संशोधित:::गैंगस्टर बोला, नोट देखकर मिलता चैन, इसीलिए करता हूं चोरी

जागरण संवाददाता गाजियाबाद जीआरपी ने गोल्डन टेंपल एक्सप्रेस ट्रेन में यात्रियों के मोबाइल चुराने वाले बदमाश और उसके साथी को गिरफ्तार किया है। दोनों से 13 मोबाइल बरामद हुए हैं जिनके आधार पर जीआरपी ने पांच मुकदमों का पर्दाफाश किया है। गिरफ्तार आरोपित बागपत के सिघावली अहीर में हिसावदा गांव का मूल निवासी प्रिस पाल उर्फ आंचल उर्फ गोरिल्ला और फीरोजाबाद के लाइनपार थाना क्षेत्र निवासी अवधेश सिंह है।

JagranPublish: Mon, 15 Nov 2021 06:12 PM (IST)Updated: Mon, 15 Nov 2021 06:24 PM (IST)
संशोधित:::गैंगस्टर बोला, नोट देखकर मिलता चैन, इसीलिए करता हूं चोरी

जागरण संवाददाता, गाजियाबाद: जीआरपी ने गोल्डन टेंपल एक्सप्रेस ट्रेन में यात्रियों के मोबाइल चुराने वाले बदमाश और उसके साथी को गिरफ्तार किया है। दोनों से 13 मोबाइल बरामद हुए हैं, जिनके आधार पर जीआरपी ने पांच मुकदमों का पर्दाफाश किया है। गिरफ्तार आरोपित बागपत के सिघावली अहीर में हिसावदा गांव का मूल निवासी प्रिस पाल उर्फ आंचल उर्फ गोरिल्ला और फिरोजाबाद के लाइनपार थाना क्षेत्र निवासी अवधेश सिंह है। प्रिस का कहना है कि उसे नौकरी नहीं पसंद हैं, क्योंकि इसमें माह में सिर्फ एक बार पैसे (वेतन) मिलते हैं। उसे रोज नकद पैसे चाहिए। प्रिस का कहना है कि वह किसी तरह का नशा नहीं करता, लेकिन नोट न देखे तो बेचैनी होती है। इसलिए मोबाइल चुराता है, जिन्हें बेचकर रोज पैसे मिलते हैं। मारुति के प्लांट में करता था काम : सीओ जीआरपी सुदेश गुप्ता ने बताया कि प्रिस मेरठ के मेडिकल थाना क्षेत्र में परिवार से अलग किराये के मकान में रहता है। प्रिस चोरी करता है और अवधेश वेंडर है, जो ट्रेन में यात्रियों को बहलाकर चोरी के मोबाइल बेच देता है। एक मोबाइल बेचने पर प्रिस उसे पांच सौ से एक हजार रुपये कमीशन देता है। प्रिस ने बताया कि वह पालीटेक्निक डिप्लोमा कोर्स के बाद मारुति के गुरुग्राम स्थित प्लांट में नौकरी कर रहा था। कोरोना महामारी को लेकर लागू लाकडाउन में नौकरी से निकाले जाने के बाद मेरठ में रहकर सब्जी बेचने लगा। मई, 2021 में हुए आइपीएल में उसने सट्टा लगाया और सब्जी बेचकर कमाए करीब 50 हजार रुपये हार गया। इसके बाद वह दिन में एक पार्किंग का काम संभालता और रात में चोरी करने लगा।

जेब कटने का बनाता था बहाना : एसओ जीआरपी सतीश कुमार ने बताया कि प्रिस को 2018 में भी गिरफ्तार किया था। उस पर गैंगस्टर लगाई गई थी। इससे वह 10 माह तक डासना जेल में बंद रहा था। प्रिस ने बताया कि वह हर माह 15-16 मोबाइल चुरा लेता है। एक मोबाइल ढाई से चार हजार रुपये में बिक जाता है। आधी रात के बाद दो बजे गोल्डन टेंपल एक्सप्रेस मेरठ स्टेशन पहुंचती है। यहां से वह बिना टिकट लिए ट्रेन में सवार होता है। इस समय अधिकांश यात्री सो रहे होते हैं। प्रिस कटी हुई जेब वाली पैंट पहनता है। अच्छी कद काठी और सैनिकों की तरह हेयर स्टाइल के कारण अधिकांश टिकट निरीक्षक उससे टिकट नहीं मांगते हैं। यदि कोई पूछता है तो कटी जेब दिखाकर कहता कि उसके साथ घटना हो गई है। प्रिस का कहना है कि कई यात्री अपना मोबाइल चार्जिंग पर लगाकर सो जाते हैं, तो कई की जेब से आसानी से मोबाइल निकल जाता है। मेरठ से दिल्ली के बीच वारदात कर वह सुबह आठ बजे तक मेरठ लौट जाता है। मोबाइल बेचते समय भी जेब कटने का बहाना बनाता था।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept