This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

किसानों ने राज्यमंत्री से जमीन बचाने को लगाई गुहार

संवाद सहयोगी, छिबरामऊ : नए बाइपास के लिए भूमि अधिग्रहण को जमीन चिह्नित किए जाने का सर्वे शुरू

JagranThu, 05 Jul 2018 05:00 PM (IST)
किसानों ने राज्यमंत्री से जमीन बचाने को लगाई गुहार

संवाद सहयोगी, छिबरामऊ : नए बाइपास के लिए भूमि अधिग्रहण को जमीन चिह्नित किए जाने का सर्वे शुरू होने के बाद से ही किसान इसके विरोध में लामबंद हो गए। ज्ञापन देने के बाद धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों ने अब राज्यमंत्री के आवास पर दस्तक दी। राज्यमंत्री से मिलकर पुराने स्थान पर ही बाइपास निकाले जाने और उनकी जमीन को बचाए जाने की फरियाद की।

गुरुवार सुबह लखनऊ जाते समय राज्यमंत्री अर्चना पांडेय मोहल्ला बजरिया स्थित अपने आवास पर पहुंचीं। इसकी जानकारी जैसे ही जमीन के बचाव में लगे ग्राम रामपुर बैजू, अकबरपुर, निगोह खास, गुसाइनपुर, गिरधरपुर, लालकपुर, निगोह रायपुर, कुंवरपुर बनबारी, नगला लक्षीराम व बहबलपुर आदि के किसानों को हुई, तो सैकड़ों लोग उनसे मिलने के लिए वहां पहुंच गए। इसके बाद किसानों ने राज्यमंत्री को बताया कि वह सभी अपनी जमीन में फसल उगाकर परिवार का पालन पोषण करते हैं। इसके अलावा भरण पोषण का और कोई साधन नहीं है। छिबरामऊ में पहले से ही बाइपास बना हुआ है। इसकी आराजी पर कुछ हाई प्रोफाइल लोगों ने टीनशेड व खोखा रख लिए हैं और दुकानें आदि का भी अनाधिकृत रूप से निर्माण करवा लिया है। इस बाइपास की आराजी का स्वामित्व पहले से ही सरकार के पास है। ऐसे में बेहद कम आराजी सरकार को क्रय करनी पड़ेगी। इसके लिए संबंधित लोगों को नोटिस भी जारी किए जा चुके हैं। प्रस्तावित बाइपास के लिए सरकार को आराजी अधिग्रहण करने में काफी रुपये का भुगतान करना पड़ेगा। इसके साथ ही गरीब किसानों की रोजी रोटी का जरिया भी छिन जाएगा। किसान भूखों मरने के कगार पर पहुंच जाएंगे। छिबरामऊ नगर का विकास पुराने बाइपास को नया रूप देने से ही संभव है। ऐसे में प्रस्तावित नए बाइपास की योजना को किसानों के हित में निरस्त कराए जाने की आवश्यकता है। राज्यमंत्री अर्चना पांडेय ने बताया कि पहले नगर के एक पक्ष ने अपनी समस्या बताई थी। अब किसानों ने अपनी परेशानी से अवगत कराया है। दोनों की समस्या से परिवहन मंत्रालय को अवगत कराया जाएगा। इसके बाद लिए गए निर्णय के आधार पर विभाग अपनी कार्रवाई करेगा। उन्होंने किसानों को मदद का भरोसा दिया। इस दौरान किसान चंद्रप्रकाश, दीनदयाल, प्रभूदयाल, कामता प्रसाद, कल्यान ¨सह, रामवीर ¨सह, अतर ¨सह, नरेंद्र, फेरू, विनोद, उमेश, मुकेश, कुंअर ¨सह, गोरेलाल सहित कई किसान मौजूद रहे।

कन्नौज में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!