This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

एनजीटी के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहीं जींस फैक्ट्रियां

सौरभ शुक्ल, लोनी ट्रॉनिका सिटी औद्योगिक क्षेत्र स्थित जींस रंगाई की फैक्ट्रियां राष्ट्रीय हरि

JagranMon, 04 Dec 2017 10:19 PM (IST)
एनजीटी के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहीं जींस फैक्ट्रियां

सौरभ शुक्ल, लोनी

ट्रॉनिका सिटी औद्योगिक क्षेत्र स्थित जींस रंगाई की फैक्ट्रियां राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के आदेशों की धज्जियां उड़ा रही हैं। ये फैक्ट्रियां अंधाधुंध भूजल दोहन कर लाखों लीटर पानी की बर्बादी कर रही हैं। वहीं, इन फैक्ट्रियों से निकलने वाला रसायनयुक्त पानी नगरीय व ग्रामीण क्षेत्र के वासियों के लिए मुसीबत बन गया है। स्थानीय लोगों की शिकायत पर अप्रैल 2017 में उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने कार्रवाई करते हुए 11 फैक्ट्रियों को नोटिस भेजकर जवाब भी मांगा था। हालांकि नोटिस के बाद कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

नियमों को दर किनार कर चल रही जींस रंगाई फैक्ट्रियां

उप्र राज्य औद्योगिक विकास निगम (यूपीएसआइडीसी) ट्रॉनिका सिटी के अप्रैल पार्क में करीब 50 जींस रंगाई फैक्ट्रियां संचालित हो रही हैं। इन फैक्ट्री संचालकों द्वारा सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की भी धज्जियां उठाई जा रही हैं। दिल्ली एनसीआर में भू-जल के दोहन पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध है। कोर्ट के आदेशों के मुताबिक यहां बो¨रग करने व सबमर्सिबल लगाने पर रोक है। जानकारों की माने तो ये फैक्ट्रियां प्रतिदिन कई हजार लीटर पानी का दोहन कर रही है।

केमिकल युक्त पानी क्षेत्रवासियों के लिए बन रहा मुसीबत

अप्रैल पार्क स्थित जींस रंगाई की फैक्ट्रियों से निकलने वाले दूषित व केमिकल युक्त जल से जावली, शकलपुरा, रिस्तल, महमूदपुर, भनेड़ा समेत कई गांव प्रभावित हैं। इन गांवों का पेयजल दूषित हो गया है। क्योंकि यहां से निकलने वाला दूषित पानी जावली नहर में गिरता है। इसके बाद ये यह दूषित पानी ¨हडन नदी में गिरता है। नहर का जल पीने से कई पशुओं की मृत्यु भी हो चुकी है। वहीं, ग्रामीणों की शिकायत के बाद प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जांच के दौरान गांवों का पानी भी दूषित पाया गया। इसके बाद 10 अप्रैल 2018 को इन 11 फैक्ट्रियों को नोटिस भेजकर जवाब मांगा था। वहीं, एनजीटी कोर्ट ने 2015 में दायर याचिका की सुनवाई करते हुए जुलाई माह में यूपीएसआईडीसी पर दो लाख रुपये प्रतिदिन जुर्माना लगाया था। इन सबके बावजूद भी यहां फैक्ट्री संचालकों पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ रहा है। ये फैक्ट्री आज भी बेधड़क नियमों को दर किनारे कर फैक्ट्रियां संचालित कर रहे है।

केंद्र सरकार के आदेशानुसार समस्या को लेकर विशेष जांच टीम का गठन किया गया है। टीम अपना काम कर रही है। जल्द ही समस्या का निस्तारण किया जाएगा।

- जीडी शर्मा, अधिशासी अधिकारी, यूपीएसआईडीसी ट्रॉनिका सिटी

Edited By Jagran

गाजियाबाद में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
Jagran Play

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

  • game banner
  • game banner
  • game banner
  • game banner