This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

48 घंटे बाद भी बाबूलाल के कंधे से नहीं निकली गोली, भटक रहे परिजन Gorakhpur News

बाबूलाल को सोते समय किसी ने गोली मारकर घायल कर दिया था। घायल होने के बाद उन्‍हें मेडिकल कालेज लाया गया है। बाबूलाल के पुत्र महेंद्र का कहना है कि मेडिकल कालेज में चिकित्सक मेडिकोलीगल व एक्स-रे की बात कह रहे हैं।

Satish Chand ShuklaFri, 05 Feb 2021 01:07 PM (IST)
48 घंटे बाद भी बाबूलाल के कंधे से नहीं निकली गोली, भटक रहे परिजन Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। पिपराइच क्षेत्र के ग्राम हैदरगंज निवासी 65 वर्षीय बाबूलाल के दाहिने कंधे से 48 घंटे बाद भी गोली नहीं निकल सकी है। उनका मेडिकल कालेज में उपचार चल रहा है। घायल के साथ परिजन के अलावा पुलिस भी मौजूद है। बाबूलाल को सोते समय किसी ने गोली मारकर घायल कर दिया था। घायल होने के बाद उन्‍हें मेडिकल कालेज लाया गया है।

बाबूलाल के पुत्र महेंद्र का कहना है कि मेडिकल कालेज में चिकित्सक मेडिकोलीगल व एक्स-रे की बात कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले दो दिनों से वह मेडिकल कालेज व जिला चिकित्सालय का चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन ना ही मेडिकोलीगल हो पा रहा है और ना ही एक्स-रे हो पा रहा है। महेंद्र प्रापर्टी डीलिंग का कार्य करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि गुलरिहा थाना क्षेत्र के ग्राम भेलमपुर उर्फ भगवानपुर में उन्होंने अपनी मां के नाम से 1 एकड़ 78 डिस्मिल भूमि खरीदी थी। भूमि पर उनका कब्जा भी है, कुछ व्यक्ति फर्जी दस्तावेजों के जरिये भूमि को अपना बता रहे हैं। उन्होंने आशंका व्यक्त की कि दबाव बनाने के लिए वह उनके पिता पर गोली चला सकते हैं।  पिपराइच थानाध्यक्ष दिनेश कुमार मिश्र ने बताया कि तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलते ही मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

अब मेडिकोलीगल केस के एक्सरे भी यहीं होगा

बीआरडी मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. गणेश कुमार का कहना है कि अब मेडिकोलीगल केस के एक्सरे भी यहीं होगा। जिला अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है। जहां तक गोली निकालने की बात है तो कोई जरूरी नहीं है कि गोली निकाली जाय। शरीर में कुछ हिस्से ऐसे हैं, जहां जहां गोली पड़ी रहे तो भी कोई नुकसान नहीं होगा। मरीज की स्थिति सामान्य होने के बाद गोली निकाल दी जाती है। चिकित्सक के अनुसार ही इलाज होता है, न कि मरीज के स्वजनों के अनुसार। मरीज के स्वजन मेरे पास आपरेशन के लिए आये थे। 

गोरखपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!