठ डग्गामार बसों को तमकुही स्टैंड पर सवारी बैठाने से मना कर दिया गया है। दूसरे गुट का आरोप है कि वह दबंगई करके उनकी बसों में यात्री नहीं बैठाने दे रहे हैं। इसलिए जो डग्गामार बसें तमकुही से यात्री लेकर आ रही हैं ,उन बसों के यात्रियों को पटहेरिया चौराहे पर दूसरे गुट के चालक व परिचालक उतार कर रोडवेज बस में बैठा रहे हैं। कहा कि जब तक उन्हें तमकुही में सवारी नहीं बैठाने दिया जाएगा, तब तक अन्य बसों का संचलन नहीं होने देंगे। सीओ फूलचंद कन्नौजिया ने कहा कि इस तरह का मामला संज्ञान में नहीं है। इसके बारे में पता करवा रहा हूं। अभियान चलाकर डग्गामार वाहनों के विरुद्ध कार्रवाई होगी।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept