अखिलेश यादव और जयंत चौधरी की ज्वाइंट पत्रकार वार्ता से पहले आपस में भिड़े गाजियाबाद के स्थानीय नेता

UP Assembly Election 2022 समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी की संयुक्त प्रेस वार्ता से पहले वेदांता फार्म हाउस के गेट पर नेताओं के बीच धक्का-मुक्की का मामला सामने आया है।

Jp YadavPublish: Sat, 29 Jan 2022 11:47 AM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 12:03 PM (IST)
अखिलेश यादव और जयंत चौधरी की ज्वाइंट पत्रकार वार्ता से पहले आपस में भिड़े गाजियाबाद के स्थानीय नेता

गाजियाबाद [अभिषेक सिंह]। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी की संयुक्त प्रेस वार्ता से पहले ही शनिवार को गाजियाबाद में नेताओं के बीच धक्का-मुक्की की खबर है। मिली जानकारी के मुताबिक, गाजियाबाद वेदांता फार्म हाउस के गेट पर नेताओं के बीच धक्का-मुक्की हो गई, हालांकि इसमें किसी को घायल होने की जानकारी नहीं है। बताया जा रहा है कि समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के स्थानीय नेता जिस जगह पीसी होनी है वहां गेट के अंदर प्रवेश पाना चाहते हैं। इन कार्यकर्कताओं-नेताओं को सुरक्षाकर्मियों ने बाहर रोका तो आपस में ही धक्का-मुक्की कर बैठे।

गौरतलब है कि एक दिन पहले शुक्रवार को भी अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के एक कार्यक्रम में काफी हंगामा देखने को मिला था। बताया जा रहा है कि मेरठ में पत्रकार वार्ता के लिए पहुंचे अखिलेश यादव और जयंत चौधरी के साथ बड़ी संख्या में कार्यकर्ता भी पहुंच गए थे। इसके बाद स्थिति बिगड़ गई और धक्का-मुक्की शुरू हो गई। हालात बिगड़ने पर अखिलेश यादव के सुरक्षाकर्मियों ने मोर्चा संभाला और समर्थकों को बलपूर्वक हटाया। अब पूरे मामले का एक वीडियो भी इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है। जानकारी मिली है कि अखिलेश-जयंत की पत्रकार वार्ता में जबरन घुसने की कोशिश कर रहे कार्यकर्ताओं को पूर्व सीएम की सुरक्षा में तैनात जवानों ने ताबड़तोड़ कई थप्‍पड़ भी मारे, जिसके बाद हालात काबू में आए।

बताया जा रहा है कि मेरठ में पत्रकार वार्ता के दौरान अखिलेश यादव से मिलने के लिए कार्यकर्ता उनके पास आने लगे। इस पर सपा मुखिया की सुरक्षा में तैनात कमांडो ने कार्यकर्ताओं को रोकने की कोशिश की। जब वो नहीं माने तो सुरक्षाकर्मियों ने उनकी पिटाई शुरू कर दी। जिसके बाद वहां अफरा-तफरी मच गई। स्थिति को संभालने के लिए बाद में कार्यक्रम वाली जगह का गेट बंद करना पड़ा।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल गठबंधन कर चुनाव लड़ रहे हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर से लेकर गाजियाबाद तक अपनी पैठ रखने वाली राष्ट्रीय लोकदल के मुखिया जयंत चौधरी ने नोएडा और गाजियाबाद में कई कद्दावर प्रत्याशी मैदान में उतारे हैं। इनमें गुर्जर समुदाय से जुड़े अवतार सिंह भड़ाना भी हैं, जो जेवर विधानसभा सीट से रादोल-सपा के संयुक्त उम्मीदवार हैं। 

Koo App

गाजियाबाद में राष्ट्रीय लोकदल एवं समाजवादी पार्टी की संयुक्त प्रेस वार्ता! #पंडितअमरपालशर्मा #अमरपालआरहेहै #अबकीबारअमरपाल #अखिलेशआरहेहैं #बाईसमें_बाइसिकल #सपा #रालोद #JayantChaudhary #AkhileshYadav

View attached media content

- Amarpal Sharma (@amarpalsharmagzb) 29 Jan 2022

Koo App

सपा सरकार बनने पर समाजवादी कैंटीन, समाजवादी किराना स्टोर स्थापित किए जाएंगे। जहां गरीब श्रमिकों, राहगीरों, बेघरों को सस्ती दरों पर राशन और अन्य वस्तुएं मिल सकेंगी। इस कैंटीन में ₹10 में थाली की व्यवस्था की जाएगी।: माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष जी की प्रेस वार्ता, गाजियाबाद. #अमरपालआरहेहै #अबकीबारअमरपाल #अखिलेशआरहेहैं #पंडितअमरपालशर्मा #बाईसमें_बाइसिकल #सपा #रालोद #JayantChaudhary

View attached media content

- Amarpal Sharma (@amarpalsharmagzb) 29 Jan 2022

गौरतलब है कि आगामी 10 फरवरी को गौमबुद्धनगर, गाजियाबाद और हापुड़ की 11 विधानसभा सीटों पर प्रथम चरण के तहत मतदान होगा। 

एनसीआर की इन सीटों पर 11 फरवरी को होगा मतदान

  • गाजियाबाद
  • साहिबाबाद
  • लोनी
  • मोदीनगर
  • मुरादनगर
  • नोएडा
  • दादरी
  • जेवर
  • हापुड़
  • गढ़मुक्तेश्वर
  • धौलाना

ज्यादातर सीटों पर भाजपा का कब्जा

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ज्यादातर सीटों पर भारतीय जनता पार्टी ने कब्जा जमाया, लेकिन इस बार सपा और रालोद गठबंधन के चलते भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों को कड़ी चुनौती मिल सकती है। 

Edited By Jp Yadav

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept