फतेहपुर में बावरिया गैैंग की सूचना पर छापा मारने गई पुलिस से भिड़ी महिलाएं, दस संदिग्ध फरार

फतेहपुर में ललाैली रोड पर मस्जिद के पीछे बावरिया गिरोह के छिपे होने पर पुलिस ने छापा मारा तो महिलाएं भिड़ गईं। इस बीच दस से ज्यादा पुरुष सदस्य भाग निकले। पुलिस ने दो संदिग्धों को पकड़ा है जो आधार कार्ड नहीं दिखा पाए हैं।

Abhishek AgnihotriPublish: Mon, 17 Jan 2022 12:58 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 12:58 PM (IST)
फतेहपुर में बावरिया गैैंग की सूचना पर छापा मारने गई पुलिस से भिड़ी महिलाएं, दस संदिग्ध फरार

फतेहपुर, जागरण संवाददाता। बावरिया गिरोह के 20 से 25 सदस्य ललौली रोड पर हेरा मस्जिद के पीछे एक निर्माणाधीन मकान में छिपे होने की सूचना पर पुलिस ने छापा मारा। पुलिस के पहुंचते ही महिलाओं ने हमला कर दिया। अतिरिक्त पुलिस फोर्स पहुंचने से पहले ही 10 से अधिक लोग धक्का-मुक्की कर भाग निकले। पुलिस ने मकान को घेरकर तलाशी ली और दो संदिग्ध लोगों को हिरासत में ले लिया। हालांकि, पुलिस अभी इस मामले में कोई जानकारी नहीं दे रही है।

शनिवार रात करीब साढ़े नौ बजे पुलिस ने निर्माणाधीन मकान में बावरिया गिरोह के होने की खबर पर छापा मारा। मकान के दीवार के अंदर पहुंचे दारोगा और सिपाही पर महिलाओं ने हमला बोल दिया। इस पर पुलिस ने कोतवाली में सूचना दी। पुलिस फोर्स वहां पहुंचने से पहले ही मकान में मौजूद 10 से अधिक पुरुष सदस्य दीवार फांदकर निकल गए।

पुलिस ने घेराबंदी के बाद दो पुरुष सदस्यों को पकड़ा। रात में महिला पुलिस ने मकान में मौजूद महिलाओं से काफी देर तक पूछताछ की। पहचान के लिए सभी के आधार कार्ड मांगे, पर किसी ने आधार नहीं दिखाया। इससे पुलिस को शक और गहरा हो गया। रात करीब एक बजे तक पुलिस छानबीन करती रही। छापे के दौरान पुलिस से धक्कामुक्की करके भागे लोगों को हालांकि पुलिस नहीं खोज पाई है।

एक जीप से कूदकर भागा, पकडऩे में गिरे दारोगा और सिपाही

संदिग्धों के साथ हुई धक्कामुक्की के दौरान तीन लोगों को पुलिस ने जीप में बैठा लिया। जीप उन्हें लेकर कोतवाली के लिए चली तो पीछे बैठा एक व्यक्ति चलती जीप से कूदकर भागा। पास में खड़े दारोगा व सिपाही पकडऩे को दौड़े हालांकि सौ मीटर भागने में ही गिर गए। इसका फायदा उठाकर संदिग्ध भाग निकला।

-बावरिया गिरोह की सूचना थी, इसी आधार छापेमारी की गई थी। अभी यह पुष्टि नहीं हो पाई है कि ये बावरिया गिरोह के सदस्य हैं या नहीं। जांच चल रही है। हालांकि, यह बावरिया गिरोह की तरह ही कबूतरा एक जाति होती है, वह भी अपराध में लिप्त होती है, अभी तक की जांच में यह वही हैं। बावरिया से इनके कनेक्शन की जांच की जा रही है। -रवींद्र श्रीवास्तव, कोतवाली प्रभारी बिंदकी

Edited By Abhishek Agnihotri

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept