यूपी चुनाव 2022: फर्रुखाबाद से हजियापुर तक कैसा है चुनावी माहौल, पढ़िए- इलेक्शन बाइकर्स की ये रिपोर्ट

फर्रुखाबाद में चुनावी तापमान मापने इलेक्शन बाइकर्स निकले तो कहीं निश्शुल्क राशन व्यवस्था भा रही थी तो कहीं पर महंगाई समेत कई मुद्दों का दर्द सामने आया। चुनावी चर्चा में योगी-मोदी संग अखिलेश यादव का नाम भी सुनाई दिया।

Abhishek AgnihotriPublish: Mon, 17 Jan 2022 04:42 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 04:42 PM (IST)
यूपी चुनाव 2022: फर्रुखाबाद से हजियापुर तक कैसा है चुनावी माहौल, पढ़िए- इलेक्शन बाइकर्स की ये रिपोर्ट

फर्रुखाबाद, [चुनाव डेस्क]। गलन भरी सर्दी में तापमान गोता लगाकर सात डिग्री हो चला है। उधर, चुनाव को लेकर राजनीतिक तापमान गर्म होता जा रहा। खेत हो या चौपाल, दुकान-खेल का मैदान, राजनीतिक गर्मी का अहसास हो रहा है। चुनावी चर्चाओं में योगी-मोदी हैं तो अखिलेश यादव भी। निश्शुल्क राशन से राहत की बात है तो महंगाई व फसलों के लिए आफत बने मवेशियों से परेशानी भी। क्या चल रहा लोगों के मन, बता रहे फर्रुखाबाद से विजय प्रताप सिंह...।

सुबह के करीब 10 बजे हैं। सुबह से घना छाया कोहरा अब हल्का पड़ चुका है। बादलों में छुपा सूरज अपनी चमक बिखेरने के जतन में है। सर्द हवा के बीच फर्रुखाबाद शहर से हम बाइक लेकर हजियापुर जाने वाली सड़क पर निकल चुके हैं। इस वक्त शहर में दुकानें खुल रही हैं और दुकानदार उन्हें सजाने में व्यस्त हैं। इस शहरी कोलाहल को पार कर गुरुगांव देवी मंदिर से आगे बढ़े तो सदर विधानसभा क्षेत्र में अर्रा पहाड़पुर के पास भेंड़ चरा रहे अमृतपुुर विधानसभा क्षेत्र के चंदोखा निवासी पप्पू पाल, बाबूूराम पाल और संजेश पाल आपस में चर्चा करते मिले। निश्शुल्क राशन वितरण की सराहना हो रही मगर, परेशानियों का अंत यही नहीं है। प्रश्न करते ही बोले, पिछले दिनों गंगा में आई बाढ़ का पानी खेतों में भर गया था।

चारे का संकट है। आगे बढ़े तो हाथीपुर में बिल्डिंग मैटीरियल की दुकान के सामने अलाव के पास बैठे भगवान दास और पड़ोस में बाइक शाकर रिपेयरिंग के दुकानदार सैय्यद इमरान अली मिलते हैं। राजनीतिक चर्चा छिड़ी है। भगवानदास ने पक्ष रखा तो इमरान बोले, भइया उस पार्टी को यदि वोट दे भी दें तो मानेगा कौन। बरौन में निर्माणाधीन कोल्ड स्टोरेज के सामने छोटी बरौन निवासी सुजीत दुबे, कन्नौज के ठेकेदार इमरान आदि अलाव जलाकर चर्चा में डूबे थे। मोदी-योगी के साथ अखिलेश यादव की चर्चा हो रही थी। सबके अपने तर्क और सरकारों का काम जुबां पर था। और आगे बढ़े तो बड़ी बरौन के पास खेतों में 74 वर्षीय रामकिशोर अन्य लोगों के साथ मटर की तुड़ाई करवाते मिले। बगल के खेत में मटर तोड़ रहीं छोटी बरौन निवासी सुनीता देवी पेंशन कट जाने से गुस्से में दिखीं। पास खड़े बड़ी बरौन निवासी मोईन खान बोले, अब गुुंडागर्दी खत्म हो गई है, तुम्हें पेंशन की पड़ी है। यहां वापस लौटने में बड़ी बरौन निवासी नियामतउल्ला खां मिल गए। वह बोले- सरकार तो अ'छी है लेकिन, बेलगाम मवेशियों ने किसानों का बहुत नुकसान किया।

यहां से आगे बढ़े तो अमृतपुुर विधानसभा क्षेत्र आ गया। शुकुरुल्लापुर ईंट भ_ा के पास खाली पड़े मैदान में क्रिकेट खेलते युवा दिखते हैं। बाइक रोककर चुनाव पर चर्चा की तो नगला शादीपुर के शिवम पाल ने अखिलेश यादव की तारीफ की तो तत्काल कांधेमई के वीरेश कुुमार ने बात काटते हुए योगी के पक्ष में तमाम तर्क रखना शुरू कर दिए। यहांं से बलीपुर भगवंत (उलियापुर) पहुंचे तो अधिवक्ता बृजेश्वर ङ्क्षसह यादव के दरवाजे पर चौपाल सजी थी। जगदेव यादव, दिनेश यादव, नरदेव यादव, रामप्रकाश यादव आदि हाल में बदले राजनीति के समीकरण के नफा-नुकसान पर चर्चा कर रहे थे। दलबदल का घटनाक्रम छाया हुआ था। यहां सेे हजियापुर चौराहे पर बाइक रोकी तो अंकित सक्सेना की पपडिय़ा की दुकान पर खड़े सौरभ कुमार, अजीत सक्सेना आदि कई लोग बढ़ी महंगाई से परेशान दिखे। बोले, इस महंगाई से भी कोई निजात दिलाए।

Edited By Abhishek Agnihotri

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept