ठेकेदार और भंडार नायक ने फर्जी चालान बना गायब कर दी 150 बोरी डीएपी

पकड़ा गया कालाबाजारी का खेल सोमवार को ओडिशा से आई थी 2700 मीट्रिक टन खाद दोनों के खिलाफ तहरीर।

JagranPublish: Thu, 21 Oct 2021 06:38 AM (IST)Updated: Thu, 21 Oct 2021 06:38 AM (IST)
ठेकेदार और भंडार नायक ने फर्जी चालान बना गायब कर दी 150 बोरी डीएपी

जागरण संवाददाता, फिरोजाबाद: ओडिशा से सोमवार को आई डीएपी खाद की आपूर्ति में ठेकेदार और भंडार नायक ने ही खेल कर दिया। फर्जी चालान बनाकर 180 बोरियों की कालाबाजारी कर ली गई। डीएम द्वारा कराई गई जांच में 1.80 लाख रुपये के सीधे गबन की बात सामने आने पर ठेकेदार के प्रतिनिधि और भंडार नायक के खिलाफ तहरीर दी गई है।

जिले में डीएपी खाद की किल्लत है। किसानों को खाद महंगे दामों पर खरीदनी पड़ रही है। छह अक्टूबर को कृभको की 2800 मीट्रिक टन खाद मंगाई गई थी, ऐनवक्त पर पीसीएफ के ठेकेदार ने इतनी खाद को वितरित करने से मना कर दिया। इसके बाद साधन सहकारी समितियों के कोटे का हिस्सा भी बाजार में बेचने की तैयारी कर ली गई। 'दैनिक जागरण' ने इस खेल का पर्दाफाश किया था। सहकारी समितियों का स्टाक खत्म होने पर इफको की 2700 टन डीएपी खाद और मंगाई गई।

ओडिशा से डीएपी खाद की यह रैक सोमवार दोपहर शिकोहाबाद पहुंची थी। ये पूरी खाद सहकारिता क्षेत्र को दी जानी थी, लेकिन इसमें भी ठेकेदार ने अधिकारियों की मिलीभगत से खेल कर दिया। साधन सहकारी समिति माड़ई में फर्जी चालान बनाकर 1200 बोरियों की आपूर्ति दर्शाई गई, जबकि हकीकत में वहां 1100 बोरियां ही पहुंचीं। इसी तरह सहकारी समिति उरावर में भी 50 बोरियां कम पहुंचीं।

डीएम के आदेश पर पीसीएफ के कार्यवाहक जिला प्रबंधक ने शिकोहाबाद थाने में ठेकेदार के प्रतिनिधि और पीसीएफ के भंडार नायक के खिलाफ बुधवार रात को तहरीर दी है। ------

इन समितियों पर नहीं पहुंची खाद:

बुधवार की दोपहर तक कनवारा, कोडर, जलोपुरा, मटसेना, सोफीपुर और सोफीपुर, सुराया में खाद नहीं पहुंची थी। जिले में 80 सहकारी समितियां हैं। -------

मंगलवार को खाद की आपूर्ति में गड़बड़ी की जानकारी मिली थी। जांच में पीसीएफ के ठेकेदार प्रतिनिधि रामबली और भंडार नायक राजेश कुमार द्वारा गड़बड़ी की बात सामने आई है। इन दोनों के खिलाफ एफआइआर के आदेश दिए हैं।

-चंद्र विजय सिंह, डीएम --------

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept