This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

इटावा : सरे बाजार हेड कांस्टेबल की पत्नी पर फेंका गया तेजाब, दस दिन में इस तरह की दूसरी घटना

एएसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद ने मौके पर पहुंचकर मुआयना करने के बाद बताया कि कोई ज्वलनशील पदार्थ फेंके जाने का अहसास पीडि़ता ने जताया है। पीडि़ता की पहनी हुई साड़ी को फोरेंसिक जांच के लिए लैब भेजा जा रहा है।

Akash DwivediThu, 24 Jun 2021 07:05 PM (IST)
इटावा : सरे बाजार हेड कांस्टेबल की पत्नी पर फेंका गया तेजाब, दस दिन में इस तरह की दूसरी घटना

कानपुर, जेएनएन। पक्की सराय कपड़ा बाजार में गुरुवार को अपराह्न करीब ढाई बजे हेड कांस्टेबल की पत्नी पर एसिड अटैक किया गया। इससे बाजार में अफरा-तफरी मच गई। कपड़ा बाजार में 10 दिन के अंतराल में एसिड अटैक की यह दूसरी घटना है। घटनास्थल से सदर कोतवाली करीब 200 मीटर की दूरी पर है।

45 वर्षीय ममता यादव निवासी नई मंडी फ्रेंड्स कालोनी अपनी देवरानी नीलम पत्नी दुष्यंत कुमार निवासी न्यू बस अड्डा पंजाबी कालोनी के साथ साड़ी खरीदने पक्की सराय बाजार में आई थीं। वह आगरा में एएनएम पद पर कार्यरत हैं। उनके पति राघवेंद्र ङ्क्षसह यादव कानपुर के किदवईनगर थाना में हैड कांस्टेबल पद पर तैनात हैं। वह जब राजीव जैन निवासी लालपुरा की दुकान पर साड़ी देख रही थीं, तभी अचानक उनको पीछे से कमर पर जलन का अहसास हुआ। पहनी हुई साड़ी शरीर से चिपक गई थी। अज्ञात शख्स द्वारा एसिड अटैक की आशंका जताते हुए सदर कोतवाली पुलिस को सूचना दी गई।

एएसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद ने मौके पर पहुंचकर मुआयना करने के बाद बताया कि कोई ज्वलनशील पदार्थ फेंके जाने का अहसास पीडि़ता ने जताया है। पीडि़ता की पहनी हुई साड़ी को फोरेंसिक जांच के लिए लैब भेजा जा रहा है। 10 दिन के अंतराल में एक ही प्रकार की दो घटनाओं को गंभीरता से लेकर पक्की सराय बाजार में सतर्कता बढ़ाई जा रही है। उन्होंने अस्तल पुलिस चौकी प्रभारी तेज ङ्क्षसह को स्टेट बैंक की मंडी शाखा के बाहर बोर्ड लगाकर पुलिस कर्मियों की तैनाती के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि दोनों घटनाओं का एक-दूसरे से संबंध तो नहीं है, इस एंगल से भी जांच की जा रही है। जिला अस्पताल में डा. पुष्पेंद्र यादव ने मेडिकल किया।

14 जून को हुआ था पहला एसिड अटैक : लाइनपार गांधीनगर में रहने वाली 32 वर्षीय शिवकांती पत्नी मुकेश कुमार पड़ोस की मुंहबोली भाभी संग साड़ी खरीदने के लिए पक्की सराय पर लगने वाले फड़ पर आई हुई थी। जब वह साड़ी पसंद कर रही थी, तभी अचानक पीछे से किसी ने उसके ऊपर तेजाब फेंक दिया। तेजाब के असर से कमर के नीचे और दाएं हाथ की बीच की अंगुली पर फफोले पड़ गए। शिवकांती छटपटाते हुए चिल्लाने लगी तो आसपास के लोगों ने तत्काल एक दुकान से मैक्सी खरीदकर उसके कपड़े बदलवाए थे। तब महज 24 घंटे से भी कम वक्त में पूरी की गई जांच में पुलिस ने एसिड अटैक को नकार दिया था। तब जांच रिपोर्ट में ऐसा माना गया कि परीक्षण में जलने की वजह सस्पेक्ट एसिड (टॉयलेट क्लीनर व बैटरी में प्रयोग होने वाले पदार्थ) के कारण मामूली चोट आयी है। जांच रिपोर्ट में कयास लगाया गया कि बाजार में भीड़ भाड़ होने के कारण किसी अन्य व्यक्ति द्वारा ले जाए जा रहे टॉयलेट क्लीनर अथवा बैटरी का तेजाब कपड़ों पर गिर जाने से महिला को आंशिक रूप से जलना पाया गया है।

संयोग या साजिश : शहर का व्यस्ततम कपड़ा बाजार पक्की सराय। 10 दिन के अंतराल में दो महिलाएं एसिड अटैक की शिकार। दोनों घटनाएं एक सी। दुकान पर साड़ी खरीदते वक्त पीछे से एसिड अटैक से कमर पर जलन का अहसास। एसिड अटैक दोपहर बाद ही। बाजार में अफरा-तफरी, मेडिकल, जांच और कार्रवाई का भरोसा और फिर सबकुछ शांत। भले ही एक बारगी दोनों घटनाओं की समानता को संयोग मान भी लिया जाए, लेकिन यह तय है कि पिछली घटना से सबक नहीं लिया गया। पिछली घटना की जांच में तह तक जाने की जरूरत न समझे जाने की वजह से दूसरी बार एसिड अटैक के पीछे साजिश की बू महसूस की जाने लगी है। यह बू व्यावसायिक, विभागीय, मानसिक भी हो सकती है।

पूरी ईमानदारी से हो पर्दाफाश : व्यापारी नेता अनंत प्रताप अग्रवाल ने कहा कि घटना हो जाना कोई बड़ी बात नहीं, घटना के बाद घटना का शीघ्र पूरी ईमानदारी से पर्दाफाश होना और अपराधियों को सजा मिले यह जरूरी है। पिछली घटना का पर्दाफाश न होने से अपराधियों को बढ़ावा मिलता है। शहर में ट्रैफिक व्यवस्था को लागू किया जाए, ताकि बाजारों में अनावश्यक वाहन न घुस सकें।

 

Edited By: Akash Dwivedi

कानपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!