हिस्ट्रीशीटर को ढील देने वाले थानेदार से एसएसपी ने मांगा स्पष्टीकरण

हिस्ट्रीशीटरों पर चौकस नजर रखने का निर्देश देने के बाद भी पवन ङ्क्षसह के घर पुलिस कभी नहीं गई। वीडियो वायरल होने के बाद अधिकारियों को उसके बारे में जानकारी हुई। एसएसपी ने गोरखनाथ थानेदार से स्पष्टीकरण मांगा है। बीट पुलिस अधिकारी को भी तलब किया गया है।

Navneet Prakash TripathiPublish: Tue, 18 Jan 2022 03:42 PM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 03:42 PM (IST)
हिस्ट्रीशीटर को ढील देने वाले थानेदार से एसएसपी ने मांगा स्पष्टीकरण

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। हिस्ट्रीशीटरों पर चौकस नजर रखने का निर्देश देने के बाद भी पवन ङ्क्षसह के घर पुलिस कभी नहीं गई। वीडियो वायरल होने के बाद अधिकारियों को उसके बारे में जानकारी हुई। एसएसपी ने गोरखनाथ थानेदार से इस संबंध में स्पष्टीकरण मांगा है। बीट पुलिस अधिकारी को भी तलब किया गया है।

सीएम योगी पर हिस्‍ट्रीशीटर की आपत्तिजनक टिप्‍पणी हो रही वायरल

गोरखनाथ के नथमलपुर में रहने वाले हिस्ट्रीशीटर पवन सिंह ने 14 फरवरी की रात को फेसबुक पर लाइव होकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। शनिवार को भाजपा आर्यनगर मंडल के अध्यक्ष सूर्य प्रकाश शर्मा की तहरीर पर गोरखनाथ पुलिस ने पवन ङ्क्षसह के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया, लेकिन दो दिन बाद भी आरोपित पुलिस की पकड़ से दूर है।

दो दिन से हो रही है हिस्‍ट्रीशीटर की तलाश

गोरखनाथ थाना व क्राइम ब्रांच की टीम दो दिन से लखनऊ में पवन सिंह को ढूंढ रही है। मामला संज्ञान में आने पर अधिकारियों ने छानबीन शुरू की तो पता चला कि गोरखनाथ पुलिस हिस्ट्रीशीटर की निगरानी ही नहीं कर रही थी। इंटरनेट मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद भी थानेदार अनजान बने रहे।

सत्‍यापन के लिए हिस्‍ट्रीशीटर के घर नहीं जाते थे पुलिसकर्मी

सत्यापन के लिए अभियान चलने के बाद भी थानेदार, हलका दारोगा के साथ ही बीट पुलिस अधिकारी उसके घर कभी नहीं गए। एसएसपी डा. विपिन ताडा ने बताया कि लापरवाही बरतने वाले गोरखनाथ थानेदार से स्पष्टीकरण मांगा गया है। उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई होगी।

सख्ती बढऩे पर हिस्ट्रीशीटरों के घर पहुंची पुलिस

गोरखनाथ पुलिस की लापरवाही सामने आने के बाद एसएसपी ने जिले के सभी थानेदारों के साथ वर्चुअल मीङ्क्षटग की। थाना व चौकी प्रभारियों से उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि चुनाव के दौरान अगर बदमाशों ने गड़बड़ी की तो संबंधित थाना व चौकी प्रभारी की जवाबदेही तय की जाएगी, इसलिए सभी लोग दो दिन के भीतर जेल से छूटे बदमाश व हिस्ट्रीशीटरों का सत्यापन कर लें। सख्ती बढऩे पर दो दिन से सभी थाना व चौकी प्रभारी बदमाशों का सत्यापन करने में जुटे हैं।

Edited By Navneet Prakash Tripathi

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम