निजी स्कूलों में बने रेन वाटर हार्वेस्टिंग, सरकारी प्रतिष्ठान उदासीन

गाजीपुर सिटी रेलवे स्टेशन पर रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम नहीं बना है ऐसा कहना है स्टेशन अधीक्षक रमायण यादव का।

JagranPublish: Tue, 28 Jun 2022 08:27 PM (IST)Updated: Tue, 28 Jun 2022 08:27 PM (IST)
निजी स्कूलों में बने रेन वाटर हार्वेस्टिंग, सरकारी प्रतिष्ठान उदासीन

निजी स्कूलों में बने रेन वाटर हार्वेस्टिंग, सरकारी प्रतिष्ठान उदासीन

गाजीपुर : वर्षा का अमृत जल संचय के लिए प्रमुख निजी स्कूलों में रेनवाटर हार्वेस्टिंग की सुविधा है, जबकि कई सरकारी विभाग इसको लेकर उदासीन बने हुए हैं। दिन पर दिन घटते भूमिगत जल स्तर को लेकर सरकार गंभीर है। जिस गति से भूमिगत जल का दोहन हो रहा है, उस गति से भूमिगत जल भंडार रीचार्ज नहीं हो पा रहा है। कारण कि वर्षा का पानी जमीन के अंदर जाने के बजाय नदी-नालों में बह जा रहा है। इसके चलते दिन पर दिन जलस्तर गिरता जा रहा है। अगर ऐसे ही चलता रहा है पेयजल का संकट खड़ा हो जाएगा। ऐेसे में 300 वर्ग मीटर वाले सभी भवनों के लिए चार वर्ग मीटर का रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम अनिवार्य कर दिया है। शासन ने इसका गजट नोटफिकेशन जारी कर इस नियम का पालन करवाने को कहा है। इसका उल्लंघन पाए जाने पर पेनाल्टी लगाई जाएगी।

-----

बड़े स्कूलों में बना है रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम

: नगर के बड़े स्कूलों में रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाया गया है। इसमें सेंट जांस स्कूल, शाहफैज स्कूल, एमजेआरपी, लूर्दस बालिका कांवेन्ट इंटर कालेज, सनबीम स्कूल व रामदूत इंटरनेशन स्कूल आदि शामिल हैं। हालांकि ऐसे कई स्कूल हैं, जिन्होंने रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम नहीं बनवाया है। ऐसे लोगों को नोटिस जारी की गई थी।

-----

निर्माणाधीन अस्पतालों में बनेगा रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम

: जनपद में इस समय दो बड़े अस्पताल भवन बन रहे हैं। एक सीएमओ कार्यालय के सामने राजकीय मेडिकल कालेज का भवन और दूसरा पुराने जिला अस्पताल परिसर में जिला महिला अस्पताल का भवन। अभी दोनों बहुमंजिले भवनों का निर्माण अंतिम दौर में हैं। इसके बाद यहां रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाए जाएंगे। इसके लिए जगह चिह्नित किए गए हैं।

-----

शापिंग सेंटरों में नहीं हो रहा वर्षा जल संचय

- जनपद में बने दर्जन भर बड़े शापिंग सेंटरों में से अधिकतर में वर्ष जल संचय की कोई व्यवस्था नहीं है। यहां रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम नहीं लगाया जा रहा है। बड़े-बड़े बहुमंजिले भवन बना लिए गए हैं, लेकिन रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम के लिए जगह नहीं छोड़ी गई है। इसकी जगह कहीं पार्किंग बना दी गई है तो कहीं वह भी नहीं है। इसके लिए हर वर्ष उनकी छतों पर एकत्र हो रहा हजारों लीटर वर्ष जल बह जाता है।

------

: बड़े भवनों का नक्शा बिना रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम के पास नहीं किया जाता। साथ ही समय-समय पर उनकी जांच-पड़ताल भी की जाती है कि उन्हाेंने रेन हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाया कि नहीं। नहीं बनाने वालों को नोटिस जारी कर जुर्माना वसूला जाता है। - एके ओझा, जेई मास्टर प्लान।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept