डीएमई जमीन मुआवजा घोटाला: गाजियाबाद से लेकर बागपत- बुलंदशहर तक जुड़े हैं तार

अभिषेक सिंह गाजियाबाद दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस-वे जमीन मुआवजा घोटाला में आरोपितों के तार गाजि

JagranPublish: Sun, 22 May 2022 07:11 PM (IST)Updated: Sun, 22 May 2022 07:11 PM (IST)
डीएमई जमीन मुआवजा घोटाला: गाजियाबाद से लेकर बागपत- बुलंदशहर तक जुड़े हैं तार

अभिषेक सिंह , गाजियाबाद: दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस-वे जमीन मुआवजा घोटाला में आरोपितों के तार गाजियाबाद, दिल्ली से लेकर बुलंदशहर और बागपत से भी जुड़े हैं। जिला प्रशासन की जांच में यह तथ्य सामने आए हैं। इसके अलावा अभी भी कई मामले ऐसे हैं, जिनकी जांच की जा रही है। धोखाधड़ी की पुष्टि होने पर उन मामलों में भी एफआइआर दर्ज कराई जाएगी।

जिला प्रशासन की जांच में सामने आया कि फर्जीवाड़ा करने वाली अशोक सहकारी गृह निर्माण समिति रामेश्वरदास निवासी दरियागंज, दिल्ली ने बनाई थी। इसके साथ ही उन्होंने दो अन्य अशोक संयुक्त सहकारी समिति और अशोक सहकारी खेती समिति बनाई थी। जिसमें वह स्वयं और उनके परिवार के सदस्य मधुसूदन गुप्ता, शांति देवी, सत्या देवी, निर्मला देवी, दीपचंद, लाजवंती, ज्ञानचंद, श्रवण कुमार, धर्मपाल, कुसुमलता, शशि गुप्ता, प्रदीप गुप्ता, अरुण कुमार, सत्यपाल, रविद्र कुमार और विपिन सदस्य थे। इस समिति को आठ फरवरी 1999 को निरस्त कर दिया गया था। रसूलपुर सिकरोड़ा में रामेश्वरदास के पुत्र अशोक सहकारी गृह निर्माण समिति के सचिव अरुण कुमार ने 17 अक्टूबर 2014 को इमरान खान और हारुन निवासी कल्लूगढ़ी को दो बैनामे किए थे, जबकि वर्ष 2012 में जमीन के अधिग्रहण को लेकर 3डी नोटिस जारी कर दिया गया था। उस वक्त संबंधित जमीन के बैनामे पर रोक लगा दी गई थी। रसूलपुर सिकरोड़ा में तीन जून 2016 को अरुण कुमार ने कल्लूगढ़ी निवासी इदरीस, ताज मोहम्मद और मुस्तजाव खां के बेटे फतेह मोहम्मद और पत्नी किसमिस के नाम भी जमीन के बैनामे किए गए। जिस जमीन का फतेह मोहम्मद ने 66.07 लाख रुपये और किसमिस ने 7,640 रुपये का मुआवजा सन 2017 में लिया है। रसूलपुर सिकरोड़ा में ही अरुण कुमार गुप्ता ने 22 मई 2014 को गोल्डी गुप्ता निवासी सफदरजंग एन्क्लेव, दिल्ली के नाम जमीन का बैनामा किया। गोल्डी गुप्ता ने 87.40 लाख रुपये का मुआवजा ले लिया है। 12 जनवरी 2015 को अरुण कुमार ने रसूलपुर सिकरोड़ में ही स्थित जमीन रसूलपुर सिकरोड निवासी यूनुस अली, नफीस अहमद, मेहरबान, मोहम्मद जुबैर को बेची है। मटियाला गांव में इनके नाम किए बैनामे: अशोक सहकारी गृह निर्माण समिति के सचिव अरुण कुमार ने मटियाला गांव में 11 फरवरी 2016 को खसरा संख्या 512 की जमीन का बैनामा मुनेश देवी निवासी ग्राम काठा तहसील खेकड़ा जिला बुलंदशहर और रेणू चौधरी निवासी ग्राम मदनपुर तहसील खुर्जा जिला बुलंदशहर को किया था। 11 फरवरी 2016 को ही मटियाला गांव की जमीन का बैनामा निर्दोष कुमार निवासी ग्राम सदरपुर के नाम भी किया गया है। घोटाले की जांच में आए तथ्यों के आधार पर तीन एफआइआर जिला प्रशासन द्वारा दर्ज कराई जा चुकी है। अन्य मामलों में भी यदि धोखाधड़ी की पुष्टि होती है तो कार्रवाई की जाएगी। - ऋतु सुहास, अपर जिलाधिकारी प्रशासन

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept