दुर्घटना के बाद लोगों ने नगर पालिका के ट्रैक्टर में लगाई आग

संवाद सहयोगी लोनी कोतवाली क्षेत्र की मोहल्ला गौर पट्टी स्थित निठोरा मार्ग पर मंगलवार दोपहर

JagranPublish: Tue, 30 Nov 2021 08:39 PM (IST)Updated: Tue, 30 Nov 2021 08:39 PM (IST)
दुर्घटना के बाद लोगों ने नगर पालिका के ट्रैक्टर में लगाई आग

संवाद सहयोगी, लोनी : कोतवाली क्षेत्र की मोहल्ला गौर पट्टी स्थित निठोरा मार्ग पर मंगलवार दोपहर कूड़ा डालकर आ रहे नगर पालिका के ट्रैक्टर ट्राली की चपेट में आने से तीन वर्षीय मासूम गंभीर रूप से घायल हो गई। स्वजन ने मासूम को उपचार के लिए दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में भर्ती कराया। घटना से गुस्साएं लोगों ने चालक की पिटाई कर उसे कमरे में बंधक बना लिया। गुस्साए लोगों ने ट्रैक्टर को आग के हवाले कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस और दमकल कर्मियों ने पानी डालकर आग पर काबू पाया। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। मोहल्ला गौरी पट्टी में इस्तकार पत्नी अर्शी, तीन वर्षीय बेटी इनाया और बेटे अली के साथ रहते है। मंगलवार सुबह वह पत्नी की जांच कराने के लिए निजी अस्पताल गए थे। वह बेटी को कुछ दूर स्थित भाई इसरार के घर छोड़ गए थे। इसरार ने बताया कि दोपहर बाद उनके घर लौटने पर छोटा भाई कामरान भतीजी को छोड़ने के लिए घर जा रहा था। तभी मासूम निठोरा मार्ग की ओर से अस्थाई डंपिग ग्राउंड में कूड़ा डालकर आ रहे नगर पालिका परिषद के ट्रैक्टर ट्राली की चपेट में आकर गंभीर रूप से घायल हो गई। घटना से गुस्साएं लोगों ने चालक की पिटाई कर ट्रैक्टर में आग लगा दी। चालक को लोगों से बचाकर कमरे में बंद कर दिया। सूचना पर पहुंचे दमकल कर्मियों ने पानी डालकर आग पर काबू पाया। कोतवाली प्रभारी ने बताया कि स्वजन ने चालक के खिलाफ तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। ट्रैक्टर को कब्जे में लेकर वाहन चालक को हिरासत में लिया गया है। घटनास्थल के आस पास लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से आग लगाने वाले आरोपितों की तलाश की जा रही है। उधर शहर में सफाई के लिए नियुक्त लायंस कंपनी के मैनेजर शिवम ने बताया कि चालक के साथ मारपीट करने और ट्रैक्टर में आग लगाने पर लोनी कोतवाली में अज्ञात लोगों के खिलाफ शिकायत की गई है।

लोगों में गुस्सा

लोगों का कहना है कि नगर पालिका परिषद द्वारा निठौरा मार्ग स्थित अस्थाई डंपिग ग्राउंड में लोगों के घर से निकलने वाला कूड़ा डाला जाता है। आरोप है कि चालक तेज गति में वाहन को लेकर निकलते है। पूर्व में चालकों को वाहन धीमी गति से चलाने के लिए कहा गया। अधिकारियों से शिकायत भी की गई लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। अधिकारी लोगों की शिकायत सुन लेते तो आज हादसा न होता।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept