गोरखपुर में 24 घंटे में 4.7 डिग्री सेल्सियस बढ़ा तापमान लेक‍िन गलन बरकरार

Today Gorakhpur Weather News Update गोरखपुर में 24 घंटे में अध‍िकतम तापमान 4.7 डिग्री सेल्सियस बढ़ गया लेक‍िन गलन बरकरार है। मौसम व‍िभाग ने अनुमान लगाया है क‍ि सोमवार को हल्‍की बार‍िश हो सकती है। इसके बाद तापमान में ग‍िरावट आएगी।

Pradeep SrivastavaPublish: Mon, 24 Jan 2022 10:23 AM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 10:23 AM (IST)
गोरखपुर में 24 घंटे में 4.7 डिग्री सेल्सियस बढ़ा तापमान लेक‍िन गलन बरकरार

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। मंगलवार से आसमान साफ होने की उम्मीद है। मौसम विशेषज्ञ कैलाश पाण्डेय ने पूर्वानुमान जताया कि सोमवार को जिले में आंशिक रूप से बादल छाए रह सकते हैं। कुछ स्थानों पर गरज-चमक के साथ हल्की वर्षा हो सकती है।

इतना रहेगा तापमान

इस दौरान अधिकतम तापमान 16 से 18 डिग्री सेल्सियस के करीब रह सकता है, जबकि न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस के करीब रह सकता है। नमी 75 से 96 प्रतिशत रह सकती है। हवा पूरब की तरफ चल सकती है। इसकी अधिकतम गति 5 से 15 किलोमीटर प्रति घंटे हो सकती है। सोमवार के बाद आसमान साफ रहने की संभावना है। बता दें रविवार की सुबह घने कोहरे की चपेट में रही। सुबह करीब 10 बजे के बाद हल्की धूप निकली। उसके बाद दिन भर सूरज का बादलों संग लुका-छिपी का खेल चलता रहा।

इतना बढ़ गया तापमान

बता दें पिछले 24 घंटे में अधिकतम तापमान में 4.7 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि हुई है। रविवार को दिन का अधिकतम तापमान 21.3 डिग्री सेल्सियस रहा। यह जनवरी के औसत तापमान से 0.7 डिग्री सेल्सियस कम है। न्यूनतम तापमान 12.3 डिग्री सेल्सियस रहा। यह जनवरी के औसत न्यूनतम तापमान से 3.4 डिग्री सेल्सियस अधिक है। जनवरी का औसत अधिकतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस व औसत न्यूनतम तापमान 8.9 डिग्री सेल्सियस है।

जनवरी का औसत तापमान

औसत न्यूनतम तापमान- 8.9 डिग्री सेल्सियस

औसत अधिकतम तापमान- 22 डिग्री सेल्सियस

गेहूं की फसल को मिलेगा लाभ

लगातार बारिश होने व गलन बढ़ने का गेहूं की फसल को लाभ मिलेगा। उप कृषि निदेशक संजय सिंह ने कहा कि सरसों की फसल को इससे नुकसान हो सकता है। सरसों पर माहों का प्रकोप लग सकता है। माहों का प्रकोप दिखे तो किसान तत्काल रसायन का छिड़काव करें। राजकीय उद्यान अधीक्षक अरुण कुमार तिवारी का कहना है कि बारिश से सब्जियों को भारी नुकसान हुआ है। यह आलू की खेती को सर्वाधिक नुकसान हुआ है। इसके अलावा लतादार न अन्य सब्जियों को भी बारिश से नुकसान पहुंचा है।

Edited By Pradeep Srivastava

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept