This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Lockdown in Gorakhpur: हैलो डाक्टर : घर में ही करें हल्की-फुल्की एक्सरसाइज Gorakhpur News

दैनिक जागरण हैलो डाक्‍टर कार्यक्रम में विशेषज्ञ डाक्‍टरों के माध्‍यम से घर बैठे लोगों को निश्‍शुल्‍क परामर्श की सुविधा उपलब्‍ध करा रहा है। आप भी अपने बारे में ले सकते हैं जानकारी।

Satish ShuklaSat, 18 Apr 2020 07:29 AM (IST)
Lockdown in Gorakhpur: हैलो डाक्टर : घर में ही करें हल्की-फुल्की एक्सरसाइज Gorakhpur News

गोरखपुर, जेएनएन। दैनिक जागरण के लोकप्रिय कार्यक्रम हैलो डाक्टर में बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के सर्जरी विभाग असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ अभिषेक जीना मौजूद थे। विभिन्न बीमारियों को लेकर लोगों ने उनसे सवाल पूछे। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि लोग लॉकडाउन के नियमों का पालन करें। सुबह खाली पेट गुनगुना पानी पीएं। भाप लें और हल्की-फुल्की कसरत करें। अधिक सलाद का सेवन करें। सोने से पूर्व तेज कदमों से चलें।

सिर में सूजन होने पर इस दवा का करें इस्‍तेमाल

बेतियाहाता से शशि शंकर मिश्र ने कहा कि उनकी पत्नी सप्ताह भर पूर्व फिसल कर गिर गई थीं। सिर में सूजन है। हल्का-हल्का खून भी आ रहा है। बेहोशी, अंधेरापन नहीं है। डाक्‍टर जीना ने सलाह देते हुए कहा कि क्लैवेम 625, पैनटाप-40, लैक्टोविट का सेवन करें। सप्ताह भर बाद भी आराम नहीं मिलता है तो किसी चिकित्सक से मिलकर परामर्श लें।

सांस फूलने पर टीवी से रहें दूर

जबकि किरन तिवारी ने उनके सीने में दर्द है। सांस फूलती है। नींद नही आती है। समझ में नहीं आता क्‍या करें। उन्‍हें सुझाव दिया गया कि  कुछ दिनों तक भारी काम मत करिए। घर में ही गमछा या मास्क लगाकर काम करिए। घर के कार्य में पति व बच्चों का सहयोग लीजिए। सोने से 30 मिनट पूर्व मोबाइल व टीवी से दूर रहें। यदि कमर के पास रीढ़ की हडडी में दर्द रहता है तो यह रीढ़ की हड्डी दबी होने का संकेत है। गाबापेंटीन के साथ नार्टिप्लीन एक-एक गोली रात में लें। कैल्शियम की कोई दवा खाएं। लंबर बेल्ट का प्रयोग करें। दर्द के लिए टर्माडाल का प्रयोग करें। ओमिनी जेल लगाएं। आराम मिलेगा।

अगरबत्ती व धूपबत्ती जलाना बंद करिए, मिलेगा आराम

बशारतपुर से अशोक कुमार गुप्‍ता ने कहा कि उनकी नाक से अजीब-अजीब तरह की स्मेल आती है। समझ में नहीं आता कि इसके लिए क्‍या करें। उन्‍हें बताया गया कि पूजा करते समय अगरबत्ती व धूपबत्ती जलाना बंद कर दीजिए। धूआं नाक की कोशिकाओं का सीलिया तोड़ देता है। इसके लिए पूजा करते समय घी अथवा तिल के तेल का दीपक जलाएं। 90 दिनों तक जिंकोविट का सेवन करें। सब ठीक हो जाएगा। पीपीगंज से ईश्‍वरी त्रिपाठी ने कहा कि पत्नी को फालिज की दवा चलती है। खाना नहीं खा रही हैं। उल्टी महसूस होती है। डाक्‍टर जीना ने कहा कि ओनडेम एमडी सुबह शाम पांच दिनों तक दें। भूख बढ़ाने के लिए एरिस्टोजाइम दें। किसी भी तरह का जूस मत दें।

रात में कम भोजन करने की आदत डालिए

एक व्‍यक्ति ने कहा कि उसका पथरी का आपरेशन हुआ था। अब गैस की पीड़ा से परेशान हैं। इसके लिए क्‍या उपाय है। उन्‍हें सलाह दी गई कि लाल हरी मिर्च का सेवन बंद कर दीजिए। तेल का प्रयोग कम करिए। रात में थोड़ा कम खाने की आदत डालिए। इसी तरह से रामपुर बघौरा से चंद्रभान सिंह ने कहा कि 10-15 दिनों से रुक-रुक सांस फूलती है। उन्‍हें बताया गया कि 15 दिनों तक मोनटेयर एलसी सुबह-शाम प्रयोग करें। धूल से दूर रहें। मास्क का प्रयोग करें। सब ठीक जाएगा।

इन्होंने भी पूंछे सवाल

अंकुर श्रीवास्तव दिव्यनगर, कमलेश शास्त्रीनगर, गीता श्रीवास्तव बसारतपुर, विश्वनाथ चौधरी कौड़ीराम, राजेश्वरी बसारतपुर, विशाल गुप्ता राप्तीनगर, विजय शंकर पाण्डेय गोरखनाथ, अशोक कुमार जंगल कौडिय़ा, विष्णु मौर्या जंगल नकहा, कृष्ण मोहन वर्मा शाहपुर, ईश्वरी त्रिपाठी पीपीगंज, मैना सहजनवा आदि लोगों ने विभिन्‍न रोगों के बारे में बताया। डाक्‍टर जीना ने सभी को दवा बताई और बेहतर सलाह दिया।  

गोरखपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!