Kanpur University में डिजिटल हस्ताक्षर से मिल रही डिग्री, स्क्रूटनी रिजल्ट का भेजा जा रहा ईमेल

सीएसजेएम विवि में डिजिटल व आनलाइन प्लेटफार्म पर सेवाएं मिलना शुरू हो गया है। आवेदन करने के तुरंत बाद ही छात्रों को एक क्लिक पर डिजिटल डिग्री अंकतालिका प्रोविजनल मार्कशीट माइग्रेशन सर्टिफिकेट मिल रहे हैं। जल्द ही प्रतिलिपि और दस्तावेज वैरीफिकेशन का काम भी आनलाइन होगा।

Abhishek AgnihotriPublish: Tue, 30 Nov 2021 04:27 PM (IST)Updated: Tue, 30 Nov 2021 04:27 PM (IST)
Kanpur University में डिजिटल हस्ताक्षर से मिल रही डिग्री, स्क्रूटनी रिजल्ट का भेजा जा रहा ईमेल

कानपुर, जागरण संवाददाता। छत्रपति शाहूजी महाराज विवि में छात्रों को तमाम सुविधाएं आनलाइन प्लेटफार्म पर मिलने लगी हैं। आवेदन करने के तुरंत बाद ही छात्रों को एक क्लिक पर डिजिटल डिग्री, अंकतालिका, प्रोविजनल मार्कशीट, माइग्रेशन सर्टिफिकेट मिल रहे हैं। साथ ही स्क्रूटनी रिजल्ट छात्रों की ईमेल आइडी पर भेजे जा रहे हैं। जल्द ही छात्र-छात्राओं को प्रतिलिपि (ट्रांसक्रिप्ट) व दस्तावेजों का सत्यापन भी आनलाइन उपलब्ध कराने की कोशिश की जा रही है।

कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद ही छात्रों की समस्याओं के शीघ्र व गुणवत्तावरण समाधान की दिशा में कार्य शुरू किए थे। उन्होंने विवि को डिजिटली स्मार्ट बनाने के लिए विभिन्न पोर्टल विकसित कराए और वेबसाइट को भी नए कलेवर में तैयार कराया। कुलपति के निर्देश पर ही विवि से अध्यापन करने वाले तमाम छात्रों को अब आनलाइन आवेदन करने पर डिजिटल हस्ताक्षर युक्त उपाधि, अंकतालिका, प्रोविजनल अंकतालिका व माइग्रेशन प्रमाणपत्र मिल रहे हैं। यही नहीं, अंकतालिका का फार्मेट भी बदला गया है। जिसका प्रिंट निकालकर अभ्यर्थी किसी भी परीक्षा के आवेदन या प्रवेश में इस्तेमाल कर सकते हैं।

विवि के अधिकारियों ने बताया कि स्क्रूटनी रिजल्ट के लिए आवेदन करने वाले छात्र अपनी ईमेल आइडी लिखते हैं, उसी आइडी पर उन्हें रिजल्ट उपलब्ध करवाया जा रहा है। यही नहीं, कोशिश की जा रही है कि छात्रों को अन्य कई तरह की सुविधाएं भी आनलाइन उपलब्ध कराई जा सकें। विवि की ओर से पुराने सभी छात्रों का डाटा अपलोड कराया गया है। यही नहीं, विवि से संबंध सभी महाविद्यालयों में उपलब्ध सीटें, फीस, शिक्षक आदि का ब्योरा भी आनलाइन मिलेगा। इसके लिए जीआइएस पोर्टल तैयार कराया गया है।

Edited By Abhishek Agnihotri

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept