यू-ट्यूब के चक्‍कर में एडल्ट फिल्म बनाने वाले गिरोह के चंगुल में फंसी गोरखपुर की किशोरी

यू ट्यूट के फेर में गोरखपुर की एक युवती एडल्‍ट फ‍िल्‍में बनाने वाले ग‍िरोह के चंगुल में फंस गई। यू ट्यूब पर उसे मोबाइल नंबर म‍िला। नंबर के संपर्क में आने पर एडल्‍ट फ‍िल्‍म बनाने वाले ग‍िरोह के फेर में फंसकर युवती घर से भाग गई।

Pradeep SrivastavaPublish: Thu, 23 Jun 2022 02:52 PM (IST)Updated: Thu, 23 Jun 2022 03:21 PM (IST)
यू-ट्यूब के चक्‍कर में एडल्ट फिल्म बनाने वाले गिरोह के चंगुल में फंसी गोरखपुर की किशोरी

गोरखपुर, जागरण संवाददाता। ननिहाल में रहकर पढ़ाई कर रही किशोरी यू-ट्यूब पर एडल्ट फिल्म बनाने गिरोह के चंगुल में फंस गई। यू-ट्यूब के जरिए मिले मोबाइल नंबर पर कई माह तक उसकी चैटिंग व बात हुई। रुपये कमाने का झांसा देकर दो दिन पहले गिरोह की सदस्य उसे अपने साथ लेकर चली गईं। घर पर छूटे मोबाइल को चेक करने पर स्वजन को मामले की जानकारी हुई। नानी की तहरीर पर पिपराइच थाना पुलिस अज्ञात युवती पर अपहरण का मुकदमा दर्ज कर किशोरी की तलाश कर रही है।

कई ओर लड़क‍ियां हैं ग‍िरोह के चंगुल में

कुशीनगर जिले के कप्तानगंज क्षेत्र की रहने वाली 14 वर्षीय किशोरी की पिपराइच थानाक्षेत्र के एक गांव में ननिहाल है। यहीं रखकर वह पढ़ाई करती थी। नानी ने पिपराइच थानेदार को दी तहरीर में लिखा है कि 18 जून की रात में उनकी नींद खुली तो नतिनी गायब थी। खोजबीन करने पर पता नहीं चला। गांव की उसकी सहेली ने पूछने पर बताया कि रात में दो बजे उससे मिलने आई थी। हर माह लाखों रुपये कमाने और आराम की जिंदगी जीने की जानकारी देते हुए अपने साथ चलने के लिए कहने ली। मना करने पर यह कहते हुए अकेले निकल गई की गांव के बाहर कई लड़कियां हैं जो इंतजार कर रही हैं।

ऐसे हुई घटना की जानकारी

घटना की जानकारी होने के बाद नानी व परिवार के लोगों ने कमरे की तलाशी ली तो किशोरी का मोबाइल फोन मिला।जिसे चेक करने पर पता चला कि एक मोबाइल नंबर पर उसकी चैटिंग व बातचीत होती थी। स्वजन ने उस नंबर पर फोन किया तो काल रिसीव करने वाली युवती ने कहा कि परेशान न हो किशोरी हमारे पास है, उसे अपनी जिंदगी जीने दीजिए।

पुल‍िस ने दर्ज क‍िया मुकदमा

एसएसपी डा. विपिन ताडा ने बताया कि तहरीर के आधार पर अपहरण का मुकदमा दर्ज कर पिपराइच थाना पुलिस व सर्विलांस टीम किशोरी को तलाश रही है। जल्द ही उसे बरामद कर लिया जाएगा।

Edited By Pradeep Srivastava

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept