This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

जानिए- कौन है Gulabo Sitabo में आयुष्मान की बहन नीतू, छोटे से गांव की बेटी को कैसे मिला ये मुकाम

Gulabo Sitabo Movie दस साल की अनन्या को महानायक अमिताभ बच्चन के साथ काम करने का मौका मिला इस उपलब्धि से गांव के लोगों में बेहद खुशी है।

Abhishek AgnihotriMon, 15 Jun 2020 09:38 AM (IST)
जानिए- कौन है Gulabo Sitabo में आयुष्मान की बहन नीतू, छोटे से गांव की बेटी को कैसे मिला ये मुकाम

हमीरपुर, जेएनएन। [Gulabo Sitabo Movieअमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज हुई फिल्म 'गुलाबो सिताबो' की चर्चा हर युवा जुबां पर है। इस फिल्म में महानायक अमिताभ बच्चन और अभिनेता आयुष्मान खुराना के साथ छोटी बच्ची भी नजर आ रही है। आयुष्मान खुराना की बहन नीतू का किरदार निभाने वाली दस साल की ये बच्ची हमीरपुर के एक छोटे से गांव की रहने वाली है। उसकी लगन ने आज उसे इस मुकाम तक पहुंचाया है। उसे सदी के महानायक के साथ काम करने का मौका मिला, जिसका सपना बॉलीवुड की दुनिया में काम करने वाला हर कलाकार देखता है।

हमीरपुर के झोलखर की रहने वाली हैं अनन्या

शूजित सरकार निर्देशित फिल्म 'गुलाबो सिताबो' 12 जून को अमेजन प्राइम वीडियो  [Amazon Prime Video] पर 200 देशों में एक साथ रिलीज हुई है। बिग बी और आयुष्मान खुराना की यह पहली फिल्म है, जो सिनेमा हाल में न आकर सीधे मोबाइल स्क्रीन से दर्शकों तक पहुंची है। इस फिल्म में आयुष्मान खुराना की बहन नीतू की भूमिका में नजर आने वाली 10 वर्षीय अनन्या का पैतृक गांव झलोखर है। गांव में उनके परिवार के लोग रहते हैं, जबकि वह अपने माता-पिता के साथ मुंबई में रहती है। उनका छह वर्षीय छोटा भाई एकाग्र द्विवेदी एंड टीवी में प्रसारित 'कहत हनुमान जय श्रीराम' सीरियल में हनुमान की भूमिका निभा रहे हैं।

कई विज्ञापनों में काम कर चुकी हैं अनन्या

मोबाइल फोन पर हुई वार्ता में पिता राहुल द्विवेदी और मां प्रतीक्षा ने बताया कि अनन्या की यह पहली फिल्म है। फिल्म में एंट्री के सवाल पर मां ने बताया कि लखनऊ में हुए ऑडिशन में अनन्या को चुना गया था। इसके पहले कई विज्ञापन फिल्मों में काम कर चुकी हैं। अनन्या कक्षा छह में पढ़ रही है और शास्त्रीय नृत्य में रुचि होने से वह नियमित अभ्यास करती है। उन्होंने फिल्म की शूटिंग के दौरान का जिक्र करते हुए बताया कि फिल्म में रोने का सीन था। इसके लिए ग्लिसरीन लगाने को कहा गया लेकिन अनन्या ने ग्लिसरीन लगाए बिना ही आंसू निकालकर दृश्य पूरा किया।

गौरवान्वित हुए ग्रामीण

अनन्या की उपलब्धि से झलोखर गांव में रहने वाले सत्येंद्र अग्रवाल, अभिषेक त्रिपाठी, अखिलेश सिंह गौर, आशुतोष त्रिपाठी व मनोज शिवहरे आदि का कहना है कि गांव की बेटी को सुपर स्टार के साथ देखकर गौरव की अनुभूति हुई, इससे वह बेहद खुश हैं। चार माह पहले अनन्या अपने माता-पिता के साथ गांव आई थीं।

कानपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!