कंपनी संचालक, गुर्गों को पकड़ने बिहार और गाजीपुर जाएगी पुलिस

ठगी और मतांतरण का खेल

JagranPublish: Fri, 01 Jul 2022 04:01 AM (IST)Updated: Fri, 01 Jul 2022 04:01 AM (IST)
कंपनी संचालक, गुर्गों को पकड़ने बिहार और गाजीपुर जाएगी पुलिस

कंपनी संचालक, गुर्गों को पकड़ने बिहार और गाजीपुर जाएगी पुलिस

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : दिल्ली की ग्लेवे मार्केटिंग कंपनी में नौकरी का झांसा देकर ठगी और मतांतरण का खेल करने वाले संचालक और गुर्गों को खोजने में पुलिस का पसीना छूट गया, लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं कर सकी। अलबत्ता अब पुलिस बिहार प्रांत और गाजीपुर जिले में दबिश देने की रणनीति गोपनीय तरीके से तैयार कर रही है। स्वाट (स्पेशल वेपंस एंड टैक्टिक्स), सर्विलांस व एलआइयू (स्थानीय खुफिया इकाई) टीमें मुस्लिम इलाकों में सादी वर्दी में घूम-घूमकर जानकारी जुटाती रहीं। कचहरी के आसपास भी पुलिस मुस्तैद रही।

वाराणसी जिले के सिगरा थाने के चंदुआ हबीबपुर के सुधांशु चौहान की ने अगवा कर ठगी और मतांतरण कराने की रिपोर्ट दर्ज थी। इसमें कंपनी के संचालक एकलाख निवासी गया, बिहार और इसके गुर्गे अरमान अली निवासी कटवा चकफरद जिला गाजीपुर के साथ अज्ञात मुस्लिम मौलवी, अज्ञात मुस्लिम व्यक्ति आदि कर्मियों के बारे में जानकारी जुटाने के लिए स्वाट व एलआइयू की टीम पठान मोहल्ला आबूनगर, ईदगाह मैदान, लखनऊ बाईपास, सईद गार्डेन तुराब अली का पुरवा आदि मोहल्लों में घूमती रही। इस बीच पुलिस ने संचालक के परिचतों को भी उठाकर पूछताछ की लेकिन कोई सुराग हाथ नहीं लग सका।

सदर कोतवाल अमित कुमार मिश्र ने बताया कि ठगी और मतांतरण प्रकरण के हर गतिविधियों पर पुलिस टीमें नजर बनाए हुए हैं। कोई न कोई लोकेशन का ठोस साक्ष्य मिलने पर शीघ्र ही गिरफ्तारी की जाएगी।

...तो कोर्ट में सरेंडर अर्जी की रही अफवाह

विवेचक संदीप तिवारी की मानें तो गत दिनों किसी ने पुलिस को गलत सूचना देकर अफवाह फैला दी कि कंपनी संचालक एकलाख ने जरिये अधिवक्ता कोर्ट में सरेंडर अर्जी दाखिल कर दी है। इससे तीन-चार दिनों तक कोर्ट के बाहर पुलिस सादी वर्दी में मुस्तैद रही, लेकिन कोई गतिविधियां समझ में नहीं आई जिस पर जांच कराई गई तो पता चला कि अभी तक उसकी कोर्ट में कोई अर्जी ही नहीं दाखिल की गई।

कंपनी संचालक एकलाख और उसके साथियों के मोबाइल फोन बंद होने से लोकेशन ट्रैस नहीं होने पा रहा है। इससे अब पुलिस गैर प्रांत और गैरजनपद भी धरपकड़ को भेजी जा सकती है। इसके बाद में पुलिस की गठित तीन टीमें रणनीति बना रही हैं। शीघ्र ही इस पर कार्रवाई की जाएगी।

दिनेशचंद्र मिश्र, क्षेत्राधिकारी नगर।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept