This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

कर्ज चुकाने के लिए नाबालिग मजदूरों ने की हत्या

बर्रा विश्वबैंक में आर्डनेंस कर्मी की पत्नी की हत्या का पर्दाफाश

JagranFri, 17 Aug 2018 01:51 PM (IST)
कर्ज चुकाने के लिए नाबालिग मजदूरों ने की हत्या

जागरण संवाददाता, कानपुर दक्षिण : बर्रा विश्वबैंक सी-ब्लाक में आर्डनेंस कर्मी संजय कुमार की पत्नी पुष्पा उर्फ सीमा की हत्या दो नाबालिग मजदूरों ने की थी। जुए में लिया कर्ज चुकाने के लिए दोनों लूटपाट करने पहुंचे। ठेकेदार अजय पांडेय द्वारा पत्थर कटाई का सामान मंगाने की बात कहकर गेट खुलवाया था और वारदात को अंजाम दिया।

प्रेसवार्ता में एसपी साउथ रवीना त्यागी ने बताया कि दोनों अपचारियों को खाड़ेपुर तिराहे के पास गिरफ्तार किया गया। लूट की योजना बनाने वाला अपचारी हाईस्कूल का छात्र है। दोनों की निशानदेही पर 7000 रुपये, डिजिटल कैमरा, तीन मोबाइल बरामद हुए हैं। उन्होंने खून से सने कपड़े एक खाली प्लाट में गाड़ दिए थे। उन्हें भी बरामद कर लिया गया है। कोर्ट में पेश कर दोनों अपचारियों को बाल सुधार गृह भेजा गया है।

-------

झगड़े के दौरान बनी जय-वीरू की जोड़ी

दोनों अपचारी एक ही मोहल्ले के हैं। दो साल पहले एक युवक से झगड़ा होने पर दूसरे ने उसकी मदद की थी। तब से उनकी जोड़ी बन गई और खुद को जय-वीरू कहने लगे। हत्या से कुछ दिन पहले दोनों ने साइकिल भी चोरी की थी। वारदात के दौरान लूटी गई रकम से दोनों ने कर्ज उतारा और कपड़े खरीदे।

------

ऐसे पहुंची पुलिस

बर्रा इंस्पेक्टर रवि श्रीवास्तव ने बताया कि वारदात के बाद बेंजाडीन टेस्ट से पति संजय शक के दायरे में आए पर पूछताछ में कुछ नहीं मिला। उनके भाई व ससुराल वालों से भी बात हुई लेकिन नतीजा नहीं निकला। ठेकेदार अजय पांडेय से पूछताछ हुई तो उसने साहिल विश्वकर्मा पर संदेह जताया। साहिल के बयान से दोनों अपचारी शक के दायरे में आए।

मां के छूने से संजय के हाथ में लगा खून

वारदात के बाद सबसे पहले पुष्पा की सास बीना पहुंची थीं। लहूलुहान हालत में पड़ी पुष्पा को उन्होंने उठाने की कोशिश भी की थी, जिसमें उनके हाथ में खून लग गया। जब संजय घर पहुंचे तो मां ने उनका हाथ पकड़ा था। जिससे संजय के हाथों में भी खून लग गया। बाइक से वह पुराने घर गए तो बाइक के हैंडिल और चाबी में भी खून आया था। इसी वजह से बेंजाडीन टेस्ट पॉजिटिव आया था।

पहचाने जाने के डर से की हत्या

किशोरों ने बताया कि वह पुष्पा को मारना नहीं चाहते थे। उनका इरादा लूटपाट का था। आते ही उन्होंने पुष्पा को बेहोश करने के लिए हथौड़ा मारा लेकिन हथौड़ा सिर पर जोर से पड़ा और वह लहूलुहान होकर गिर गई। यह देख वे हड़बड़ा गए और पहचाने व पकड़े जाने के डर से पुष्पा के सिर पर कई वार कर दिए।

Edited By Jagran

कानपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!