UP Chunav 2022 : कानपुर में भाजपा ने खोले पत्ते पर एक-दूसरे के सामने आने से बच रहे सपा-कांग्रेस

कानपुर क्षेत्र की सभी विधानसभा सीटों पर जहां भाजपा ने अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है वहीं सपा और कांग्रेस ने पांच सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित किए हैं। अगर आर्यनगर विधान सभा छोड़ दी जाए तो कहीं पर सपा-कांग्रेस ने आमने-सामने प्रत्याशियों को नहीं उतारा है।

Abhishek VermaPublish: Sun, 23 Jan 2022 05:03 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 05:03 PM (IST)
UP Chunav 2022 : कानपुर में भाजपा ने खोले पत्ते पर एक-दूसरे के सामने आने से बच रहे सपा-कांग्रेस

कानपुर, जागरण संवाददाता। सामान्य तौर पर भारतीय जनता पार्टी अपने पत्ते सबसे अंत में खोलती है लेकिन इस बार घाटमपुर को छोड़ बाकी सभी सीटों पर उसने अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है। वहीं, अब समाजवादी पार्टी और कांग्रेस असमंजस की स्थिति में हैं। दोनों दलों ने अभी तक पांच-पांच प्रत्याशी घोषित किए हैं। सिर्फ आर्यनगर सीट ही ऐसी है जहां दोनों दलों ने अपने प्रत्याशियों को उतारा है। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि दोनों दल अपने प्रत्याशियों की घोषणा में चुनाव के बाद की स्थितियों को भी ध्यान में रख रहे हैं। वहीं, प्रत्याशियों की घोषणा के मामले में बसपा दोनों दलों से आगे निकल गई है। 

भारतीय जनता पार्टी ने इस बार दूसरे दलों के मुकाबले अपने सभी पत्ते पहले ही खोल दिए हैं। भाजपा ने नौ, बसपा ने सात तो कांग्रेस और सपा ने पांच-पांच प्रत्याशियों की घोषणा की है लेकिन अभी तक सपा और कांग्रेस के टिकटों की जो घोषणा है वह दोनों की रणनीति के हिसाब से मानी जा रही है। बिल्हौर से कांग्रेस ने ऊषा रानी कोरी, किदवई नगर से अजय कपूर, कैंट से सोहिल अंसारी और महाराजपुर से कनिष्क पांडेय को चुनाव मैदान में उतारा है। इन चारों सीटों से अभी तक सपा ने अपने प्रत्याशी घोषित नहीं किए हैं। वहीं सपा ने बिठूर से मुनींद्र शुक्ला, कल्याणपुर से सतीश निगम, सीसामऊ से इरफान सोलंकी, घाटमपुर से भगवती प्रसाद सागर को मैदान में उतारा है। इन चारों सीटों पर कांग्रेस ने अभी तक अपने प्रत्याशी घोषित नहीं किए हैं। 

आर्यनगर विधानसभा सीट से सपा से अमिताभ बाजपेई और कांग्रेस प्रमोद जायसवाल मैदान में हैं। 2017 के चुनाव में भी सपा कांग्रेस का गठबंधन होने के बाद भी ये दोनों ही मैदान में थे। कांग्रेस हाईकमान के निर्देश पर प्रमोद जायसवाल ने अपना प्रचार बंद कर दिया था। चुनाव में अमिताभ बाजपेई 5,723 वोटों से जीते थे जबकि बिना प्रचार किए प्रमोद जायसवाल 1,596 वोट पा गए थे। 

ताकत का आकलन कर रहे दोनों दल

राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि सपा और कांग्रेस भाजपा के प्रत्याशियों के साथ अपनी-अपनी ताकत का आकलन कर रहे हैं। अब बाकी प्रत्याशियों की घोषणा इसके हिसाब से ही होगी। गोविंद नगर ऐसी सीट है जहां भाजपा ने तो प्रत्याशी घोषित किया है लेकिन सपा, कांग्रेस, बसपा किसी ने प्रत्याशी नहीं घोषित किए हैं। बसपा ने इसके अलावा महाराजपुर और आर्यनगर से भी प्रत्याशी घोषित नहीं किए हैं।

Edited By Abhishek Verma

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept