बिकरू कांड की वजह बनी संपत्ति को लेकर फिर विवाद, विकास दुबे की भतीजी ने राहुल तिवारी पर लगाया आरोप

Bikru Kand Latest News चौबेपुर में 2 जुलाई 2020 की रात पुलिस ने कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के घर दबिश डाली गई थी क्योंकि जादेपुर निवासी राहुल तिवारी ने विकास दुबे अमर दुबे आदि के खिलाफ हत्या का प्रयास और अपहरण की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था।

Shaswat GuptaPublish: Thu, 11 Nov 2021 07:05 AM (IST)Updated: Thu, 11 Nov 2021 07:05 AM (IST)
बिकरू कांड की वजह बनी संपत्ति को लेकर फिर विवाद, विकास दुबे की भतीजी ने राहुल तिवारी पर लगाया आरोप

कानपुर, जागरण संवाददाता। Bikru Kand Latest News बिकरू कांड की मुख्य वजह रही मोहनी निवादा गांव की छह बीघा जमीन और मकान को लेकर एक बार फिर से विवाद शुरू हो गया है। 16 माह बाद कब्जेदारी को लेकर बुधवार दोपहर विवाद खड़ा हो गया। एनकाउंटर में मारे गए कुख्यात विकास दुबे (Vikas Dubey) की भतीजी ने बिकरू कांड (Bikru Kand) के कारण माने गए जादेपुर निवासी राहुल तिवारी व उसके गनर पर मकान का ताला तोड़कर सामान चोरी कराने के आरोप लगाए हैं। पुलिस ने फिलहाल ताला डलवा दिया है।

 चौबेपुर में 2 जुलाई 2020 की रात दबिश के दौरान बिकरू में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे। पुलिस ने  कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के घर दबिश डाली गई थी, क्योंकि जादेपुर निवासी राहुल तिवारी ने विकास दुबे, अमर दुबे आदि के खिलाफ हत्या का प्रयास और अपहरण की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद मामला पूरे देश में चर्चित हुआ और एसटीएफ व पुलिस ने विकास दुबे व उसके पांच गुर्गों को एनकाउंटर में मार गिराया था। घटना की मुख्य वजह थी मोहनी निवादा गांव की छह बीघा भूमि व मकान, जिस पर हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के चचेरे भाई बालगोङ्क्षवद के दामाद सुनील शुक्ला का वसीयत के आधार पर कब्जा था। वहीं जादेपुर निवासी राहुल तिवारी यह भूमि अपने ससुर की बता रहा था। 30 जून 2020 को भूमि और मकान पर कब्जे को लेकर विवाद हुआ था, जिसके बाद विकास दुबे ने राहुल तिवारी को बंधक बना अपने गुर्गों से पिटवाया था। बिकरू कांड के बाद राहुल तिवारी को सरकारी गनर मिला हुआ है। कांड की वजह रही विवादित भूमि पर पुलिस ने यथास्थिति के निर्देश दे रखे हैं, लेकिन बुधवार को मकान का ताला तोड़कर कब्जा करने की कोशिश की गई। दोपहर को मोहनी निवादा गांव पहुंची जेल में बंद सुनील शुक्ला की पत्नी समीक्षा ने मकान का ताला टूटा देख पुलिस को सूचना दी। समीक्षा ने बताया कि राहुल तिवारी व उसके सरकारी गनर ने घर का ताला तोड़कर जेवर व कीमती सामान चोरी कर लिया है। आरोप है कि उसने जमीन पर भी कब्जे की कोशिश की है। इधर राहुल तिवारी ने समीक्षा शुक्ला पर संपत्ति को जबरन कब्जाने के आरोप लगाए हैं। सूचना पर गांव पहुंची पुलिस ने मकान में ताला डलवा दिया। थाना प्रभारी कृष्ण मोहन राय ने बताया कि दोनो पक्ष एक दूसरे पर मोहनी निवादा में मकान पर कब्जे को लेकर आरोप प्रत्यारोप लगाए हैं। फिलहाल ताला डलवा कर दोनो पक्षों को हिदायत दी गई है।

यह है मामला : जादेपुर निवासी राहुल तिवारी की शादी पड़ोस के गांव मोहनी निवादा निवासी लल्लन शुक्ला की बेटी के साथ हुई थी। लल्लन की केवल तीन बेटियां हैं, जिसमें दो की शादी हो चुकी है। लल्लन के जीवन काल से उनका भांजा सुनील उनके साथ रहने लगा था। सुनील की शादी विकास दुबे के भतीजे शिवम दुबे की बहन समीक्षा से हुई थी। लल्लन की मृत्यु के बाद सुनील ने दावा किया कि मरने से पहले मामा उसे साढ़े छह बीघा जमीन दान में दे गए हैं। इसी आधार पर सुनील ने जमीन का बैनामा भी अपने नाम से करवा लिया था। राहुल तिवारी ने इस बैनामे को कोर्ट में चुनौती दी है। करोड़ों की कीमत वाली जमीन पर विकास दुबे की नीयत भी खराब हुई और यही संपत्ति बिकरू कांड की सबसे बड़ी वजह बन गई।

Edited By Shaswat Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept