बबीना में भाजपा को झटका, पूर्व ़िजला पंचायत अध्यक्ष ने सपा का दामन थामा

फोटो : 29 एसएचवाई 1 ़िजला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष का पाटी में स्वागत करते पूर्व सांसद डॉ. चन्द्रपा

JagranPublish: Sat, 29 Jan 2022 07:48 PM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 08:41 PM (IST)
बबीना में भाजपा को झटका, पूर्व ़िजला पंचायत अध्यक्ष ने सपा का दामन थामा

फोटो : 29 एसएचवाई 1

़िजला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष का पाटी में स्वागत करते पूर्व सांसद डॉ. चन्द्रपाल सिंह यादव।

:::

0 घुघुवा गाँव में दादा की राजनैतिक विरासत सँभाली

0 स्वामी प्रसाद मौर्य के करीबी हैं मनोज कुशवाहा

झाँसी : विपक्षी खेमे में सेन्धमारी कर रही भाजपा को बबीना में करारा झटका लगा है। यहाँ पूर्व ़िजला पंचायत अध्यक्ष मनोज कुशवाहा ने भाजपा छोड़ समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया है। स्वामी प्रसाद मौर्य के करीबी माने जाने वाले मनोज की बरुआसागर क्षेत्र में अच्छी पकड़ है तो समाज में भी प्रतिष्ठित परिवार की छवि है।

जनपद की चारों सीट पर इस समय दल-बदल की सियासत ते़ज हो गई है। भाजपा लगातार सपा व बसपा खेमे में सेन्ध लगा रही है, लेकिन बबीना विधानसभा सीट पर पार्टी अपने ही कुनबे को सुरक्षित नहीं रख पाई। यहाँ पूर्व ़िजला पंचायत अध्यक्ष मनोज कुशवाहा ने भाजपा को छोड़ सपा का दामन थाम लिया है। मनोज कुशवाहा का परिवार क्षेत्र में काफी प्रतिष्ठित माना जाता है। उनकी माँ अध्यापिका तो पिता सरकारी अधिकारी रहे हैं। उनके दादा घुघुवाँ गाँव से प्रधान रहे हैं और बाद में मनोज ने दादा की विरासत सँभाली और घुघुवा से प्रधान रहे। इसके बाद वह बहुजन समाज पार्टी में आ गए और फुटेरा-बरुआसागर से ़िजला पंचायत सदस्य चुने गए। मनोज सपा सरकार में ़िजला पंचायत सदस्य चुने गए, लेकिन जब प्रदेश में बसपा की सरकार आ गई तो ़िजला पंचायत अध्यक्ष राकेश पाल को हटा दिया गया और सरकार ने मनोज कुशवाहा को ़िजला पंचायत अध्यक्ष बना दिया। पिछले विधानसभा चुनाव से पहले तत्कालीन केन्द्रीय मन्त्री उमा भारती ने मनोज कुशवाहा को भाजपा में शामिल कराया था, लेकिन अब उनका भाजपा से मोहभंग हो गया और उन्होंने समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। बबीना की राजनीति में दखल रखने वालों का मानना है कि मनोज के पाला बदलने से बबीना विधानसभा सीट पर भाजपा को नुकसान हो सकता है।

जैन समाज ने सपा प्रत्याशी यशपाल को दिया समर्थन

विपक्ष की जातीय राजनीति में घिरे बबीना विधायक राजीव सिंह पारीछा की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। लोधी वोट को अपने पाले में रखने का संघर्ष कर रहे भाजपा प्रत्याशी के लिए अब परम्परागत जैन समाज के वोट ने भी सपा प्रत्याशी यशपाल सिंह यादव को समर्थन देने का संकल्प लिया है। बबीना में जैन समाज के वरिष्ठ नागरिक ज्ञानचन्द जैन, अभिषेक जैन, विक्की जैन, सोनू जैन, अखिलेश जैन आदि ने जनसम्पर्क के दौरान यशपाल सिंह को समाज का समर्थन मिलने की बात कही।

सपा लोहिया वाहिनी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश पाल भी भाजपा के सम्पर्क में

0 सपा को बुन्देलखण्ड में लग सकता है बड़ा झटका

0 अखिल भारतीय युवा पाल महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं राकेश

0 दो बार ़िजला पंचायत अध्यक्ष भी रहे

झाँसी : अपनों की बगावत बैकफुट पर आई समाजवादी पार्टी को एक और बड़ा झटका लगने के संकेत मिले हैं। अब लोहिया वाहिनी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश पाल के साइकिल से उतरने की चर्चाएं चल रही हैं। बताया जा रहा है कि राकेश इस समय भाजपा के सम्पर्क में हैं और अगले 1-2 दिन में भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं। अखिल भारतीय युवा पाल महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश पाल के पाला बदलने से सपा को बुन्देलखण्ड में नु़कसान उठाना पड़ सकता है।

प्रदेश स्तर पर कई बड़े चेहरों को सपा में शामिल कराकर एकाएक फ्रण्ट फुट पर आई समाजवादी पार्टी को अब स्थानीय स्तर पर अपने ही परेशान करने लगे हैं। यदि झाँसी की बात करें तो यहाँ पहले एमएलसी रमा निरंजन ने सपा को अलविदा कहकर भाजपा का दामन थाम लिया था तो हाल ही में पूर्व विधायक मऊरानीपुर डॉ. रश्मि आर्य ने भी साइकिल की सवारी छोड़ दी। भाजपा में 2 दिन रहने के बाद रश्मि आर्य ने अपना दल की सदस्यता ली और मऊरानीपुर से टिकिट ले लिया। पर, समाजवादी पार्टी में बगावत का दौर अभी थमा नहीं है। अब समाजवादी पार्टी की लोहिया वाहिनी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश पाल के भाजपा में जाने के संकेत मिले हैं। बताया गया है कि राकेश पाल इस समय भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के सम्पर्क में हैं और कभी भी उनके पार्टी में शामिल होने की घोषणा की जा सकती है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम