This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

जैविक खेती अपनाकर बढ़ाई दोगुनी आय

जागरण संवाददाता, केराकत (जौनपुर): प्रकृति की मार से जहां खेती अभिशप्त मानी जाती है वहीं ए

JagranTue, 19 Dec 2017 05:21 PM (IST)
जैविक खेती अपनाकर बढ़ाई दोगुनी आय

जागरण संवाददाता, केराकत (जौनपुर): प्रकृति की मार से जहां खेती अभिशप्त मानी जाती है वहीं एक किसान ने जैविक उवर्रकों व आधुनिक तकनीक अपनाकर कम लागत में दोगुनी कमाई बढ़ा ली है। लहलहाती गन्ने की फसल देखने जहां दूर-दूर से लोग आते हैं वहीं उन्नति बीज की आपूर्ति के साथ लोगों को खेती का गुर भी सिखा रहे हैं। हम बात कर रहे पूरनपुर गांव निवासी माडल किसान रामजपित ¨सह की जो युवा बेरोजगारों के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गए हैं।

रामजपित ¨सह ने बताया कि प्रतिवर्ष लगभग सात से 15 एकड़ खेत में गन्ने की खेती करते हैं। फसल बोआई से पूर्व ही जैविक व हरी खादों का प्रयोग करते हैं। अच्छी प्रजाति का बीज सुल्तानपुर व गाजीपुर जिले से लाकर बोआई करते हैं। जिससे पैदावार अधिक होती है। फसल तैयार होने पर गन्ने की फसल की लंबाई लगभग 10 से 12 फुट, वजन लगभग तीन से चार किलो के बीच होता है। फसल तैयार होने पर उसे गन्ने मिल पर भेज दिया जाता है।

उन्होंने कहा कि अच्छी फसल के लिए मिट्टी की जांच समय-समय पर करवाना आवश्यक है। जांच से यह पता चल जाता है कि मृदा में किस पोषक तत्व की कितनी जरूरत है। उसी अनुसार उर्वरक डालने से निश्चित पैदावार बढ़ जाएगी। श्री ¨सह ने दैनिक जागरण के आधुनिक अन्नदाता अभियान के तहत मृदा परीक्षण का प्रशिक्षण देने की पहल को सराहा। कहा कि इससे निश्चित ही किसानों में जागरूकता आएगी।

रामजपित ¨सह ने बताया कि आजकल किसान छुट्टा पशुओं व घड़रोजों से परेशान हैं। ऐसे में गन्ने की फसल लाभदायक है जिसे घड़रोज व छुट्टा पशु लगभग न के बराबर नुकसान करते हैं।

जौनपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!