लद्दाख में 50 स्टार्टअप कंपनियां शुरू कराएगा आइआइटी कानपुर, तकनीक में दक्ष युवाओं को देंगे प्रशिक्षण

लद्दाख के विकास आयुक्त ने नोएडा में आईआईटी के विशेषज्ञों और इंजीनियर से वार्ता की है। अब वहां 50 स्टार्टअप कंपनियां शुरू कराने और तकनीक में दक्ष युवाओं को प्रशिक्षित करने की तयारी आईआईटी द्वारा की जा रही है।

Abhishek AgnihotriPublish: Mon, 04 Jul 2022 08:42 AM (IST)Updated: Mon, 04 Jul 2022 08:42 AM (IST)
लद्दाख में 50 स्टार्टअप कंपनियां शुरू कराएगा आइआइटी कानपुर, तकनीक में दक्ष युवाओं को देंगे प्रशिक्षण

कानपुर, जागरण संवाददाता। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी) कानपुर के विशेषज्ञ लद्दाख में भौगोलिक परिस्थितियों व उपलब्ध संसाधनों के अनुसार करीब 50 नई स्टार्टअप कंपनियां शुरू कराएंगे। इसके लिए वहां के तकनीक दक्ष युवाओं को प्रशिक्षण देंगे और जरूरत पड़ने पर संस्थान की ओर से विकसित तकनीक का भी इस्तेमाल करेंगे।

शनिवार को आइआइटी के नोएडा स्थित स्टार्टअप इन्क्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर (एसआइआइसी) में लद्दाख के विकास आयुक्त सौगत विश्वास ने निदेशक प्रो. अभय करंदीकर, एसआइआइसी के प्रभारी प्रो. अमिताभ बंद्योपाध्याय व अन्य अधिकारियों से तमाम बिंदुओं पर बात की। उन्होंने आइआइटी के सहयोग से लद्दाख में उद्योगों के विकास के लिए कार्ययोजना पर चर्चा की। एसआइआइसी के अधिकारियों ने बताया कि लद्दाख में नवाचारों, तकनीकी शिक्षा, स्टार्टअप कंपनियों को बढ़ाने के लिए आइआइटी कानपुर के अलावा आइआइटी दिल्ली व आइआइटी बांबे भी कार्य कर रहे हैं। इसमें स्टार्टअप विकसित करने का जिम्मा आइआइटी कानपुर को मिला है। कुछ समय पहले तीनों संस्थानों के विशेषज्ञों ने लद्दाख का भ्रमण करके विभिन्न योजनाओं के बाबत प्रस्ताव दिया था। इन्हीं प्रस्ताव पर अब लद्दाख सरकार ने कार्य शुरू किया है।

विकास आयुक्त ने नोएडा में आइआइटी की इन्क्यूबेटेड कंपनियों के अधिकारियों से भी लद्दाख में संभावित उद्योगों के बाबत वार्ता की। प्रो. बंद्योपाध्याय के मुताबिक आने वाले दिनों में लद्दाख के युवा आइआइटी आकर प्रशिक्षण लेंगे और यहां के विशेषज्ञ स्टार्टअप शुरू कराने में उनकी मदद करेंगे। यह पूरा कार्यक्रम पांच साल का होगा।

Edited By Abhishek Agnihotri

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept