This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

गोरखपुर में पूर्व जिला पंचायत सदस्य पर फायरिंग, एक युवक की मौत Gorakhpur News

गोरखपुर के बड़हलगंज क्षेत्र के डवनाडीह गांव में रविवार की रात ब्रह्मभोज से लौट रहे पूर्व जिला पंचायत सदस्य श्याम नारायण यादव पर बदमाशों ने घात लगाकर फायरिंग की।

Pradeep SrivastavaMon, 05 Aug 2019 01:33 PM (IST)
गोरखपुर में पूर्व जिला पंचायत सदस्य पर फायरिंग, एक युवक की मौत Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। गोरखपुर के बड़हलगंज क्षेत्र के डवनाडीह गांव में रविवार की रात ब्रह्मभोज से लौट रहे   पूर्व जिला पंचायत सदस्य श्याम नारायण यादव पर बदमाशों ने घात लगाकर फायरिंग की। संयोग से वह बच गए लेकिन उनके साथ आए शिव मौर्य की गोली लगने से मौत हो गई और उनका भतीजा तथा एक अन्य युवक घायल हो गए हैं। घटना की वजह भूमि विवाद की पुरानी रंजिश बताई जा रही है। विवाद में चार साल पहले भी एक एक युवक की हत्या हो चुकी है।

डवनाडीह निवासी इंद्रासन यादव की माता जी का निधन हो गया था। रविवार को उनके ब्रह्मभोज में इंद्रासन यादव के चचेरे भाई और पूर्व जिला पंचायत सदस्य श्याम नारायण यादव भी आए हुए थे। उनके साथ भतीजा चंद्रशेखर उर्फ आजाद यादव व एक अन्य युवक भी था। बड़हलगंज क्षेत्र के ही कल्याणपुर मिश्रौली निवासी शिव मौर्य (30) और शैलेश यादव (32) भी ब्रह्मभोज में आए थे। रात में 10 बजे के आसपास खाना खाने के बाद श्याम नारायण यादव, भतीजे और साथ आए युवक के साथ घर लौट रहे थे।
घात लगाकर की फायरिंग
श्याम नारायण बाइक पर बीच में बैठे थे और उनका भतीजा पीछे। साथ आया युवक बाइक चला रहा था। शिव मौर्य और शैलेश यादव भी उसी समय एक बाइक से घर जाने के लिए निकले थे। अभी वे लोग इंद्रासन यादव के दरवाजे से निकले ही थे कि पहले से घात लगाए बदमाशों ने उन पर फायरिंग शुरू कर दी। इसमें शिव मौर्य की मौके पर ही मौत हो गई तथा आजाद यादव और शैलेश यादव घायल हो गए। आजाद यादव की हालत गंभीर है। पुलिस ने हमलावरों की एक बोलेरो और एक बाइक कब्जे में ले लिया है।

पुलिस के मुताबिक श्याम नारायण यादव के परिवार का डवनाडीह निवासी जवाहिर यादव के परिवार से भूमि संबंधी विवाद है। इसी रंजिश में वर्ष 2013 में हुई मारपीट में जवाहिर यादव के परिवार के गिरजेश के यादव की मौत हो गई थी। इसके बाद श्याम नारायण यादव ने गांव छोड़ दिया था और मधुपुर चौराहे पर घर बनवा कर परिवार के साथ रह रहे हैं।  पुलिस ने दूसरे पक्ष के कुछ लोगों को हिरासत में ले लिया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। फिलहाल तहरीर नहीं दी गई है।

गनर को छोड़ दिया था घर

पूर्व जिला पंचायत सदस्य श्याम नारायण मौर्य को सुरक्षा के लिए सरकारी गनर मिला हुआ है। ब्रह्मभोज में जाते समय गनर को उन्होने घर पर ही छोड़ दिया था। क्षेत्राधिकारी गोला सतीश चंद्र शुक्ल ने बताया कि हमले के समय गनर के साथ क्यों नहीं था,इसकी जांच होगी।
इलेक्ट्रिशियन था शिव
हमले मे घायल शैलेश यादव मधुपुर चौराहे पर  इलेक्ट्रॉनिक सामानों की दुकान चलाते हैं। शिव मौर्य, इलेक्ट्रशियन का काम करते थे। उनका शिव की दुकान पर आना जाना था। दोनो को ब्रह्मभोज मे जाना था। बातचीत कर उन्होंने शाम को ही एक साथ डवनाडीह जाने की बात तय कर ली थी। वहां से लौटते वक्त वे श्याम नारायन के साथ हो लिए और पूर्व जिला पंचायत पर हुए हमले की जद में आ गए।
अंधाधुंध फायरिंग से थर्राया इलाका
हमला करने वाले बदमाशों ने अचानक अंधाधुंध फायरिंग करनी शुर कर दी। रात के सन्नाटे में में हुई इस फायरिंग से पूरा इलाका थर्रा उठा। इस बीच पुलिस को दिए बयान में श्याम नारायण यादव ने भी तीन-चार राउंड गोली चलाने की बात स्वीकार की है। बताते हैं की जवाबी गोलीबारी के बाद ही हमलावर वहां से फरार हुए।
लोक सभा का चुनाव लड़ चुके हैं श्याय नारायण
इस साल हुए लोकसभा चुनाव में श्याम नारायण यादव गोरखपुर लोकसभा सीट से चुनाव मैदान में उतरे थे। हालांकि चुनावी रेस में वह काफी पीछे छूट गए थे। समाजवादी पार्टी से अलग हुए शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के टिकट पर वह चुनाव में उन्होंने अपनी दावेदारी पेश की थी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

गोरखपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!