पुलिस लाइन में बनाया 15 बेड का आइसोलेशन वार्ड

दूसरी डोज के अलावा फ्रंटलाइन वर्करों को बूस्टर डोज दी गई- पुलिस लाइन में पुलिस फेमिली वेलफेयर एसोसिएशन की कार्यशाला।

JagranPublish: Fri, 21 Jan 2022 04:49 AM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 04:49 AM (IST)
पुलिस लाइन में बनाया 15 बेड का आइसोलेशन वार्ड

जासं, हाथरस : हाथरस पुलिस फेमिली वेलफेयर एसोसिएशन 'वामा सारथी' के तत्वावधान में पुलिस लाइन में कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें कोविड-19 संक्रमण से बचाव व रोकथाम के लिए जागरूक किया गया। बताया गया कि पुलिस लाइन में 15 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है।

एसोसिएशन की अध्यक्ष तन्वी मलिक जायसवाल ने कहा कि कोरोना वायरस की तीसरी लहर ने चिंता बढ़ा दी है। सभी पुलिसकर्मियों व उनके परिजनों को जागरूक होना आवश्यक है। जिन पुलिसकर्मी व उनके स्वजन को कोरोना की दूसरी डोज लगाई गई। फ्रंट लाइन वर्कर को 'बूस्टर डोज' लगवाने को कहा गया। अध्यक्ष ने बताया कि पुलिस परिवार के लिए पुलिस लाइन में 15 बेड का 'आइसोलेशन वार्ड' भी बनाया गया है, जिसमें सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं। सभी को डाक्टर की टीम द्वारा बताए गए उपायों को गंभीरता से पालन करने के लिए कहा गया। तीसरी लहर से घबराना नहीं है, लेकिन सतर्कता जरूरी है।

कार्यशाला के दौरान क्षेत्राधिकारी पुलिस लाइन डा. आनंद कुमार, प्रतिसार निरीक्षक बिहारी सिंह यादव, प्रभारी निरीक्षक महिला थाना विपिन चौधरी व जिला चिकित्सालय से डा. ज्ञानेंद्र सिंह के अलावा पुलिस परिवार की महिलाएं मौजूद रहीं।

छह वर्षीय मासूम व किशोरी

सहित आठ कोरोना संक्रमित

फोटो-34

संसू, सहपऊ : कस्बा व क्षेत्र के विभिन्न गांवों में हो रही जांच के बाद कोरोना संक्रमित पाए जा रहे हैं। अब छह वर्षीय बच्चे एवं तेरह वर्षीय किशोरी सहित क्षेत्र के विभिन्न गांवों में आठ लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। सहपऊ के मोहल्ला बजरिया का 40 वर्षीय युवक, नई बस्ती की 32 वर्षीय महिला, गांव नगला मियां का छह वर्षीय बालक, गांव बुढ़ाइच में एक ही परिवार की 40 वर्षीय महिला एवं 20 वर्षीय युवती, गांव नगला चक्की में तेरह वर्षीय किशोरी, गांव शेरपुर में 35 वर्षीय युवक तथा गांव थरौरा के 60 वर्षीय बुजुर्ग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इन सभी को होम आइसोलेट कर दिया गया है। सभी को कोविड मेडिसिन किट दी गई है। खांसी, जुकाम व बुखार को

हल्के में न लें, कराएं जांच

जासं, हाथरस: कोरोना संक्रमण के चलते टीबी, मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी समस्याओं से ग्रसित रोगियों को विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है, क्योंकि मधुमेह और टीबी जैसी बीमारियां होने से रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। ऐसे लोगों को कोई भी संक्रमण आसानी से अपनी गिरफ्त में ले सकता है। बेहतर प्रतिरोधक क्षमता के लिए खानपान पर विशेष ध्यान दें। घर पर बना खाना ही खाएं। हरी सब्जियां, सलाद और दालों को अपने खानपान में नियमित रूप से शामिल करें और बाहर निकलने से बचें। यह कहना है नोडल अधिकारी अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. विजेंद्र सिंह का। उन्होंने कहा कि बहुत जरूरी काम होने पर ही घर से बाहर निकलें। इस मौसम में खांसी-जुकाम, बुखार होना आम बात है, लेकिन इन्हें सामान्य मानकर स्वयं उपचार करते रहना ठीक नहीं है। बेहतर हो कि कोविड जांच करा लें और फिर रिपोर्ट के अनुरूप व्यवहार करें।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept